मैच (13)
IPL (2)
SA v SL (W) (1)
ACC Premier Cup (6)
Women's QUAD (4)
ख़बरें

डैरिल मिचेल : नाम याद रहेगा ना?

विश्व कप से पहले संयोग से बने ओपनर ने न्यूज़ीलैंड को कैसे पहली बार फ़ाइनलिस्ट बना दिया

डैरिल मिचेल कौन हैं? उनके पिता न्यूज़ीलैंड के प्रसिद्ध रग्बी टीम 'ऑल ब्लैक्स' के खिलाड़ी और कोच रह चुके हैं। डैरिल ख़ुद शीत काल में रग्बी खेलते थे लेकिन उनका सपना था ब्लैक कैप्स के लिए क्रिकेट खेलना।
वैसे सुपर स्मैश में वह सबसे बड़े फ़िनिशर हैं। न्यूज़ीलैंड के घरेलू टी20 प्रतियोगिता में पिछले पांच वर्षों में उनसे ज़्यादा छक्के किसी ने नहीं मारे। कॉलिन डी ग्रैंडहोम के चोटिल होने के बाद उन्हें 2021 के विश्व कप में मौक़ा मिलता है। उनका मूल चयन जिमी नीशम के साथ बतौर फ़िनिशर होता है।
टूर्नामेंट से पहले अभ्यास मैचों में संयोग से फ़िनिशर बन जाते हैं ओपनर। क्रीज़ से निकलकर वह वरुण चक्रवर्ती और मुजीब उर रहमान जैसे मिस्ट्री स्पिनर्स पर प्रहार करते हैं। लेकिन असली रहस्य तो डैरिल ख़ुद हैं।
न्यूज़ीलैंड के स्काई स्पोर्ट्स की संवाददाता और मार्टिन गप्टिल की पत्नी लौरा मक्गोल्डरिक को मिचेल बताते हैं कि सलामी बल्लेबाज़ी पर उतरने से पहले वह गप्टिल के साथ डिज़्नी की फ़िल्म 'फ़्रोज़न' के गाने गुनगुनाते हैं। इसके अलावा ओपनर डैरिल मिचेल के बारे में किसे क्या पता है? शायद ज़्यादा किसे भी नहीं!
इंग्लैंड टीम योजनाबद्ध टी20 क्रिकेट के उस्ताद हैं। डेवन कॉन्वे पारम्परिक लेग स्पिन के ख़िलाफ़ अधिक शक्तिशाली नहीं रहते और इसीलिए लियम लिविंग्स्टन उनके विरुद्ध ऐसी ही गेंदबाज़ी करते हैं। लेकिन आप इस विश्व कप से पहले टी20 में जिन्होंने ओपन ही नहीं किया था, उनके ख़िलाफ़ क्या योजना बना सकते हैं?
इंग्लैंड 166 की स्कोर का बचाव शानदार तरीक़े से कर रहा है। अपने टेस्ट मैच लेंथ के चलते क्रिस वोक्स, मार्टिन गप्टिल और केन विलियमसन को आउट कर चुके हैं। अपने बेहतरीन आउटस्विंगर से वह मिचेल को भी परेशान कर रहे हैं। दर्शकों के बीच बैठे मिचेल के माता-पिता भी यह देखकर तनाव में हैं।
मिचेल के तनाव का कारण है कि उन्हें बल्लेबाज़ी क्रम के शीर्ष पर पावरप्ले का फ़ायदा उठाने भेजा जाता है। लेकिन गेंद फ़्लडलाइट्स में भी अधिक तेज़ी से नहीं आ रही। ओस ने भी अपेक्षाकृत अंतर नहीं डाला है। मिचेल ज़ोर से बल्ला घुमा रहे हैं लेकिन बड़े शॉट नहीं लगा पा रहे हैं। मार्क वुड ने अपनी गति और उछाल से उन्हें बैकफ़ुट पर धकेल रखा है। आदिल रशीद को वह रिवर्स स्वीप करने की कोशिश करते हैं लेकिन रशीद चतुराई से अपनी गेंद की लंबाई छोटी कर देते हैं। लिविंग्स्टन के मिश्रित गेंदबाज़ी के चलते मिचेल ने 28 गेंदों पर सिर्फ़ 28 रन ही जोड़े हैं।
गप्टिल और विलियमसन के आउट होने के बाद कॉन्वे अच्छी बल्लेबाज़ी कर रहे हैं। लेकिन लिविंग्स्टन की गेंद पर वह स्टंप आउट हो जाते हैं। दर्शकों में उनकी मां सैंडी अपने सिर पर हाथ रख लेती हैं।
न्यूज़ीलैंड के समर्थक असहाय दिखते हैं, न्यूज़ीलैंड असहाय दिखता है। फिर वुड की एक शॉर्ट गेंद पर मिचेल प्रहार करते हैं। बाहरी किनारा कीपर के ऊपर छह रन के लिए जाता है। कैमरे पर मिचेल के माता-पिता भी स्तब्ध दिखते हैं।
इस दौरान नीशम चल पड़ते हैं। उनके बल्ले से तीन छक्के निकलते हैं और वह मिचेल से दबाव हटाने का काम करते हैं। अब मिचेल राहत की सांस लेते हुए सीधे बल्ले से बड़े शॉट लगाने का मन बना लेते हैं।
रशीद की एक छोटी लंबाई की गेंद को वह मिडविकेट के ऊपर छह रन के लिए भेजते हैं। मिचेल ख़ुद अपने अर्धशतक पर ज़्यादा भावना नहीं जताते हैं लेकिन स्टैंड्स में उनके वालिदैन अब मुस्कुराते हुए दिखते हैं।
दो गेंदों के बाद रशीद नीशम को आउट कर देते हैं। मुस्कुराहटें एक बार फिर ओझल हो जाती हैं। न्यूज़ीलैंड को अब 12 गेंदों पर 20 रन चाहिए होता है। वोक्स अपने आख़िरी ओवर की शुरुआत एक शॉर्ट गेंद से करते हैं। मिचेल क्रीज़ की गहराई से उस कटर को लॉन्ग-ऑन के ऊपर लपेट देते हैं। वोक्स अब एक तेज़ शॉर्ट गेंद का प्रयास करते हैं तो मिचेल उसे भी मिडविकेट के ऊपर मार देते हैं। अब उनकी माता ख़ुशी से झूम उठती हैं। डगआउट में ग्लेन फ़िलिप्स, शेन बॉन्ड और काइल जेमिसन उत्साह से हाथ उठाकर खड़े हो चुके होते हैं।
केवल नीशम और विलियमसन ना तो अपनी कुर्सी से हिले हैं और ना ही उनके चेहरे पर कोई शिकन आई है। उन्हें पता है कि क्रिकेट में कभी आप ना हारकर भी मैच में पराजित हो सकते हैं।
अब वोक्स अपनी दिशा और लंबाई पर भरोसा नहीं रख पा रहे हैं। अगली गेंद यॉर्कर होनी है लेकिन लेगसाइड फ़ुल टॉस के रूप में निकलती है। मिचेल उसे बाउंड्री में भेजते हैं और बंद मुट्ठी से मुक्का मारकर जश्न मनाते हैं। नॉन स्ट्राइकर छोर पर उनके नॉथर्न डिस्ट्रिक्ट्स के बचपन के दोस्त मिचेल सैंटनर हैं। दोनों गले मिलते हैं।
वहीं मिचेल के माता-पिता अन्य न्यूज़ीलैंड समर्थकों के साथ ख़ुशी मनाते हैं। कार्लोस ब्रैथवेट ने 2016 में 6, 6, 6, 6 के अविश्वसनीय सिलसिले से कोलकाता में इंग्लैंड के विश्व कप सपने को तोड़ा था। पांच साल बाद मिचेल के इस 6, 6, 4 ने भी कुछ ऐसा ही करते हुए न्यूज़ीलैंड को अपने पहली टी20 विश्व कप फ़ाइनल में भेज दिया है।
तो यह था क़िस्सा जब सफ़ेद गेंद क्रिकेट के शेर इंग्लैंड को सूपर स्मैश के बब्बर शेर ने ढेर कर दिया। डैरिल मिचेल : नाम याद रहेगा ना?

देवरायण मुथु ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं, अनुवाद ESPNcricinfo के वरिष्ठ सहायक संपादक और स्थानीय भाषाओं के प्रमुख देबायन सेन ने किया है