मैच (5)
IPL (1)
ACC Premier Cup (2)
Women's QUAD (2)
ख़बरें

द हंड्रेड के एलिमिनेटर में नहीं खेलेंगी शेफाली वर्मा

आगामी ऑस्‍ट्रेलिया दौरे की तैयारियों के मद्देनजर स्वदेश लौटी भारतीय ओपनर

शेफाली ने वेल्श के खिलाफ 42 गेंद में 76 रन की नाबाद पारी खेली थी  •  ECB/The Hundred

शेफाली ने वेल्श के खिलाफ 42 गेंद में 76 रन की नाबाद पारी खेली थी  •  ECB/The Hundred

शेफाली वर्मा बर्मिंघम फ‍िनिक्‍स के लिए ओवल इंविंसिबल्स के खिलाफ शुक्रवार को होने वाला "द हंड्रेड" का ​एलिमिनेटर मुकाबला नहीं खेल पाएंगी। वह भारत के आगामी ऑस्‍ट्रेलिया दौरे की तैयारियों के लिए भारत लौट आई हैं।
ऑस्ट्रेलिया दौरे से पहले कैंप के लिए भारतीय टीम मंगलवार को बेंगलुरु में एकत्रित हुई और सभी खिलाड़ी अभी क्वारंटीन है। जो खिलाड़ी द हंड्रेड में भाग ले रहे थे वह भी इस कैंप में शामिल होंगे।
वर्मा जून की शुरुआत में इंग्लैंड पहुंची थी। उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ हुई मल्टी फॉर्मेट सीरीज में काफी प्रभावित किया और उसके बाद वह जुलाई के मध्य से फ‍िनिक्‍स के लिए खेल रहीं थीं। वहीं दूसरी भारतीय खिलाड़ी स्मृति मांधना की टीम ने भी हंड्रेड के नॉकआउट चरण में क्वालीफाई कर लिया, लेकिन वह सितंंबर में ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना होने से पहले अपने परिवार के संग कुछ समय बिताने के लिए स्वदेश लौट आई हैं।
वर्मा के लिए यह टूर्नामेंट मिला जुला रहा। वह केवल एक ही बार 25 से ज्यादा रन की पारी खेल सकीं, लेकिन इसमें उन्होंने 42 गेंद में नाबाद 76 रन बनाए और अपनी टीम को वेल्श फायर के खिलाफ जीत दिलाई। इसी पारी की वजह से उनकी टीम अगले चरण में पहुंच सकी। उन्होंने इंस्टाग्राम पर टीम की साथी खिलाड़ियों के साथ एक फोटो को पोस्ट करते हुए लिखा कि मैंने सच में इस ग्रुप के साथ खेलने का काफी लुत्फ लिया। दोस्ती और यादें हमेशा साथ रहेंगी। टीम को नॉकआउट चरण के लिए शुभकामनाएं।
वहीं फ‍िनिक्‍स की कप्तान एमी जोंस ने स्वीकार किया कि उनका जाना वाकई में बड़ी क्षति है, लेकिन टीम में इतनी गहराई है कि उनकी कमी महसूस नहीं होगी। जोंस ने कहा कि सभी ने देखा कि वह वेल्श के खिलाफ कितना आक्रामक क्रिकेट खेल रही थी। उनका जाना बड़ी क्षति है, लेकिन हम खुशकिस्मत हैं कि हमारे पास मैरी केली, थिया ब्रूक्स और रिया फैकरल जैसी पावर हिटर्स हैं। इनको अभी मौका नहीं मिल पाया है, वह अनलक्की रही हैं। उन्हें इस टूर्नामेंट में खेलने का मौका मिलना चाहिए था। ओपनिंग की जगह के लिए ये सभी बड़ी दावेदार हैं। मुझे पता है कि वह सभी थोड़ा नर्वस जरूर होंगी, क्योंकि उन्हें सीधे बड़े मुकाबले में खेलना होगा, लेकिन मुझे पता है ये तीनों ही टीम में जगह पाने के लिए बेकरार हैं।
फ‍िनिक्‍स लगातार तीन जीत दर्ज करने के बाद एलिमिनेटर में जगह बनाने में कामयाब रही। शुरुआती दौर में उनका प्रदर्शन इतना खास नहीं रहा था।

मैट रोलर ESPNcricinfo में असिस्‍टेंट एडिटर हैं। @mroller98 । अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है। @nikss26