फ़ीचर्स

दो मैचों के भीतर ज़ीरो से हीरो बने प्रसिद्ध कृष्णा

राजस्थान के प्रमुख कोच के अनुसार प्रसिद्ध एक ख़ास खिलाड़ी हैं

हम यह नहीं जान पाएंगे कि 24 मई और 27 मई के बीच प्रसिद्ध कृष्णा के मन में क्या चल रहा था। इतना साफ़ है कि वह प्रसन्न करने वाली बातें तो नहीं होगी। पहले क्वालीफ़ायर के अंतिम ओवर में उन्हें 16 रन रोकने की ज़िम्मेदारी दी गई थी लेकिन डेविड मिलर ने तीन छक्के लगाकर काम तमाम कर दिया था।
तीन दिन बाद दूसरे क्लीफ़ायर में वह विराट कोहली के ख़िलाफ़ गेंदबाज़ी कर रहे थे। पहली तीनों गेंदों पर उन्होंने इन स्विंग प्राप्त की और 140 किलोमीटर प्रति घंटे की गति को पार किया। चौथी गेंद पर उन्होंने कंधे का पूरा ज़ोर लगाया और पटकी हुई गेंद डाली। पांचवें स्टंप पर शॉर्ट ऑफ़ लेंथ पर पड़ने के बाद गेंद ने अतिरिक्त उछाल लिया। कोहली ने उसे छेड़ने का प्रयास किया और बाहरी किनारा देकर चलते बने।
इस लेंथ से ऐसा उछाल प्राप्त करना प्रसिद्ध की विशेषता है। यही कारण है कि उन्हें भारतीय टेस्ट टीम में इशांत शर्मा के स्थान का उत्ताधिकारी माना जा रहा है। अहमदाबाद की पिच इसी तरह की गेंदबाज़ी के लिए अनुकूल थी और प्रसिद्ध ने उसका पूरा लाभ उठाया। इस तरह की गेंद कोहली को पारी की शुरुआत में बिल्कुल पसंद नहीं आती है। प्रसिद्ध ने इसका इस्तेमाल किया और उन्हें अपने जाल में फंसाया।
जब वह रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के विरुद्ध 19वां ओवर डालने आए, उनका स्कोर था छह विकेट पर 146 रन। तब तक राजस्थान के गेंदबाज़ मैच में हावी रहे थे लेकिन क्रीज़ पर दिनेश कार्तिक 12 गेंदों के भीतर मैच को पलटने का दमखम लेकर तैयार थे।
इस ओवर से पहले डेथ ओवरों में प्रसिद्ध ने 11.37 की इकॉनमी से गेंदबाज़ी की थी। इन ओवरों में 11 से अधिक रन प्रति ओवर लुटाने वाले सभी गेंदबाज़ों में केवल प्रसिद्ध ने डेथ में 100 से अधिक गेंदें डाली हैं। यह दर्शाता है कि वह इस टीम में मुश्किल ओवर डालने का काम कर रहे हैं। यह आसान बिल्कुल भी नहीं है और तीन दिन पहले ही मिलर के हाथों रन खाने की यादें उनके मन में ताज़ा रही होंगी।
उनकी पहली गेंद ऑफ़ स्टंप से काफ़ी बाहर थी। उन्होंने कार्तिक को गुड लेंथ से इसी घसीटने पर मजबूर किया। स्टंप्स पर शफ़ल करने के बाद कार्तिक ने उसे सामने की तरफ़ सीमा रेखा के बाहर भेजने का प्रयास किया। 144 किलोमीटर की गति वाली यह गेंद पिच पर पड़ने के बाद फंसी और रुककर आई जिससे कार्तिक का बल्ला पहले चल गया और निचले हिस्से पर लगने के बाद यह गेंद सीधे लॉन्ग ऑन के फ़ील्डर के हाथों में गई।
शायद प्रसिद्ध नहीं चाहते थे कि गेंद रुककर आए लेकिन ऑफ़ स्टंप के बाहर डालकर उन्होंने लेग साइड पर मारना और भी कठिन बना दिया। ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो स्टैट्स टीम से शिवा जयारमन ने बताया कि इस सीज़न में कार्तिक ने लेग साइड पर 291.52 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए और किसी भी बल्लेबाज़ के लिए सर्वाधिक है। इसके बाद क्रीज़ पर आए वनिंदु हसरंगा जिनका स्वागत प्रसिद्ध ने एक सटीक तेज़ गति की यॉर्कर के साथ किया। जब तक हसरंगा का बल्ला नीचे आता, गेंद उनका लेग और मिडिल स्टंप अपने साथ लेकर जा चुकी थी।
गुजरात के विरुद्ध मिली निराशा के बाद किस तरह से वापसी की जाती है? टीम को जीता हुआ मैच हारते देखने के बाद आप किस तरह ख़ुद को अगले मैच के लिए प्रेरित करते हैं?
राजस्थान के प्रमुख कोच कुमार संगकारा के अनुसार इसकी शुरुआत ख़ुद से और अपनी टीम के प्रति ईमानदार रहने से होती है।
फ़ाइनल में जगह बनाने के बाद संगकारा ने स्टार स्पोर्ट्स से कहा, "प्रसिद्ध को ज़्यादा श्रेय जाना चाहिए। अंतिम ओवर में 16 रनों का बचाव करते हुए मिलर के हाथों तीन छक्के खाने के बाद आपका आत्मविश्वास नीचे गिर जाता है। हालांकि जिस प्रकार उन्होंने वापसी की, जिस प्रकार से उन्होंने मेरे और अपनी टीम के साथ ईमानदारी दिखाई और बताया कि वह कहां बेहतर हो सकते हैं, वह सराहनीय था। वह एक ख़ास खिलाड़ी हैं।"
पोस्ट मैच प्रेस कॉन्फ़्रेंस में अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा, "एक बात समझने योग्य है कि क्या गेंदबाज़ ने अपने प्लान को अमल में लाने में ग़लती की या उसे मैच स्थिति की समझ नहीं थी। अमल करने में हुई ग़लती को सुधारा जा सकता है। प्रसिद्ध के पास कौशल है और वह अपने खेल को लेकर काफ़ी सोच विचार भी करता है। हालांकि इसी बीच आपको केवल उन चीज़ों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए जो आपके हाथ में हैं। पिछले मैच की निराशा के बाद उन्होंने जो आत्मविश्वास दिखाया है, उसे देखकर लगता है कि वह किसी भी स्तर पर सफलता प्राप्त कर सकते हैं।"
शायद किसी और दिन प्रसिद्ध अंतिम ओवर में और भी कम रनों का बचाव करेंगे। हालांकि तब तक हमें एक उच्च कोटि के गेंदबाज़ को अपना जलवा बिखेरते हुए देखने का आनंद लेना चाहिए।

कार्तिक कृष्णास्वामी ESPNcricinfo में सीनियर सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर अफ़्ज़ल जिवानी ने किया है।