मैच (12)
IND v ENG (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
CWC Play-off (3)
BPL 2023 (2)
PSL 2024 (1)
WPL (1)
ख़बरें

पीसीबी ने पाकिस्तान जूनियर लीग के लिए फ़्रैंचाइज़ी मॉडल को दरकिनार किया

बोर्ड अब छह टीमों का अधिकार अपने पास ही रखेगा

5 से 21 अक्तूबर के बीच लाहौर में पाकिस्तानी समर्थक इस नई लीग का आनंद ले पाएंगे  •  ICC/Getty Images

5 से 21 अक्तूबर के बीच लाहौर में पाकिस्तानी समर्थक इस नई लीग का आनंद ले पाएंगे  •  ICC/Getty Images

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) को अपनी आने वाली अंडर-19 पाकिस्तान जूनियर लीग टी20 (पीजीएल) में फ़्रैंचाइज़ी मॉडल को दरकिनार करना पड़ा है। यह फ़ैसला इस कारण लेना पड़ा क्योंकि फ़्रैंचाइज़ी ख़रीदने वाले बोलीदाताओं ने पीसीबी द्वारा निर्धारित न्यूनतम मूल्य से भी काफ़ी कम पैसे देने चाहे। अब टीमों की कमान ख़ुद बोर्ड के हाथों में रहेगी। उद्घाटन संस्करण में छह टीमें होंगी और मंगलवार को घोषणा हुई कि टीमें बहावलपुर, गुजरांवाला, ग्वादर, हैदराबाद, मर्दान और रावलपिंडी के शहरों से होंगी।
यह टीमें 5 से 21 अक्तूबर के बीच 19 मुक़ाबले लाहौर में खेलेंगी। बोर्ड के अनुसार लगभग 18 देशों से 140 खिलाड़ियों ने इस टूर्नामेंट का हिस्सा बनने की इच्छा ज़ाहिर की है। सब खिलाड़ी 15 से 19 साल के बीच के आयु वर्ग में होंगे और इनका चयन 6 सितंबर को एक ड्राफ़्ट के ज़रिए होगा।
पीसीबी ने टीमों को अपने नियंत्रण में रखने के निर्णय को एक "रणनीतिक फ़ैसला" बताया। हालांकि यह स्पष्ट है कि अपने ही बाज़ार में उम्मीद के अनुसार ख़रीदारों का ना मिल पाना इस लीग की महत्वकांशी योजनाओं के लिए एक बड़ा धक्का है। पीसीबी सीईओ फ़ैज़ल हसनैन ने एक बयान जारी करते हुए कहा, "टीम राइट्स बेचने की बजाय पीसीबी ने संपूर्ण लीग का अधिकार अपने पास रखने का रणनीतिक फ़ैसला लिया है। इससे हम पूरी दुनिया को और अपने व्यावसायिक भागीदारों को इस लीग का मोल और संदर्भ बेहतर दर्शा पाएंगे। लीग से संबंधित वाणिज्यिक वस्तुओं की बिक्री जारी है और हम उच्च कोटि के प्रायोजकों को अपने साथ जोड़ने के बारे में आश्वस्त हैं। जिन लोगों ने टीम के अधिकार के लिए अपनी रुचि व्यक्त की थी मैं उनका शुक्रिया अदा करना चाहूंगा। इस टूर्नामेंट के समाप्ति के बाद हम उनसे दीर्घकालिक समझौतों और रिश्तों के बारे में बातचीत जारी रखेंगे।"
इस लीग की घोषणा बोर्ड अध्यक्ष रमीज़ राजा ने साल के शुरुआत में अपनी योजनाओं के तहत की थी। बोर्ड ने जानबूझकर इस नई लीग में पीएसएल से जुड़ी फ़्रैंचाइज़ी या वहां की टीमों के शहरों को कोई स्थान नहीं दिया है। बोर्ड के अनुसार प्रायोजकों में इस लीग के लेकर काफ़ी उत्साह है और 24 कंपनियां अलग रूप में जुड़ने के लिए इच्छुक हैं। मुख्य प्रायोजक के रूप में चार कंपनियां और डिजिटल राइट्स के लिए एक ब्रॉडकास्टर भी बोर्ड के साथ बात कर रहे हैं लेकिन उनकी बोलियां भी पीसीबी के अपेक्षाओं से काफ़ी नीचे समझी जा रहीं हैं।
बोर्ड ने छह टीमों के मेंटॉर की भूमिका में शाहिद अफ़रीदी, जावेद मियांदाद, डैरन सैमी, कॉलिन मनरो, इमरान ताहिर, विव रिचर्ड्स और शोएब मलिक जैसे दिग्गज खिलाड़ियों से बात कर रखी है।

उमर फ़ारूक़ ESPNcricinfo के पाकिस्तानी संवाददाता हैं। अनुवाद ESPNcricinfo के असिस्टेंट एडिटर और स्थानीय भाषा प्रमुख देबायन सेन ने किया है।