ख़बरें

एक दशक से भी अधिक समय से ऑस्ट्रेलिया में जीत का सूखा झेल रहा है न्यूज़ीलैंड

न्यूज़ीलैंड ने अंतिम बार ऑस्ट्रेलिया को उसके घर में 2011 में हराया था

Kane Williamson looks on before the match, New Zealand vs Pakistan, T20I tri-series, Christchurch, October 11, 2022

हालांकि इस विश्व कप में न्यूज़ीलैंड का आग़ाज़ अच्छा नहीं रहा है  •  Getty Images

जब न्यूज़ीलैंड मार्च 2015 के अंत में वनडे विश्व कप फ़ाइनल के लिए ऑस्ट्रेलिया आया, तो वह घरेलू सरज़मीं पर टूर्नामेंट में बिना कोई मैच हारे, एमसीजी में अपने साथी मेज़बान को पछाड़ने के मौक़े का सपना देखे हुए ख़िताब पर दावा करने के लिए अधिक आत्मविश्वास वाली टीम नहीं हो सकते थे।
हालांकि, जैसा कि इतिहास से पता चलता है, वह उस दिन सात विकेट से हार गए थे। जिस क्षण ब्रेंडन मक्क्लम ने पहले ओवर में मिचेल स्टार्क पर प्रहार किया और चूक गए। वह स्पष्ट रूप से बहुत बड़ा नुक़सान था लेकिन अक्सर यह भुला दिया जाता है कि बड़े पतन से पहले न्यूज़ीलैंड ने 3 विकेट पर 150 रन बना लिए थे।
उस हार ने ऑस्ट्रेलिया में न्यूज़ीलैंड के एक जीत रहित कारवां का आग़ाज़ किया जो कि अब सभी प्रारूपों में पंद्रह मुक़ाबलों तक पहुंच गया। जिसमें हाल ही में 0-3 से गंवाई हुई एकदिवसीय सीरीज़ भी शामिल है। इस देश में उन्हें अंतिम जीत 2011 में होबार्ट में खेले गए टेस्ट मैच में मिली थी जिसमें ट्रेंट बोल्ट ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में अपना पदार्पण किया था। इस लिहाज़ से ऑस्ट्रेलिया में न्यूज़ीलैंड को सफलता का स्वाद चखे अब एक दशक से भी अधिक का समय हो गया है। यह रिकॉर्ड कम से कम अगले कुछ सप्ताह के किसी मोड़ पर समाप्त हो जाना चाहिए।
हालांकि इस टूर्नामेंट ने एक बार फिर दोनों टीमों को एक दूसरे के सामने खड़ा कर दिया है वह भी टूर्नामेंट के एकदम शुरुआत में। पिछले वर्ष संयुक्त अरब अमीरात में हुए फ़ाइनल मैच के रीमेक में जहां केन विलियमसन की एक शानदार पारी के बावजूद ऑस्ट्रेलिया एक बार फिर अपने पड़ोसियों पर हावी होने में सक्षम था।
जैसा कि आप विलियमसन से उम्मीद करते हैं, वह ज़ाहिर तौर पर ऑस्ट्रेलिया में न्यूज़ीलैंड के प्रदर्शन से विचलित नहीं होंगे। उन्होंने कहा, "हमने इस बारे में ज़्यादा नहीं सोचा है। शुरुआत में ही ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध खेलना अच्छा है और यह एक अच्छा मैच होना चाहिए। वह परिस्थितियों से अच्छी तरह से परिचित हैं। वह घर पर और बाहर भी अच्छा खेलते हैं, जो यह बताता कि वह खेल में कहां खड़े हैं। इसलिए यह सम्मान है। हम जानते हैं कि हमारे पास भी कई मैच विजेता हैं और टीम इस प्रतिस्पर्धा के लिए तत्पर है। पिछले कुछ वर्षों में हमने ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध कई अच्छे संघर्ष किए हैं और कई अच्छी श्रृंखलाएं भी खेली हैं। मेरे अनुसार सबसे हाल ही में आख़िरी वर्ल्ड कप ही था।"
बोल्ट और विलियमसन न्यूज़ीलैंड के चार खिलाड़ियों में शामिल हैं, जो 2015 विश्व कप फ़ाइनल का हिस्सा थे और शनिवार को एससीजी में खेल सकते हैं। हालांकि अन्य दो, मार्टिन गप्टिल और टिम साउदी का चयन निश्चित नहीं है।
इस बीच बोल्ट और विलियमसन की क़िस्मत भी इस न्यूज़ीलैंड टीम के बारे में एक व्यापक विषय का हिस्सा है। हालांकि बोल्ट के भविष्य का फ़ॉर्म से कोई लेना देना नहीं है। वह दुनिया के सबसे बेहतरीन बाएं हाथ के तेज़ गेंदबाज़ों में से एक हैं लेकिन अब वह अपने न्यूज़ीलैंड क्रिकेट के अनुबंध से दूर चले गए हैं। वह जबकि इस आयोजन का हिस्सा हैं, ऐसे में आगे क्या होगा यह निश्चित नहीं है। उन्होंने अगले साल वनडे विश्व कप में जाने की बात भी कही है लेकिन उनका आगे बढ़ना काफ़ी मुश्किल नज़र आ रहा है।
विलियमसन के लिए सवाल फ़िटनेस और वर्कलोड का रहा है। पिछले साल के फ़ाइनल में शानदार पारी के बाद उन्होंने कोहनी के चोट के चलते काफ़ी समय मैदान के बाहर बिताया और जब वह लौटे तो वापस उसी लय में आना उनके लिए मुश्किल था। हालांकि त्रिकोणीय श्रृंखला के फ़ाइनल में 38 गेंदों पर उनकी 59 रनों की पारी से आशाजनक संकेत मिले जो कि दुबई में ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध खेली गई पारी के बाद से टी20 अंतर्राष्ट्रीय में दहाईं के आंकड़े से अधिक खेली गई पारी में उनका उच्चतम स्ट्राइक रेट था।
विलियमसन ने कहा, "बीच में कुछ समय बिताना अच्छा था। एक टीम के रूप में आप हमेशा परिणाम के सही और रहना मुनासिब समझते हैं। मेरे लिए यह ख़ुद के खेल में सुधार करने और वैल्यू जोड़ने की अधिक कोशिश रहती है।"
हालांकि पिछले एक वर्ष में यह सवाल नियमित रूप से उठ रहे हैं कि क्या वह तीनों प्रारूपों में बतौर कप्तान आगे बढ़ने के लिए उपयुक्त व्यक्ति हैं। ऑस्ट्रेलिया में प्रवेश करने के बाद न्यूज़ीलैंड के लिए प्रदर्शन संतोषजनक नहीं रहा है। ब्रिसबेन में साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ अपने पहले अभ्यास मैच में वह महज़ 98 रनों के स्कोर पर ही सिमट गए। जबकि भारत के ख़िलाफ़ दूसरा मुक़ाबला बारिश के कारण धुल गया। सिडनी में मौसम के कारण उनका एक प्रशिक्षण भी प्रभावित हुआ। वहीं कम से कम अपने शुरुआती मुक़ाबले के लिए वह 14 खिलाड़ियों में से ही चयन कर रहे हैं क्योंकि डैरिल मिचेल अभी भी उंगली की चोट से उबर रहे हैं।
विलियमसन ने कहा, "चाहे कुछ भी हो, तैयारी हमेशा अलग-अलग होती है, भले ही यह पूरी तरह से योजनाबद्ध हो।" "उन [त्रिकोणीय श्रृंखला] खेलों को वापस घर में लाना अच्छा था, कुछ वास्तव में प्रतिस्पर्धी क्रिकेट और फिर ऑस्ट्रेलिया में यहां आकर कुछ तैयारी करना अच्छा था। यह अधिक करने और खिलाड़ियों के तरोताज़ा महसूस करने को सुनिश्चित करने की कोशिश करने के बीच का एक संतुलन है।"

ऐंड्रयू मक्ग्लैशन ESPNcricinfo के डिप्टी एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के एडिटोरियल फ़्रीलांसर नवनीत झा ने किया है।