मैच (23)
IPL (2)
PAK v WI [W] (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
WT20 WC QLF (Warm-up) (5)
CAN T20 (2)
RHF Trophy (4)
फ़ीचर्स

आंकड़े झूठ नहीं बोलते: पावरप्ले में ही विपक्षी टीमों का काम तमाम कर रही भुवी एंड कंपनी

एक बार फिर कार्तिक से बेहतरीन फ़िनिश की उम्मीद

भुवनेश्वर कुमार ने पिछले टी20 विश्व कप के बाद से पावरप्ले में 8 टी20आई विकेट चटकाए हैं  •  BCCI

भुवनेश्वर कुमार ने पिछले टी20 विश्व कप के बाद से पावरप्ले में 8 टी20आई विकेट चटकाए हैं  •  BCCI

पहले दो मैचों में हार के बाद भारतीय टीम ने ज़ोरदार वापसी करते हुए सीरीज़ को बराबरी पर ला खड़ा किया है, और साउथ अफ़्रीका को घर में पहली बार टी20 सीरीज़ में हराने से बस एक जीत दूर है। द्विपक्षीय टी20आई के निर्णायक मैचों में भारत का रिकॉर्ड काफ़ी शानदार है। 2016 से भारत ने 11 निर्णायक मैचों में 9 में जीत दर्ज की है (तीन से ज़्यादा मैच वाले सीरीज़ में)। वहीं साउथ अफ़्रीका की नज़रें आख़िरी मैच को जीतकर भारत को घर में लगातार दो टी20 सीरीज़ में हराने वाली पहली टीम बनने पर होगी। आइए और अधिक आकड़ों के ज़रिए जानते हैं कि किसका पलड़ा भारी है।
मेहमान गेंदबाज़ों पर बरस रहे हैं किशन
इशान किशन के लिए टी20आई के लिहाज़ यह साल शानदार रहा है। वह इस साल टी20आई में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज़ हैं। उनके नाम सिर्फ़ 9 पारियों में 367 रन दर्ज है। इस सीरीज़ में भी वह साउथ अफ़्रीकी गेंदबाज़ों पर टूट के पड़े हैं और चार मैचों में 191 रन बटोरे हैं। ड्वने प्रिटोरियस को छोड़कर उन्होंने हर गेंदबाज़ के सामने डेढ़ सौ के ऊपर के स्ट्राइक रेट से रन बटोरे हैं। इस सीरीज़ में गेंद प्रति बाउंड्री लगाने की बात करें तो किशन इस मामले में सिर्फ़ दिनेश कार्तिक से पीछे हैं। कार्तिक एक बाउंड्री लगाने में 3.9 गेंद ले रहे हैं वहीं किशन हर 4.3वें गेंद पर बाउंड्री बटोर रहे हैं। भारतीय टीम चाहेगी कि सीरीज़ के निर्णायक मुक़ाबले में भी किशन अपनी हालिया फ़ॉर्म को बरक़रार रखें।
एक बार फिर कार्तिक से बेहतरीन फ़िनिश की उम्मीद
दिनेश कार्तिक को इस साल के आईपीएल में शानदार प्रदर्शन के बाद साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ सीरीज़ के लिए चुना गया था और वह इस सीरीज़ में अब तक उम्मीदों पर ख़रे उतरे हैं। दूसरे टी20 में उन्होंने मुश्किल विकेट पर 143 के स्ट्राइक रेट से नाबाद 31 रन बनाए थे, और चौथे टी20 में उन्होंने अपने टी20 अंतर्राष्ट्रीय करियर का पहला अर्धशतक बनाया और एमएस धोनी के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए टी20 अंतर्राष्ट्रीय में अर्धशतक बनाने वाले सबसे उम्रदराज भारतीय बन गए। कार्तिक बतौर फ़िनिशर अपनी भूमिका पूरी तरह से निभा रहे हैं। उन्होंने इस सीरीज़ में बनाए गए अपने 92 रनों में से 84 रन डेथ ओवरों में बनाए हैं। इस फेज़ में उनका स्ट्राकरेट 187 का रहा है और लगभग हर तीसरी गेंद पर उन्होंने बाउंड्री बटोरा है। अगर कगिसो रबाडा पांचवें टी20 में खेलते हैं तो कार्तिक को उनसे सावधान रहने की ज़रूरत है, क्योंकि रबाडा ने उन्हें दस पारियों में चार बार पवेलियन का रास्ता दिखाया है जबकि इस दौरान कार्तिक ने सिर्फ़ 70 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं।
पावरप्ले में ही विपक्षी टीमों का काम तमाम कर रहे भारतीय गेंदबाज़
2021 की शुरुआत से पिछले टी20 विश्व कप तक भारत की पावरप्ले में गेंदबाज़ी चिंता का विषय थी। क्योंकि भारतीय गेंदबाज़ों ने इस दौरान 13 पारियों में 40.1 की औसत और 33.4 के स्ट्राइक रेट से केवल 14 विकेट लिए। टी20 विश्व कप के बाद से चीज़ें बदल गई है, भारत ने पावरप्ले में 23 विकेट लिए हैं जो कि शीर्ष दस टीम में सबसे अधिक है। भारत का इस फेज़ में दूसरा सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज़ी औसत और तीसरा सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज़ी स्ट्राइक रेट है। 2021 टी20 विश्व कप के बाद भारत केवल एक बार पावरप्ले में खाली हाथ रहा है, जबकि आठ मौक़ों पर दो से ज़्यादा विकेट लिए हैं जो यह दर्शाता है कि वे इस फेज़ में कितने प्रभावशाली रहे हैं। शीर्ष दस टीमों में किसी भी टीम ने पावरप्ले में भारत से ज़्यादा बार 2+ विकेट नहीं लिए हैं। भुवनेश्वर कुमार इस फेज़ में सबसे सफल भारतीय गेंदबाज़ हैं, उन्होंने इस दौरान 8 विकेट चटकाए हैं।
भारत की राह में रोड़ा न बन जाएं 'किलर मिलर'
डेविड मिलर इस समय सपने सरीख़े फ़ॉर्म से गुज़र रहे हैं। आईपीएल में धमाल मचाने के बाद पहले दो मैचों में भी उन्होंने ज़बरदस्त बल्लेबाज़ी कर साउथ अफ़्रीका जीत दिलाई। लेकिन पिछले दो मैचों में हर्षल ने उनका बल्ला शांत रखा है। आंकड़े कहते हैं कि 2019 से मिलर 25 से ज़्यादा रन बनाते हैं तो साउथ अफ़्रीका 80 फ़ीसदी मैच जितती है। अगर इस दौरान वह नाबाद रहे हैं तो उनकी टीम और अधिक 84.6 फ़ीसदी मैच जितती है। इन आंकड़ों को देखते हुए भारत उन्हें जल्द से जल्द आउट करना चाहेगा। मिलर को हार्दिक पंड्या और युज़वेंद्र चहल ने क्रमशः चार और तीन बार आउट किया है, जबकि उन्हें दो-दो बार अवेश ख़ान और हर्षल पटेल ने आउट किया है, लेकिन अधिकांश भारतीय गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ उनका स्ट्राक रेट डेढ़ सौ से अधिक है।

कुणाल किशोर ESPNcricinfo हिंदी में एडिटोरियल फ़्रीलांसर हैं। @ImKunalKishore