इंग्लैड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने घोषणा की है कि उन्होंने मध्य अक्टूबर में निर्धारित पाकिस्तान का दौरा रद्द कर दिया है। उस दौरे पर दो टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले जाने वाले थे।

इंग्लैंड की पुरुष और महिला टीम को 13 और 14 अक्टूबर को रावलपिंडी में दो डबल हेडर मुक़ाबले खेलने थे। इसके बाद महिला टीम को तीन वनडे मैचों की सीरीज़ के लिए मेहमान देश में रुकना था जबकि पुरुष टीम आगामी टी20 विश्व कप के लिए संयुक्त अरब अमीरात रवाना होने वाली थी।

हालांकि सुरक्षा कारणों की वजह से अंतिम समय पर न्यूज़ीलैंड द्वारा पूरी सीरीज़ के रद्द हो जाने के बाद इंग्लैंड के इस दौरे पर संकट के बादल छाए हुए थे। ईसीबी और न्यूज़ीलैंड के क्रिकेट बोर्ड (एनज़ेडसी) एक ही सुरक्षा सलाहकार की मदद लेते हैं। रविवार को पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) वसीम ख़ान ने ज़ोर देकर कहा था कि मुक़ाबले निर्धारित शेड्यूल के अनुसार खेले जाएंगे। हालांकि न्यूज़ीलैंड सीरीज़ के रद्द होने के बाद से ही इस दौरे पर संदेह बना हुआ था।

ईसीबी ने सोमवार को बयान जारी करते हुए पुष्टि की कि उसने "क्षेत्र की यात्रा के बारे में बढ़ती चिंताओं और मुश्किल परिस्थितियों से जूझ रहे खिलाड़ियों पर और दबाव न डालने को ध्यान में रखते हुए आगामी पुरुष और महिला टीम के दौरे पर नहीं जाने का फ़ैसला किया है।" उस बयान में विशेष रूप से सुरक्षा से जुड़ी चिंताओं का उल्लेख नहीं किया गया है।

नवनियुक्त पीसीबी अध्यक्ष रमीज़ राजा ने ईसीबी पर आरोप लगाया कि उसने उस समय अपनी क्रिकेट बिरादरी के एक सदस्य को निराश किया जब उसे मदद की सबसे ज़्यादा ज़रूरत थी।

ईसीबी के महिला क्रिकेट के प्रबंध निदेशक क्लेर कॉनर ने ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो को बताया, "यह बड़े दुख की बात है। हमने पिछले कुछ दिनों में दुनिया के उस हिस्से में चल रही गतिविधियों को ध्यान में रखते हुए काफ़ी चर्चा-विचारना की। यह पाकिस्तान क्रिकेट के लिए बेहद दुख की बात है। साथ ही यह उन प्रशंसकों के लिए भी निराशाजनक बात है जो अपने खिलाड़ियों का समर्थन करना चाहते हैं और अपने देश में लाइव अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के आयोजन के लिए उत्सुक हैं।"