मैच (14)
सीपीएल (3)
यूएई बनाम बांग्लादेश (1)
रोड सेफ़्टी (3)
लेजेंड्स लीग (1)
इंडिया ए बनाम न्यूज़ीलैंड ए (1)
काउंटी डिवीज़न एक (1)
काउंटी डिवीज़न 2 (1)
पाकिस्तान बनाम इंग्लैंड (1)
भारत बनाम साउथ अफ़्रीका (1)
वेस्टइंडीज़ बनाम न्यूज़ीलैंड (महिला) (1)
ख़बरें

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने 2032 ओलिंपिक में क्रिकेट को शामिल करने का लक्ष्य रखा

सोमवार को की गई बैठक में ऑस्ट्रेलियाई बोर्ड ने लिया फ़ैसला

Cricket has not been part of the Olympics since 1900

अगर 2028 के ओलिंपिक में यह सफल नहीं हो पाता है तो 2032 में यह प्रयास किया जाएगा  •  Getty Images

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने क्रिकेट की भागीदारी बढ़ाने और देश की खेल संस्कृति में क्रिकेट की स्थिति को केंद्र में बनाए रखने के लिए एक रणनीतिक योजना के हिस्से के रूप में क्रिकेट को 2032 ब्रिस्बेन ओलिंपिक में शामिल करने का लक्ष्य रखा है।
सोमवार को ज़ारी की गई महत्वाकांक्षी "व्हेयर द गेम ग्रोज़" योजना का लक्ष्य अगले पांच वर्षों में क्रिकेट खेलने वाले पांच से 12 वर्ष की आयु के बच्चों की संख्या को दोगुना करके 210, 000 करना है, जिसमें लड़कियों की संख्या 60,000 है।
एक और लक्ष्य 1900 के बाद पहली बार क्रिकेट को ओलिंपिक में वापस लाना है। अगर 2028 के ओलिंपिक में यह सफल नहीं हो पाता है तो 2032 में यह प्रयास किया जाएगा। आठ अन्य खेलों के साथ 2028 ओलिंपिक में संभावित समावेश के लिए क्रिकेट को शॉर्टलिस्ट किया गया है और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) इस महीने के अंत में आयोजकों को एक प्रस्तुति देगा।
मेज़बान शहर किसी भी खेल को शामिल कर सकता है लेकिन इसके लिए अंतर्राष्ट्रीय ओलिंपिक समिति (आईओसी) की मंजूरी की ज़रूरत होती है।
हाल ही में आयोजित हुए कॉमनवेल्थ खेलों में क्रिकेट को शामिल किया गया था, जहां ऑस्ट्रलिया की महिला टीम ने भारत को फ़ाइनल में नौ रनों से हरा कर गोल्ड मेडल जीता था।
ब्रिस्बेन ने 2032 खेलों के उद्घाटन और समापन समारोह की मेज़बानी के लिए शहर के गाबा क्रिकेट मैदान को 50,000 सीटों वाले ओलिंपिक स्टेडियम के रूप में पुनर्निर्माण करने की योजना बनाई है।
2032 के ओलिंपिक और पैरालिंपिक में क्रिकेट को शामिल करना योजना का हिस्सा है, जिसका उद्देश्य प्रशंसकों के अनुभव में सुधार करना, ज़मीनी स्तर पर खेल का विस्तार करना और विश्व स्तर पर ऑस्ट्रेलिया की सफलता को ज़ारी रखना है।
सीए ने अगले पांच वर्षों में पुरुष और महिला दोनों राष्ट्रीय टीमों के लिए कम से कम तीन आईसीसी टूर्नामेंट जीतने का लक्ष्य रखा है।