मैच (17)
IPL (2)
Pakistan vs New Zealand (1)
PAK v WI [W] (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (2)
Women's QUAD (2)
फ़ीचर्स

आईपीएल 2022 - कलाई के स्पिनरों का दबदबा और मिडिल ओवरों में टीमों ने दिखाई तेज़ी

इस सीज़न का स्टैटिस्टिकल रिव्यू कि कैसे रहा यह यूनिक़ सीज़न

क्वालीफ़ायर 2 के बात बातचीत करते वनिंदु हसरंगा और युज़वेंद्र चहल  •  BCCI

क्वालीफ़ायर 2 के बात बातचीत करते वनिंदु हसरंगा और युज़वेंद्र चहल  •  BCCI

कलाई के स्पिनरों का दबदबा
पर्पल कैप के लिए युज़वेंद्र चहल और वनिंदु हसरंगा के बीच जंग बताती है कि टूर्नामेंट के दौरान कलाई के स्पिनरों का कैसा दबदबा था। कुलदीप यादव भी इस रेस में शामिल थे लेकिन वह पांचवें स्थान पर रहे, जबकि राशिद ख़ान ने शीर्ष दस विकेट लेने वालों की सूची में अपनी जगह बनाई।
कलाई के स्पिनरों ने इस सीज़न 74 मैचों में 141 विकेट लिए। यह उनके लिए किसी भी एक सीज़न में झटके गए सर्वाधिक विकेटों के मामले में दूसरा सबसे सफल सीज़न रहा। इससे पहले 2019 में उन्होंने 143 शिकार किए थे। इस सीज़न कलाई के स्पिनरों ने हर विकेट के लिए औसतन 24.53 रन दिए, जो 2011 (21.03) के बाद सबसे बढ़िया था और कुल मिलाकर तीसरा सबसे शानदार सीज़न था।
इसकी तुलना में फ़िंगर स्पिनरों ने 34.95 के औसत से केवल 116 विकेट लिए, जो किसी एक संस्करण में उनका चौथा सबसे ख़राब औसत था। महीश थीक्षना और रवि अश्विन इस टूर्नामेंट में 12-12 विकेट लेकर सबसे सफल फ़िंगर स्पिनर रहे।
मिडिल ओवरों में बने तेज़ी से रन
पावरप्ले में शांत रहने के बाद टीमों ने जल्दी रन गति को तेज़ी प्रदान करने की ओर ध्यान दिया। जिसके परिणामस्वरूप मिडिल ओवरों में स्कोरिंग रेट 8.17 तक जा पहुंचा, जो किसी एक आईपीएल सीज़न में सबसे अधिक है। किसी एक सीज़न में मिडिल ओवरों में पिछला सर्वाधिक स्कोरिंग रेट 2018 में 8.12 था। ज़्यादातर टीमों ने 8-12 ओवर के बीच पांच ओवर के ब्लॉक को निशाना बनाया।
कई बार लक्ष्य का पीछा करने वाली टीमों के द्वारा ज़्यादातर महंगे ओवर इसी दौरान आए। इस सीज़न में इन पांच ओवरों में रन रेट 8.07 था, जो आईपीएल के किसी भी सीज़न से सबसे अधिक था। पिछला सर्वाधिक 2018 में 7.95 था। दरअसल इस सीज़न के 8वें से 12वें ओवर के बीच हर ओवर में कुल रन रेट 8 रन से ज़्यादा रहा।
गेंदबाज़ों के नाम प्लेयर ऑफ़ द मैच पुरस्कार
कुलदीप यादव ने इस सीज़न में चार बार प्लेयर ऑफ़ द मैच का पुरस्कार जीता, जो किसी भी खिलाड़ी द्वारा सबसे ज़्यादा रहा। एक से अधिक प्लेयर ऑफ़ द मैच पुरस्कार जीतने वाले 15 खिलाड़ियों में से सात ने अपनी गेंदबाज़ी के लिए यह पुरस्कार जीता। 28 मैचों में गेंदबाज़ी प्रदर्शन के लिए प्लेयर ऑफ़ द मैच दिया गया। यह किसी एक आईपीएल सीज़न में गेंदबाज़ों द्वारा जीते गए प्लेयर ऑफ़ द मैच पुरस्कारों की सबसे अधिक संख्या है।
शेष 46 मैचों में से 40 में यह पुरस्कार बल्लेबाज़ी प्रदर्शन के लिए दिया गया, जबकि शेष छह मैचों में ऑलराउंड प्रदर्शन के लिए प्लेयर ऑफ़ द मैच दिया गया। हालांकि गेंदबाज़ों द्वारा जीते गए पुरस्कारों के प्रतिशत के मामले में 2022 में 37.8%, 2017 सीज़न में 39 % के बाद दूसरी सबसे बड़ी संख्या है।
रोमांचक मैचों का सीज़न
एक ऐसे सीज़न में जहां टीमों ने टॉस जीतकर लक्ष्य का पीछा करना पसंद किया, उसी सीज़न में पहले बल्लेबाज़ी करने वाली टीमों ने लगातार पांच मैचों में (मैच नं. 53-57) 50 रन से ज़्यादा के अंतर से जीत दर्ज की। आईपीएल इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ था कि पहले बल्लेबाज़ी करने वाली टीमें लगातार दो से अधिक मुक़ाबले में 50 रन से ज़्यादा के अंतर से जीतें। इस अनूठी स्ट्रीक के बावजूद आईपीएल 2022 में जीत के अंतर के मामले में एकतरफ़ा मैच कम हुए।
इस सीज़न केवल 47.3% मैच 18 से अधिक रन के अंतर, तीन से अधिक विकेट या नौ से अधिक गेंद शेष रहते समाप्त हुए। यह किसी भी आईपीएल संस्करण के लिए चौथा सबसे कम और उन संस्करणों में सबसे कम है जहां आठ से अधिक टीमों ने भाग लिया था। 2011 और 2013 के बीच तीन सीज़नों में जिसमें नौ या उससे अधिक टीमों ने भाग लिया था, 50% से अधिक मैच ऐसे थे जो एकतरफ़ा थे।

संपत बंडारुपल्ली ESPNcricinfo में स्टैट्स एक्सपर्ट हैं।