मैच (15)
IPL (2)
ACC Premier Cup (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
Women's QUAD (2)
ख़बरें

बड़ौदा की तरफ़ से खेलते हुए नज़र आएंगे रायुडू

अरुण लाल ने बंगाल सीनियर पुरुष टीम के मुख्य कोच के पद से इस्तीफ़ा दे दिया है

इससे पहले भी रायुडू बड़ौदा की तरफ़ से खेल चुके हैं  •  Robert Cianflone/Getty Images

इससे पहले भी रायुडू बड़ौदा की तरफ़ से खेल चुके हैं  •  Robert Cianflone/Getty Images

आगामी घरेलू सीज़न में अंबाती रायुडू बड़ौदा की तरफ़ से खेलते हुए नज़र आएंगे। रायुडू एक प्रोफेशनल क्रिकेटर को तौर पर बड़ौदा की टीम से जुड़े हैं। आंध्र प्रदेश की टीम ने भी रायुडू को नो ऑबजेक्शन सर्टिफ़िकेट दे दिया है। भले ही रायुडू ने पिछले कुछ सालों में सिर्फ़ सफ़ेद गेंद से क्रिकेट खेला है लेकिन बड़ौदा की टीम के लिए वह सभी फ़ॉर्मेट में खेलने के लिए उपलब्ध हैं।
इससे पहले भी साल 2012 से 2014 तक रायुडू बड़ौदा की टीम के लिए खेल चुके हैं। हाल के वर्षों में रायुडू ने हैदराबाद, आंध्रा और विदर्भ की टीम के लिए खेल चुके हैं। रूयडू के आने से बड़ौदा के बल्लेबाज़ी क्रम को काफ़ी मज़बूती मिलेगी। दीपक हुड्डा को भी बड़ौदा टीम प्रबंधन वापस लाने का प्रयास कर रहा है।
दीपक साल 2020 में बड़ौदा की टीम को छोड़ कर चले गए थे। माना जाता कि तब के कप्तान क्रुणाल पंड्या और दीपक के बीच सब कुछ ठीक नहीं चल रहा था। इसके बाद दीपक ने राजस्थान की टीम की तरफ़ से खेलते हुए बढ़िया प्रदर्शन भी किया। हालांकि इस साल के फ़रवरी माह से दीपक भारतीय टीम के सदस्य हैं और विभिन्न श्रृंखलओं में उनका चयन लगातार हो रहा है। इसके अलावा दीपक को लखनऊ सुपर जायंट्स की टीम में भी चयन हुआ था, जहां वह क्रुणाल के साथ खेल रहे थे।
बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन (बीसीए) के मुख्य कार्यकारी शिशिर हट्टंगडी ने ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो को बताया, "जहां तक ​​​​मुझे पता है, उन्होंने अपने मतभेदों को दूर कर लिया है। उन्होंने एक ही आईपीएल टीम के लिए एक साथ खेला और उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। उनके बीच जो भी समस्या थी उन्होंने उसे सुलझा लिया है।"
"हालांकि हम हुड्डा की वापसी के प्रति आशान्वित हैं। हम निश्चित रूप से यह नहीं कह सकते कि वह टीम में आएंगे या नहीं क्योंकि जब दीपक को एक टीम की ज़रूरत थी।राजस्थान ने उन्हें अपनी टीम में जगह दी थी। हमारी तरफ से हम एक प्रयास कर रहे हैं कि वह वापस टीम मे आ जाएं।"
बीसीए ने यूसुफ पठान को एक साल के कार्यकाल के लिए मेंटॉर के रूप में भी शामिल किया है। पठान ने इस पद को कुछ नियमों और शर्तों के साथ स्वीकार लिया है। यूसुफ आयु वर्ग, सीनियर टीम और महिला टीम के साथ सक्रिय रूप से शामिल होंगे।।

अरुण लाल ने बंगाल के मुख्य कोच के पद से इस्तीफ़ा दिया

अरुण लाल ने तीन सीज़न का प्रभार संभालने के बाद बंगाल सीनियर पुरुष टीम के मुख्य कोच के पद से इस्तीफ़ा दे दिया है। उन्होंने इस पद की चुनौतियों को इस्तीफ़े का मुख्य कारण बताया है।
66 वर्षीय लाल ने हंसते हुए कहा, "यह बहुत कठिन काम है। नौ महीने, 24 घंटे का, और लगभग सात महीने बाहर यात्रा करना। इसलिए मैंने सोचा कि यह रुकने का समय है। बंगाल की टीम बढ़िया प्रदर्शन कर रही है। वे सही रास्ते पर हैं।"
अरुण को अपने कार्यकाल के दौरान बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन (सीएबी) का पूरा समर्थन मिला। हालांकि कभी-कभी उनके "पुराने तरीक़ों" के कारण खिलाड़ियों के बीच बीच-बीच में एक निराशा ज़रूर दिखी।
अरुण ने भी अपने क्रिकेट करियर के दौरान बंगाल की टीम की टीम के लिए खेलते हुए 1989-90 का सीज़न जीता था। इसके अलावा दिल्ली की टीम के साथ रहते भी उन्होंने दो बार यह ख़िताब जीता। उनके कोच रहते हुए बंगाल की टीम इस साल रणजी ट्रॉफ़ी के सेमीफ़ाइनल में पहुंची थी। पिछले साल भी उनकी टीम रणजी फ़ाइनल तक पहुंची थी लेकिन जीत जीतने में सफल नहीं हो पाई थी।
उन्होंने कहा, 'प्रतियोगिता काफ़ी कठिन हो गई है। पिछले साल के विजेताओं ने इस साल सेमीफ़ाइनल क्वालीफ़ाई नहीं किया था। इस साल के फ़ाइनलिस्ट ने पिछले साल सेमीफ़ाइनल में जगह नहीं बनाई थी। केवल बंगाल ने दोनों सीज़न में नॉकआउट में प्रवेश किया था।"
"यह बंगाल का शानदार प्रदर्शन है और मैंने इसका पूरा लुत्फ उठाया है। मैं इसे मिस करूंगा। क्रिकेट के बाहर भी मेरी रुचि है।"
सीएब ने अभी तक उनके कोचिंग रोस्टर पर कोई घोषणा नहीं की है। बंगाल के पूर्व ऑफ स्पिनर सौराशीष लाहिरी वर्तमान में सहायक कोच हैं, जबकि जॉयदीप मुखर्जी क्रिकेट के निदेशक हैं।

शशांक किशोर ESPNcricinfo के सीनियर सब ए़डिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।