मैच (16)
WPL (2)
PSL 2024 (2)
NZ v AUS (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (2)
विश्व कप लीग 2 (1)
Nepal Tri-Nation (1)
Sheffield Shield (3)
CWC Play-off (3)
BAN v SL (1)
ख़बरें

हार्दिक पंड्या : 'मुझे महेंद्र सिंह धोनी वाली भूमिका निभाने में कोई आपत्ति नहीं है'

भारत के स्टैंड-इन टी20आई कप्तान का ध्यान फ़िलहाल सफ़ेद गेंद क्रिकेट पर है

हार्दिक पंड्या का मानना है कि एक टी20 क्रिकेटर के रूप में वह इतने विकसित हो गए हैं कि अब वह दबाव झेलकर टीम के लिए कोई भी भूमिका निभा सकते हैं। लगभग छह साल पहले एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में उन्होंने कहा था, "मैं जब चाहूं छक्का मार सकता हूं।" अब वह पीछे हटने, मैच को अंत तक ले जाने तथा महेंद्र सिंह धोनी द्वारा निभाई गई भूमिका को निभाने के लिए 'तैयार' हैं।
न्यूज़ीलैंड के विरुद्ध अहमदाबाद में भारत को 2-1 से टी20 अंतर्राष्ट्रीय सीरीज़ जिताने के बाद हार्दिक ने कहा, "सच कहूं तो मुझे हमेशा से छक्के लगाना पसंद है लेकिन मुझे विकसित होना है और यही जीवन है। मुझे दूसरा हिस्सा लेना है जहां मैं हमेशा साझेदारी में विश्वास करता हूं। मैं अपनी टीम और दूसरे व्यक्ति को अधिक शांति और आश्वासन देना चाहता हूं कि कम से कम मैं वहां हूं। मैंने उनमें से किसी से भी अधिक मैच खेले हैं। मेरे पास अनुभव है और अनुभव से अधिक, मैंने यहां बल्लेबाज़ी की है और सीखा है कि दबाव को कैसे स्वीकार करना है और किस तरह से सुनिश्चित करना है कि टीम और सब कुछ शांत है।"
हार्दिक ने आगे कहा, "इस तरीक़े से शायद मुझे अपने स्ट्राइक रेट को कम करना होगा या... मैंने हमेशा नए मौक़ों को और भूमिकाओं को अपने हाथों में लेने को देखा है। मुझे उस भूमिका को निभाने में कोई आपत्ति नहीं है, जो कहीं न कहीं माही [धोनी] निभाते थे। मुझे लगता है कि उस समय मैं युवा था और मैदान के चारों ओर मार रहा था, लेकिन अब जब से वह चले गए हैं, अचानक वह ज़िम्मेदारी... यह स्वाभाविक रूप से मुझ पर आ गई है और मुझे (उसे पूरा करने में) कोई आपत्ति नहीं है। हमें वह परिणाम मिल रहा है जो हम चाहते हैं और यह ठीक है।"
बुधवार को हार्दिक ने वही भूमिका निभाई और सेट शुभमन गिल को स्ट्राइक देकर बड़े शॉट लगाने दिए। हार्दिक गेंदबाज़ी के मोर्चे पर भी विकसित हुए हैं - वह अब चोटिल जसप्रीत बुमराह की अनुपस्थिति में नियमित रूप से पावरप्ले में भारत के लिए कठिन ओवरों में गेंदबाज़ी कर रहे हैं। घरेलू सीज़न की शुरुआत के बाद से, हार्दिक ने पावरप्ले में 12 ओवर फेंके हैं, जिसमें उन्होंने दो विकेट पर 86 रन दिए हैं। यहां तक कि हाल के इंदौर वनडे में भी, जब भारत ने अपने प्रमुख गेंदबाज़ों को आराम दिया था, हार्दिक ने नई गेंद से स्विंग कराई थी।
हार्दिक ने कहा, "मुझे (टी20आई में) नई गेंद से गेंदबाज़ी करनी थी क्योंकि अर्शदीप (सिंह) ... मैं नहीं चाहता कि कोई नया व्यक्ति आए और उसे (नई गेंद के साथ पहले गेंदबाज़ी की) उस कठिन भूमिका मिले क्योंकि अगर उस पर दबाव डाला जाता है तो हम मैच में पीछा हो जाते हैं। तो, मैं हमेशा सामने से नेतृत्व करता रहा हूं और मैं अपनी नई गेंद के कौशल पर काम कर रहा हूं, जो मेरी मदद कर रहा है।"
रांची में टी20 अंतर्राष्ट्रीय सीरीज़ के पहले मैच से पूव हार्दिक ने कहा था कि वह ट्रैनिंग के दौरान नई गेंद से गेंदबाज़ी करते हुए पावरप्ले में गेंदबाज़ी करने की तैयारी करते हैं। दोनों तरफ़ गेंद को स्विंग और सीम कराने की हार्दिक की क्षमता ने भारतीय गेंदबाज़ी को अधिक लचीलापन दिया है जिससे उमरान मलिक और अर्शदीप के ओवर रोककर रखे जा सकते हैं।
हार्दिक ने रांची में कहा था, "मैंने नई गेंद से गेंदबाज़ी करने का आनंद लिया है। कई वर्षों से जब मैं नेट्स में भी गेंद लेता हूं तो वह नई गेंद होती है। मैं पुरानी गेंद से गेंदबाज़ी करने का इतना आदी हूं कि मुझे इसके साथ ज़्यादा अभ्यास करने की ज़रूरत महसूस नहीं होती है। जब भी टीम को मेरी ज़रूरत होगी, मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर सकता हूं। पिछले मैच (इंदौर वनडे) में जब हमें अपने दो मुख्य तेज़ गेंदबाज़ों को आराम देना था, तो मुझे तैयार रहना था। जब आप अच्छी तैयारी करते हैं तो दबाव नहीं होता।"

हार्दिक पंड्या : 'मेरा ध्यान सफ़ेद गेंद क्रिकेट पर है'


इस साल अक्तूबर-नवंबर में भारत में वनडे विश्व कप और 2024 में कैरेबियन में टी20 विश्व कप को मद्देनज़र रखते हुए भारत के स्टैंड-इन टी20आई कप्तान हार्दिक ने टेस्ट क्रिकेट से ऊपर सफ़ेद गेंद क्रिकेट को प्राथमिकता दी है। 2019 में अपनी सर्जरी के बाद से हार्दिक ने सीनियर स्तर पर लाल गेंद से कोई भी क्रिकेट नहीं खेला है। हार्दिक ने आख़िरी टेस्ट 2018 में साउथैंप्टन में खेला था और उनका आख़िरी रणजी मैच भी उसी साल आया था।
हार्दिक ने कहा, "जब मुझे लगेगा कि यह टेस्ट क्रिकेट में वापसी का (सही) समय होगा, मैं (वापस) आऊंगा। फ़िलहाल मैं सफ़ेद गेंद क्रिकेट पर ध्यान दूंगा जो महत्वपूर्ण है। और अगर समय सही और शरीर ठीक होगा, मैं (लंबे प्रारूप) में ख़ुद को आज़माऊंगा।"

देवरायण मुथु ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर अफ़्ज़ल जिवानी ने किया है।