मैच (7)
T20 वर्ल्ड कप (2)
IND v SA [W] (1)
CE Cup (4)
ख़बरें

रियान पराग : मैं निश्चित रूप से भारतीय टीम का हिस्सा बनूंगा

IPL में रियान ने अपने प्रदर्शन से सबको काफ़ी प्रभावित किया था

Riyan Parag gets out for a hit as the rain abates, Rajasthan Royals vs Kolkata Knight Riders, IPL 2024, Guwahati, May 19, 2024

रियान ने IPL 2024 में 573 रन बनाए थे  •  AFP/Getty Images

रियान पराग इस बात को लेकर आश्वस्त हैं कि वह कभी न कभी भारतीय टीम का हिस्सा बनेंगे। 22 वर्षीय खिलाड़ी ने IPL 2024 में राजस्थान रॉयल्स के साथ शानदार प्रदर्शन किया था, जहां उन्होंने 52.09 की औसत और 149.21 की स्ट्राइक रेट से 573 रन बनाए थे।
पराग ने PTI को दिए गए एक बयान में कहा, "किसी न किसी समय, आपको मुझे चुनना होगा, है ना? तो यह मेरा विश्वास है कि मैं भारतीय टीम के लिए खेलने जा रहा हूं। मुझे वास्तव में यह परवाह नहीं है कि ऐसा कब होगा। जब मैं रन नहीं बना रहा था तब भी मैंने एक साक्षात्कार में यह कहा था कि मैं भारतीय टीम के लिए ज़रूर खेलूंगा।
"यह मेरा ख़ुद पर विश्वास है। ऐसा नहीं है कि मैं अहंकारी हो रहा हूं। जब मैंने 10 साल की उम्र से क्रिकेट खेलना शुरू किया था, तब से ही मैंने अपने पिता (पूर्व रेलवे और असम के खिलाड़ी पराग दास) के साथ यह योजना बनाई थी।"
टी20 विश्व कप के बाद भारत पांच टी20 मैच खेलने के लिए ज़िम्बाब्वे की यात्रा करेगा। उस सीरीज़ में पराग को मौक़ा दिया जा सकता है।
पराग ने कहा, "चाहे अगली सीरीज़ में या फिर छह महीने या एक साल के बाद…मैं वास्तव में यह नहीं सोचता कि मुझे कब भारतीय टीम का हिस्सा बनना है। यह चयनकर्ताओं का काम है।"
इस IPL सीज़न से पहले पराग ने कभी भी 200 रनों के आंकड़े को पार नहीं किया था। हालांकि जब से उन्हें नंबर चार पर मौक़ा दिया गया, वह अच्छा प्रदर्शन करने में सफल रहे। अपने राज्य की टीम के लिए भी पराग इसी क्रम पर बल्लेबाज़ी करते हैं।
पराग ने कहा, "आप ने IPL में मेरी जिस बल्लेबाज़ी शैली को देखा, मैं घरेलू क्रिकेट में भी ठीक इसी तरह की बल्लेबाज़ी करता हूं। मैं लगातार ख़ुद पर यह दबाव बनाता हूं कि मुझे अच्छा प्रदर्शन करना है। मैं हमेशा अच्छा प्रदर्शन करने की जिम्मेदारी को अपने साथ लेकर चलता हूं। इसी तरह से खेलते हुए, मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने में सक्षम होता हूं।"
"मैं IPL में उस तरीक़े से नहीं खेल रहा था। मैं बहुत अधिक दबाव ले रहा था। ख़ुद से काफ़ी ज़्यादा उम्मीदें रख रहा था और बुनियादी चीज़ों को सही से नहीं कर रहा था। मैंने सोचा कि इस साल मुझे वैसा ही करना है। अपनी पसंदीदा स्थिति पर बल्लेबाज़ी करते हुए, मैंने ख़ुद से कहा, 'मैं घरेलू क्रिकेट में यही काम करता हूं और IPL में भी मुझे वही करना है।"
RR ने इस सीज़न में अपने पहले नौ मैचों में से आठ मैच जीत लिए थे, लेकिन फिर लगातार पांच मैच हार गए। इसके बाद एलिमिनेटर में सनराइजर्स हैदराबाद के ख़िलाफ़ मिली हार के बाद वह टूर्नामेंट से बाहर हो गए। पराग ने स्वीकार किया कि यह काफ़ी निराशाजनक था।
उन्होंने कहा, "मैं अभी भी (मानसिक रूप से) इससे निपट रहा हूं। जब मैं घर वापस आया तो बहुत दुखी था। यह एक कठिन समय था।
"हालांकि क्रिकेट ऐसे ही चलता है। विश्व स्तरीय टीमें टूर्नामेंट में हिस्सा ले रही हैं। विश्व स्तरीय खिलाड़ी इसमें हिस्सा ले रहे हैं। ऐसे में आप हमेशा जीत नहीं सकते।