मैच (6)
IPL (2)
PAK v WI [W] (1)
Pakistan vs New Zealand (1)
IRE-W vs THAI-W (1)
SA v SL (W) (1)

भारत और पाकिस्‍तान की प्रतिद्वंद्विता का एक अनोखा सफ़र

पिछले साल टी20 विश्‍व कप मैच के बाद दोबारा से भिड़ने को तैयार हैं दोनों टीम

भारत और पाकिस्‍तान के बीच की प्रतिद्वंद्विता जगजाहिर है  •  AFP via Getty Images

भारत और पाकिस्‍तान के बीच की प्रतिद्वंद्विता जगजाहिर है  •  AFP via Getty Images

एक समय ऐसा था जब भारत बनाम पाकिस्‍तान मैच को एक नज़रिये से देखा जाता था। इसने युद्धों और लड़ाइयों को देखा, फै़सले के दिन के तौर पर इसको देखा गया और आप कैसे इस लड़ाई में हार सकते हैं, ऐसे भी इसको देखा गया। वैसे 'पाकिस्‍तान को हराना' विश्‍व कप जीतने के तौर पर भी देखा गया।
आपने सुना भी होगा कि कैसे दोनों देशों के पूर्व खिलाड़ी, सरहदों के दोनों पार टीवी पर बोलते हैं और उसके बाद प्रशंसक उसको असलियत मान लेते हैं, ऐसे समय पर टीवी डिस्‍ट्रीब्‍यूटर्स अपने चैनलों की रकम बढ़ाते हैं और इसको जानने वाले लोग इस सर्विस का पूरा फ़ायदा उठाते हैं।
भले ही राजनीतिक परिदृश्य दोनों टीमों को द्विपक्षीय सीरीज़ में रोक ले, लेकिन तटस्थ स्‍थानों पर चीजे़ं बहुत अलग हैं।
अगर ग्राउंड ज़ीरो पर देखें कुछ मीसिंग है, लेकिन इसे उत्साह या उत्साह की कमी के तौर पर ग़लत नहीं माना जाना चाहिए। ब्याज़ असली है। टिकट 10 दिन से अधिक पहले बिक चुके हैं।
हालांकि, श्रीलंका बनाम अफ़ग़ानिस्तान मैच के लिए बातें अलग़ थी, क्‍योंकि आयोजक 11वें घंटे तक दुबई स्पोर्ट्स सिटी में रविवार के ब्लॉकबस्टर के लिए टिकट मांगने वाले प्रशंसकों को लुभाने की उम्मीद कर रहे थे।
भारत के उघोगपति चार घंटे के मजे़ के लिए चार्टर फ़्लाइट लेकर पहुंच चुके हैं। विशेष अनुरोधों को देखते हुए अतिथि क्षेत्रों में बदलाव किया गया है। आईसीसी अकादमी में प्रशिक्षण सत्र पूरी तरह से आयोजित किए गए हैं, यहां तक ​​​​कि आयोजकों ने रविवार को होने वाले मैच के लिए दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम के आसपास ख़ास तौर पर बंदोबस्‍त किए हैं।
ट्रेनिंग स्‍थान पर दोनों टीमों के लिए प्रशंसकों का सम्‍मान हैं लेकिन तब भी यह मुक़ाबला तो हमेशा से यादगार रहा है। इसके बावजूद भी रोहित शर्मा पाकिस्‍तानी प्रशंसकों के साथ तस्‍वीरें खिंचवाने आए। यह दूरी केवल 10 फ़ीट की थी लेकिन दूर से ही हाथ हिलाना एक अलग़ ही एहसास दे गया।
कोहली ने ज़रूर कम से कम 100 बल्‍लों पर ऑटोग्राफ़ दिया होगा, ऋषभ पंत ने भी गई सेल्‍फ़ी प्रशंसकों के साथ ली होंगी, बाबर आज़म ने भी कई प्रशंसकों से हाथ मिलाया होगा या दूर से हाय किया होगा। यह सब इसका हिस्‍सा था।
खिलाड़‍ियों के बीच भी देखें तो एक अलग़ ही माहौल था। केएल राहुल ने शाहीन शाह अफ़रीदी की चोट का हाल पूछा। कोहली और पाकिस्‍तान के बल्‍लेबाज़ी कोच मोहम्‍मद यूसुफ़ बाउंड्री के क़रीब बातचीत करते‍ दिखे। इसके अलावा पंत और मोहम्‍मद रिज़वान के बीच हंसी मज़ाक के बीच दोस्‍ताना मुलाकात एक अहम हिस्‍सा रही।
पत्रकार वार्ता में खिलाड़‍ियों के बीच मौजूदा माहौल की बातें उठी तो केएल राहुल ने कहा कि प्रतिद्वंदिता से भागा नहीं जा सकता है लेकिन तब भी जो अतीत में हुआ है वह इससे अलग़ है।
शादाब ख़ान से हल्के-फुल्के अंदाज़ में पूछा गया कि क्या कोहली अब डर पैदा करते हैं। शादाब ने हंसते हुए कहा, "वे (पूर्व क्रिकेटर) अब नहीं खेलते हैं, इसलिए उन्हें लगता है कि वह डर पैदा नहीं करते हैं। वह खेल के दिग्गज़ हैं, उन्होंने काफ़ी प्रदर्शन किया है। जब भी वह आते हैं, आप थोड़े डरे हुए होते हो क्योंकि वह एक बड़े खिलाड़ी हैं। मेरी दुआ है कि वह ज़ल्‍द ही शतक बना ले, लेकिन हमारे ख़‍िलाफ़ नहीं (हंसते हुए)।"
खिलाड़ी इस पल में मौके़ का फ़ायदा उठाना चाहते हैं। वे समझते हैं कि प्रचार ही सब है क्योंकि ये दोनों टीमें अब द्विपक्षीय क्रिकेट नहीं खेलती हैं। यह बहुत अच्छा है कि कोहली और रोहित पाकिस्तान के ख़‍िलाफ़ टेस्ट खेले बिना अपने करियर को समाप्त कर सकते हैं, ठीक वैसे ही यह बाबर और रिज़वान के साथ है। एक पूरी पीढ़ी इस मौके़ से चूक सकती है।
हालांकि एक बात साफ़ है। वर्तमान पीढ़ी के दोनों पक्षों के खिलाड़ी 'रिवेंज़ मैच' और 'करो या मरो' के संघर्ष और 'फ़ाइनल से पहले फ़ाइनल' के वर्षों में बनी धारणा को महसूस करते हैं, लेकिन अब यह वास्तविकता से बहुत दूर है। पिछले महीने ही बाबर ने कोहली का सोशल मीडिया पर समर्थन किया था।
कोहली पर उतना ही फ़ोकस बना हुआ है, जितना दोनों टीमों पर। नेट्स में हर शॉट को उनके चाहने वालों का समर्थन मिला है। जब भी लंबा शॉट लगता तो बस एक ही आवाज़ आती, 'कर दो विराट (कमऑन विराट)!'
इस बीच सोशल मीडिया पर चर्चा चल रही है कि कोहली को शतक लगाए अर्सा हो गया है। शायद यह 1009 या or 1010 दिनों तक पहुंच गया हो? अच्‍छा चलिए कोई दिक्‍कत नहीं, रविवार को कोहली अपना 100वां टी20 अंतर्राष्‍ट्रीय खेलने वाले हैं और वह तीनों प्रारूपों यह दर्जा हासिल करने वाले भारत के केवल दूसरे खिलाड़ी होंगे।
संक्षेप में कहा जाए तो यह एक कार्निवाल है। एक विशाल माहौल जहां कुछ भी हो सकता है। हमेशा की तरह आयोजक और सुरक्षाकर्मी इस बार भी सबसे व्यस्त थे। वह सुनिश्चित करना चाहते थे कि सब ठीक तो है। यह मैच तटस्थ स्थान पर हो सकता है, लेकिन व्यवस्थाओं के बारे में कुछ भी तटस्थ नहीं है। व्‍यवस्‍था उतनी ही सटीक है जितना इस दुनिया में भारत या पाकिस्तान के बीच खेले जाने वाले किसी भी मैच में होती।
तलाशी होगी, मेटल डिटेक्टर, थर्मल स्कैनर, एक्स-रे मशीन और बाक़ी सब कुछ होगा जिससे प्रशंसकों को डर लगता है, लेकिन भारत बनाम पाकिस्तान का मैच देखने के लिए बहुत कुछ सहना भी होता है। दुबई तैयार है। आप और हम भी, अब देखते हैं नतीज़ा क्‍या निकलता है।

शशांक किशोर ESPNcricinfo में सीनियर सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।