इंग्लैंड और भारत के बीच ओल्ड ट्रैफ़र्ड में स्थगित हुआ पांचवां टेस्ट मैच अब अगले साल एक जुलाई से पांच जुलाई के बीच एजबेस्टन में खेला जाएगा। यानि ये मुक़ाबला अब इंग्लैंड और भारत के बीच टेस्ट सीरीज़ का निर्णायक मुक़ाबला हो जाएगा, जहां फ़िलहाल भारत 2-1 से आगे है।

इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के बीच लगातार बातचीत के बाद आख़िरकार दोनों बोर्ड के बीच इस बात पर सहमति बन गई। इससे पहले सितंबर में होने वाले इस मैच से भारतीय टीम ने ख़ुद को अलग कर लिया था, जब भारतीय दल में कुछ सपोर्ट स्टाफ़ कोविड-19 की चपेट में आ गए थे।

दोनों बोर्ड की सहमित के साथ-साथ ईसीबी और ब्रॉडकास्टर स्काई के बीच भी इस टेस्ट मैच के लिए अलग से क़रार हो गया है।

इसी दौरान ओल्ड ट्रैफॉर्ड में फ़ू फ़ाइटर्स और रेड हॉट चिली पेपर्स एक कॉन्सर्ट करने जा रहा है, लिहाज़ा पांचवां टेस्ट ओल्ड ट्रैफ़र्ड की जगह एजबेस्टन में आयोजित होगा। इस मैदान पर फिर बाद में 25 अगस्त से इंग्लैंड और साउथ अफ़्रीका के बीच टेस्ट मैच खेला जाएगा, जो पहले एजबेस्टन में होना था।

इस टेस्ट मैच की वजह से अब इंग्लैंड और भारत के बीच सफ़ेद गेंद से होने वाली सीरीज़ में भी फेरबदल हुआ है। पहले के कार्यक्रम के मुताबिक़ नौ जुलाई को एजबेस्टन में भारत को वनडे खेलना था, लेकिन अब उसी दिन टी20 अंतर्राष्ट्रीय से भारत सीमित ओवर सीरीज़ की शुरुआत करेगा।

ईसीबी के प्रमुख टॉम हैरिसन ने कहा, "हमें बेहद ख़ुशी है कि आख़िरकार हमारी बीसीसीआई के साथ इस बात पर सहमति बन गई है कि एक शानदार सीरीज़ का अच्छा अंत हो सके। हमें इस बात के लिए सभी मैदानों का शुक्रिया अदा करते हैं जिन्होंने इस टेस्ट के लिए पहले से तय कार्यक्रम में बदलाव के लिए राज़ी हुए।"

"क्रिकेट साउथ अफ़्रीका के भी हम आभारी हैं जिन्होंने चीज़ों को समझा और कार्यक्रम में बदलाव किया। हालांकि हम उन सभी फ़ैंस से फिर क्षमा मांगते हैं जिन्हें सितंबर में निराशा हाथ लगी।"
टॉम हैरिसन, प्रमुख , ईसीबी

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने भी ईसीबी का शुक्रिया अदा किया जिन्होंने इस मैच को कराने के लिए पूरज़ोर कोशिश की और सफल हुए।

"मैं बहुत ख़ुश हूं कि इंग्लैंड-भारत के बीच टेस्ट मैच सीरीज़ का अब अच्छा अंत होगा। चारों ही टेस्ट मैच बेहद शानदार रहे थे, लिहाज़ा फ़ाइनल की जंग मज़ेदार रहेगी। हमने लगातार ईसीबी के साथ बात की थी और हमारी कोशिश अब रंग लाई, मैं ईसीबी को इसके लिए धन्यवाद देता हूं जिन्होंने हमारी परेशानी को समझा और धैर्य के साथ इसका हल निकाला।"

अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट सैयद हुसैन ने किया है।