ख़बरें

टी-20 विश्व कप के विकल्पों पर विचार करेगा आईसीसी

एक जून को होने वाली बैठक में इस बात पर भी विचार होगा कि क्या विश्व कप में टीमों की संख्या बढ़ाई जानी चाहिए?

Sourav Ganguly (BCCI president), Manu Sawhney (ICC chief executive) and Jay Shah (BCCI secretary) pose with the T20 World Cup

टी-20 विश्व कप ट्रॉफी के साथ बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली, सचिव जय शाह और आईसीसी के चीफ एक्जक्युटिव मनु सॉहनी  •  International Cricket Council

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) आगामी एक जून को एक महत्वपूर्ण बैठक करेगी, जिसमें 2021 में भारत में प्रस्तावित टी-20 विश्व कप के विकल्पों पर भी चर्चा होगी। भारत में कोरोना की स्थिति को देखते हुए इस बैठक में भारत से इतर विकल्पों पर विचार किया जा सकता है। हालांकि इस बैठक से टूर्नामेंट को लेकर किसी भी अंतिम घोषणा की संभावना बहुत कम ही है।
आपको बता दें कि भारत इस वक़्त कोरोना महामारी के घातक प्रकोप से जूझ रहा है। अप्रैल महीने में यहां पर रिकॉर्ड संख्या में कोरोना के मामले सामने आए और लोगों की मृत्यु भी हुई। आईपीएल भी इससे अछूता नहीं रहा और कुछ खिलाड़ियों व सपोर्टिंग स्टाफ के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उसे स्थगित करना पड़ा।
आईसीसी के इस मीटिंग से पहले बीसीसीआई भी 29 मई को अपने राज्य संघों व अन्य सदस्यों के साथ मीटिंग करेगा, जिसमें आईपीएल और टी-20 विश्व कप की संभावनाओं और योजनाओं पर विचार किया जाएगा। अगर टी-20 विश्व कप भारत में नहीं होता है, तो आईसीसी इसे संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में शिफ्ट कर सकती है।
अगर यह टूर्नामेंट यूएई शिफ्ट होता है, तब भी क्या मेज़बानी का अधिकार (होस्टिंग राइट्स) भारत के पास रहेगा? आगामी होने वाली बैठक में आईसीसी इस पर विचार करेगी। आपको बता दें कि आईसीसी इवेंट में होने वाले किसी एक मैच से मेज़बान को 2,50,000 से 3,00,00 अमेरिकी डॉलर का राजस्व आय होता है। बीसीसीआई किसी भी हाल में होस्टिंग राइट्स को अपने पास रखना चाहता है।
बीबीसी के एक पॉडकास्ट कार्यक्रम में बीसीसीआई की तरफ से नियुक्त टूर्नामेंट के निदेशक धीरज मल्होत्रा ने कहा कि विपरीत परिस्थितियों में अगर टूर्नामेंट भारत से बाहर यूएई में जाता है, तब भी हम अपने होस्टिंग राइट्स को नहीं खोना चाहेंगे।
इससे पहले जब श्रीलंकाई टीम पर हमले के बाद पाकिस्तान ने 2011 विश्व कप की मेज़बानी खो दी थी तब भी उसका होस्टिंग राइट्स बचा हुआ था। हालांकि इस होस्टिंग राइट्स को बचाने के लिए उन्हें संघर्ष करना पड़ा थी।
बीसीसीआई ने 16 देशों के इस टूर्नामेंट के लिए कुल 9 जगहों के चुनाव किए हैं, जहां पर अक्टूबर और नवंबर के मध्य मैच खेले जाएंगे। भारत में इस समय कोरोना की दूसरी लहर प्रकोप पर है, इसलिए अप्रैल में आईसीसी के स्टेडियम जांच दल का दौरा फिलहाल के लिए टल गया था।
कोरोना के कारण टी-20 विश्व कप की मेज़बानी लगातार प्रभावित होती रही है। पहले इसका आयोजन 2020 में ऑस्ट्रेलिया में होना था लेकिन महामारी के कारण इसे स्थगित कर इसकी मेज़बानी बारत को दे दी गई थी। इसके बदले में 2022 का टी-20 विश्व कप ऑस्ट्रेलिया में होना है।
इसके अलावा आईसीसी बोर्ड इस विषय पर भी अपडेट चाहेगा कि भारत में होने वाले आईसीसी इवेंट्स पर लगने वाले टैक्स में कटौती के लिए बीसीसीआई ने अब तक क्या कदम उठाए हैं? 2020 में आईसीसी इसके लिए भारत को चेतावनी भी दे चुका है कि टैक्स में कमी ना होने की स्थिति में वह भारत से टी20 विश्व कप की मेज़बानी छीन भी सकता है। हालांकि दोनों पक्षों ने इस मुद्दे को अभी तक सौहार्दपूर्ण ढंग से सुलझाने का प्रयास किया है, लेकिन यह भी सच है कि बीसीसीआई ने अभी तक इसका कोई निश्चित समाधान नहीं दिया है।
क्या विश्व कप में टीमों की संख्या बढ़ाई जाएगी?
आईसीसी बोर्ड की होने वाली इस बैठक के दौरान वन डे और टी-20 विश्व कप में टीमों की संख्या को बढ़ाए जाने पर भी चर्चा होगी। इसके अलावा 2023 से 2031 के बीच होने वाली आईसीसी इवेंट्स पर भी इस बैठक में कोई ठोस निर्णय आईसीसी को लेना है, क्योंकि इस साल के आखिरी तक इन टूर्नामेंट्स के मीडिया राइट्स के टेंडर जारी किए जाने हैं। टेंडर लगाने वाली कोई भी कंपनी चाहेगी कि इन वर्षों के दौरान क्या-क्या आईसीसी इवेंट्स होंगे, उनकी संख्या स्पष्ट हो।
यह मामला अक्टूबर 2019 से ही गरम है जब तत्कालीन आईसीसी अध्यक्ष शशांक मनोहर ने 2023-31 के चक्र में एक अतिरिक्त आईसीसी इवेंट को मंजूरी दी थी, ताकि हर साल आईसीसी का एक वैश्विक इवेंट जरूर हो। हालांकि पिछले कुछ महीनों के दौरान आईसीसी की मुख्य कार्यकारी कमेटी ने इस कदम के लाभ और हानि पर गंभीरता से विचार किया है। इसके अलावा इस पर भी विचार किया जा रहा है कि क्या टी-20 और वन डे विश्व कप को अधिक टीमों के लिए भी खोला जा सकता है?
वर्तमान में वन डे विश्व कप के प्रमुख राउंड में सिर्फ 10 टीमें खेलती हैं। आईसीसी बोर्ड ने इसके विस्तार के विकल्पों को खुला रखा है। इसके अलावा टी-20 विश्व कप में भविष्य में 20 टीमें खेलें, इसकी भी योजना आईसीसी बना रहा है।

नागराज गोलापुड़ी ईएसपीएन क्रिकइंफ़ो में न्यूज़ एडिटर हैं। अनुवाद ईएसपीएन क्रिकइंफ़ो हिंदी के सब-एडिटर दया सागर ने किया है।