मैच (16)
IND v ENG (1)
WPL (2)
PSL 2024 (3)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
NZ v AUS (1)
Marsh Cup (1)
विश्व कप लीग 2 (1)
CWC Play-off (3)
फ़ीचर्स

ऋषभ पंत, हमारे जीवन का समय बनाते हैं

भारत जैसी कठोर और तक़नीकी प्रणाली ने ऐसी स्वतंत्र भावना कैसे उत्पन्न की?

अपने ही तरीके का टेस्‍ट क्रिकेट खेल रहे हैं पंत  •  BCCI

अपने ही तरीके का टेस्‍ट क्रिकेट खेल रहे हैं पंत  •  BCCI

पहले सत्र की शुरुआत में जब मोहाली में अभी भी भीड़ जुट रही थी, ग्राउंड अनाउंसर ने आवाज लगाई। "क्या बात है! चलो, शाबाश कहो, शाबाश चिल्लाओ!" यह तब था जब रोहित शर्मा या मयंक अग्रवाल ने चौका लगाया।
बाद में भारत के नए नंबर तीन के अर्धशतक के बाद, 58: "हनुमा विहारी का कितना सुंदर अर्धशतक था! बहुत अच्छा।"
ऐसा अक़्सर आईपीएल में सबसे अधिक देखने को मिलता है, जहां माइक पर मौजूद व्यक्ति प्रचार कलाकार की तुलना में से कहीं ज़्यादा होता है। यहां जब आप चियर करते हैं, ये वे मंत्र हैं जिस पर ये चाहते हैं कि आप चीखें, अब जब आप मैक्सिकन लहर शुरू करते हैं, तो यह तुरही क्लैक्सन है जिस पर आप पूर्व-अनुमोदित प्रतिक्रिया देते हैं। अपनी शर्तों पर आप एक अच्छे शॉट का लुत्फ़ लेते हैं और एक अच्छे स्पैल की सराहना करते हैं। और जब आप एक प्रदर्शन के साथ व्यक्तिगत संबंध महसूस करते हैं तो यह विचार दिल से निकलते हैं, हम वास्तविक समय में वहां होंगे लेकिन आपका कान आपको बता रहा है कि इसके बारे में कैसा महसूस करना है।
पिछले 15 वर्षों में भारत ने एक ऐसे क्रिकेट इकॉसिस्टम का निर्माण किया है, जिसका पैमाना कभी नहीं देखा गया है। कोच, प्रशिक्षकों और स्काउट्स के विशाल नेटवर्क को इकट्ठा करना, क्षेत्रीय अकादमियों को तैयार करना और सबसे ऊपर, खेल की तीव्रता को अकेले बनाए रखना, जिसके विभिन्न रंग हैं।
लेकिन फ‍िर ऋषभ पंत आते हैं।
स्टंप्स के पीछे हमेशा बोलने वाले। स्पाइडरमैन थीम सॉन्ग का हमर। लेकिन सबसे बढ़कर, हाथ में बल्ला, शुद्ध विशुद्ध/तबाही/ खुशी का वाहक।
उन्हें श्रीलंका के स्पिनरों पर दौड़ते हुए देखें और उन्हें 13 गेंद की उस स्ट्रेच के दौरान डीप मिडविकेट पर खेलते देखेंगे, जिसमें उन्होंने 42 रन जोड़े। वापस जाओ और हाइलाइट्स की जांच करें। गेंद से संपर्क के समय में, उनके पैर तिरछे हो जाते हैं, जैसे कि उन्हें बाक़ी लोगों की तुलना में एक अलग नृत्य के लिए आमंत्रित किया गया हो। धड़ तड़का हुआ समुद्र पर पार्टी बोट की तरह आधा झुक रहा है। वह बेड़ियों में जकड़ा हुआ नहीं है, यहां तक ​​कि विशेष रूप से व्यवस्थित भी नहीं है, लेकिन जिसने भी कभी उन्हें अपनी मस्ती करते हुए देखा है, तो पाया है कि मन स्पष्ट है, लेकिन वह तकनीक है, जिससे वह करामात करते हैं।
तक़नीकी दिशा में भारत के सभी कदमों के बीच पंत इससे अछूते रह गए हैं। ओह, आपने जीवन भर ऐसे ही खेला है? गली के खेल में, मैदानों पर, दालान में पेपर-बॉल मैच? तो ठीक है, हम संरक्षित करेंगे।
और ऐसा नहीं है कि पंत भारत के विशाल संगठन के अधिक प्रभावों से अछूते रहे हैं। यह निश्चित रूप से उन्माद है, तीन छक्के और चार चौके जिसे मोहाली याद रखेगा। लेकिन इससे पहले, एक 50 भी आया था, जो 75 गेंद में आया था, जहां उन्होंने गेंद को रोका, छोड़ा और समय लिया। वह पारी का पुनर्निर्माण करने के लिए रूक गए थे।
लेकिन आप वास्तव में इसके बारे में पढ़ना नहीं चाहते हैं। और मैं निश्चित रूप से इसके बारे में लिखना नहीं चाहता। 13 गेंदों में 42 रन, जब इस तरह के रनों पर जाने की कोई ज़रूरत नहीं थी, इस तथ्य को छोड़कर कि पंत कैच आउट हो गए होते, बदले में उन्होंने सभी को जकड़ लिया। आइए रहस्योद्घाटन करें: काउ कॉर्नर पर पर दो लंबे हिट थे। कदमों का इस्तेमाल और एक हाथ से ऑफ़ स्पिनर को साइटस्क्रीन की उठाकर मारना। इसके बाद एक्स्ट्रा कवर पर लगाया गया वह शॉट। वहीं लेग साइड पर एक बड़ा मिस-हिट, बल्ला दस्ताने में घुमा (खुशी के लिए?) रहा है।
भारत की इस टीम में पंत अकेले ऐसे खिलाड़ी नहीं हैं जो इस तरह की खुशी का इज़हार करते हैं। जसप्रीत बुमराह एक और उदाहरण हैं। पहले के वर्षों में, वीरेंद्र सहवाग और एमएस धोनी जैसे भी थे, लेकिन फिर जिस भारतीय प्रणाली से वे उभरे, वह भारत प्रणाली नहीं थी जहां से पंत निकले। उन्होंने भी ऐसा नहीं किया था जैसे पंत ने करना शुरू कर दिया है।
वैसे भी, इन सब के बीच ग्राउंड अनाउंसर जो हमेशा पूरे दिन चिल्लाता है, वह उन पलों में ख़ामोश था। उस 20 मिनट के ब्लिट्ज में, बस ऋषभ पंत ही थे जो बल्ला घुमा रहे थे या घुटने पर बैठकर स्क्वायर लेग की ओर गेंद को उठाकर मार रहे थे। ऐसा लग रहा था कि जैसे वह अपने जीवन का सबसे बेहतरीन पल जी रहे हैं।
और फ‍िर हम भी थे, जो ऐसा ही कर रहे थे।

ऐंड्रयू फ‍िडेल फर्नांडो ESPNcricinfo में श्रीलंका के संवाददाता हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।