मैच (15)
एशिया कप (2)
विश्व कप लीग 2 (1)
MLC (2)
Women's Hundred (2)
Men's Hundred (2)
TNPL (1)
One-Day Cup (5)
ख़बरें

नेपाल हेड कोच : हम अपनी कहानी ख़ुद लिख रहे हैं

मोंटी देसाई ने कहा कि उनकी टीम इसी सोच के साथ उतरेगी जैसे उनके पास सुपर 8 में पहुंचने का मौक़ा है

नेपाल के मुख्य कोच मोंटी देसाई के मुताबिक नेपाल T20 वर्ल्ड कप 2024 के अपने अंतिम मैच में छाप छोड़कर जाना चाहता है। भले ही साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ नेपाल को एक रन से शिकस्त झेलनी पड़ी लेकिन नेपाल ने बांग्लादेश के ख़िलाफ़ अपनी कमर कस ली है।
नीदरलैंड्स के पास भी अगले दौर में पहुंचने का मौक़ा है लेकिन उनका नेट रन रेट काफ़ी कम है। जबकि नेपाल पहले ही इस वर्ल्ड कप से बाहर हो चुका है।
देसाई ने कहा, "हम अपनी कहानी लिखने की ओर ध्यान दे रहे हैं, हम किसी और की कहानी ख़राब करने की सोच लेकर नहीं चल रहे हैं। हम इसी तरह से सोचकर मैदान में उतरना चाहते हैं कि हमारे पास तीन अंक हैं और सुपर 8 में पहुंचने का मौक़ा है। अगर हम सफल हो गए तो गर्व के साथ स्वदेश लौटेंगे।"
"नेपाल की सफलता की कहानी का हिस्सा नेपाल क्रिकेट के प्रशंसक भी हैं, जो अपना सारा काम छोड़कर टीम को सपोर्ट करने पहुंचते हैं। मैं ख़ुद जब कीर्तिपुर में त्रिभुवन यूनिवर्सिटी से गुज़रता हूं तो वहां तमाम प्रशंसक अपनी टीम को सपोर्ट करने आए होते हैं। मैं नेपाल क्रिकेट टीम के प्रशंसकों से ऐसे ही अपार समर्थन की उम्मीद करता हूं।"
पूर्व भारतीय क्रिकेटर वसीम जाफ़र ने ESPNcricinfo टाइम आउट हिंदी में भी कहा कि नेपाल किसी भी टीम को मात देने की क्षमता रखती है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि नेपाल के पास साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ जीत हासिल कर आज सुपर 8 में प्रवेश करने का मौक़ा होता लेकिन गेम अवेयरनेस की कमी के चलते नेपाल ने सुनहरा मौक़ा गंवा दिया।
जाफ़र ने साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ नेपाल की पारी के अंतिम ओवर का ज़िक्र करते हुए कहा, "गुलशन झा में गेम अवेयरनेस की कमी दिखाई दी, बतौर बल्लेबाज़ आपको पता होना चाहिए था कि कीपर अंतिम गेंद पर थ्रो करेगा ही। अगर गेंद बैटिंग एंड पर गेंद स्टंप्स पर नहीं लगी तो ज़ाहिर है कि गेंद गेंदबाज़ के पास जाएगी। अगर नेपाल साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ वो मैच जीत जाता तो उनके पास सुपर 8 में पहुंचने का मौक़ा होता।"
बांग्लादेश के तेज़ गेंदबाज़ तंज़िम हसन ने कहा कि उनकी टीम नेपाल को हल्के में नहीं लेगी।
तंज़िम ने कहा, "टी20 क्रिकेट में कोई टीम छोटी या बड़ी नहीं होती। हम हर टीम को एक जैसा ही समझते हैं। टी20 मोमेंटम का खेल है और यह प्रारूप किसी भी टीम को ज़्यादा देर तक मोमेंटम बनाए रखने की अनुमति नहीं देता।"
जाफ़र ने कहा कि नेपाल के पास किसी भी टीम को हराने की क्षमता है लेकिन बांग्लादेश के गेंदबाज़ी आक्रमण का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि इस मैच में बांग्लादेश का ही पलड़ा भारी है।
जाफ़र ने कहा, "नेपाल के पास क्षमता है इसमें कोई दो राय नहीं है। साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ ही वो एक समय तीन विकेट के नुकसान पर 99 पर थे। इनमें क्षमता है और यह बांग्लादेश को भी अपसेट कर सकते हैं। पिछले मैच में मैं ख़ुद नेपाल को हारता देख अपसेट हो गया था लेकिन मुझे बांग्लादेश के गेंदबाज़ी विकल्प को देखते हुए लगता है कि इस मैच में बांग्लादेश का पलड़ा भारी है। बांग्लादेश के लिए भी यह टूर्नामेंट अच्छा रहा है। बांग्लादेश के लिए सुपर 8 में पहुंचने का मौक़ा है। अगर लेग बाय का निर्णय उनके ख़िलाफ़ नहीं गया होता तो उन्होंने भी साउथ अफ़्रीका को हरा ही दिया था। ICC इवेंट में बांग्लादेश का प्रदर्शन बीते कुछ समय से अच्छा नहीं रहा है। नेपाल के पास खोने के लिए कुछ नहीं है, लेकिन जिस तरह से उन्होंने साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ खेला इससे वह काफ़ी आत्मविश्वास से भरे होंगे।"