मैच (16)
IPL (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (4)
Women's Tri-Series (1)
ख़बरें

ऑस्ट्रेलियाई कोच मैथ्यू मॉट ने कहा है कि भारतीय महिला टीम ऑस्ट्रेलियाई टीम को कड़ा टक्कर दे सकती है।

इस सरीज़ से पहले हमारे पास ज्यादा क्रिकेट खेलने का मौका नहीं है, जिसके कारण भारतीय टीम हम पर हावी हो सकती है।

Getty Images

Getty Images

ऑस्ट्रेलियाई महिला टीम के मुख्य कोच मैथ्यू मॉट इस बात से सावधान हैं कि सितंबर में जब भारत के खिलाफ उनकी टीम आमने-सामने होगी तो भारत बेहतर तैयारी वाली टीम होगी। इस सीरीज़ से पहले ऑस्ट्रेलियाई टीम के पास तैयारियों के लिए ज्यादा वक्त नहीं होगा, न ही वह ज्यादा क्रिकेट खेलेंगी।
भारतीय महिला टीम इस दौरे में तीन वनडे मैच, पर्थ में एक डे-नाइट टेस्ट और तीन टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेलेगी। अप्रैल में न्यूजीलैंड दौरे के बाद यह ऑस्ट्रेलियाई टीम पहली बार मैदान में किसी विपक्षी टीम के खिलाफ उतरेगी। भारत अभी इंग्लैंड में है जहां उन्होंने एक एकतरफा टेस्ट ड्रॉ किया और वर्तमान में वनडे सीरीज में 2-0 से पीछे हैं। उनके कई खिलाड़ी ब्रिटेन में द हंड्रेड खेलने के लिए तैयार हैं। हंड्रेड प्रतियोगिता में कई ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी भी खेलने के लिए इंग्लैंड आ सकते थे लेकिन कोविड महामारी के जटिलताओं कारण अब यह संभव नहीं हो पाएगा। मॉट खुद हंड्रेड में वेल्श फायर के कोच के रूप में शामिल हई थी लेकिन अब उनका भी इंग्लैंड जाना मुश्किल लग रहा है।
मॉट इस बात को लेकर तकरीबन आश्वस्त थी कि अगस्त में ऑस्ट्रेलियाई टीम ब्रिस्बेन में इकट्ठा होगी लेकिन हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में कोविड -19 के केस ऑस्ट्रेलिया में काफी बढ़े हैं, जिसके कारण कई शहरों को लॉकडाउन लगा दिया गया है और आंतरिक सीमाओं को बंद कर दिया गया है। इसके कारण शायद ब्रिसबेन में ऑस्ट्रलियाई टीम इकट्ठा नहीं हो पाएगी।
मोट ने जिस दिन कोचिंग के लिए दो साल के अनुबंध विस्तार पर हस्ताक्षर किया, उस दिन उन्होंने कहा कि भारतीय टीम इस खेल में काफी मजबूती के साथ उभरती हुई टीम है। उनकी टीम में कई महान खिलाड़ी हैं और यह तय है वो हमारी टीम को कड़ी टक्कर दे सकते हैं। भारतीय टीम इस समय इंग्लैंड में खेल रही है। हमारे पास ज्यादा क्रिकेट खेलने के मौके उपलब्ध नहीं है। इसी कारणवश हम थोड़ा कमजोर होंगे क्योंकि हमारे पास बहुत अधिक क्रिकेट नहीं होगा।
उन्होंने आगे कहा कि सभी खिलाड़ी जब एक साथ आमने-सामने होंगे तो काफी अच्छा होगा, एनसीसी (नेशनल क्रिकेट सेंटर)में ब्रिस्बेन में एक बढ़िया ट्रेनिंग सेशन आयोजित किया जा रहा है, जिसमें कई नई सुविधाएं भी उपलब्ध हैं, इसलिए हम इस बात का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं कि कब कोविड महामारी के कारण शहरों की सीमाओं को खोल दिया जाए और हम सब जल्द मिल सकें।
उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि हम इस बात के लिए तैयार हैं कि जल्द से जल्द सारी चीजें ठीक हों और हम एक साकारात्मक दृष्टिकोण के साथ आगे बढ़े। सभी राज्य हमारे खिलाड़ियों के साथ उत्कृष्ट काम कर रहे हैं। हम सभी खिलाड़ियों के साथ लगातार संपर्क में हैं लेकिन एक समूह के रूप में एक साथ होने जैसा कुछ नहीं है।
भारत के साथ खेले जानी वाली सीरीज दो साल की अवधि की शुरुआत को चिह्नित करेगी जहां ऑस्ट्रेलिया विश्व स्तर पर कई खिताब अपने नाम करना चाहेगा, जिसमें रखेगा: घरेलू ऐशेज, वनडे विश्व कप, राष्ट्रमंडल खेल, टी-20 विश्व कप और एक इंग्लैंड में खेला जाने वाला ऐशेज शामिल होगा।
मोट ने दोहराया कि 2017 में सेमीफाइनल से बाहर होने के बाद वनडे काफी मुश्किल था। उन्होंने कहा कि हम उस खिताब को जीतना चाहते हैं हालांकि सभी टीम उस खिताब पर अपनी नजरे गड़ाए हुए है।
हमलोग इस बात से अवगत हैं कि लॉकडाउन और महामारी के कारण खिलाड़ियों के शारीरिक और मानसिक रूप से क्या प्रभाव पड़ सकता है।
उन्होंने कहा कि यह हमारे दिमाग में सबसे आगे है कि खिलाड़ियों को जल्दी थकने से रोका जाए। यह एक अलग दुनिया है जिसमें हम अभी रह रहे हैं। क्वारंटीन का खिलाड़ियों और कर्मचारियों पर प्रभाव पड़ सकता है। एक बात यह भी है कि खिलाड़ियों से व्यक्तिगत रूप से हम लगातार बात कर रहे हैं। इस बात पर भी विचार किया जा रहा है कि हम कैसे उन्हें मानसिक शारीरिक रूप से स्वस्थ रख सकते हैं।
द हंड्रेड में अपनी भागीदारी के बारे में, मोट ने संकेत दिया कि अभी तक अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है,लेकिन परिणाम जो भी हो, वह भविष्य में टूर्नामेंट के लिए प्रतिबद्ध रहेंगी।
उन्होंने कहा​ कि मैं पिछले कुछ महीनों से टीम के संपर्क में हूं और कुछ विकल्पों पर काम कर रही हूं। यह टूर्नामेंट,भारत का साथ खेले जाने वाली सीरीज के बहुत करीब है। इसलिए अभी भी थोड़ा सा काम किया जाना है लेकिन कुछ आकस्मिक योजनाएं हैं। मैं क्लब के लिए अविश्वसनीय रूप से प्रतिबद्ध हूं।

एंड्रयू मैकग्लाशन ESPNcricinfo में डिप्टी एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।