मैच (11)
रणजी ट्रॉफ़ी (2)
NZ v AUS (1)
Nepal Tri-Nation (1)
PSL 2024 (2)
Sheffield Shield (3)
WPL (1)
Dang CL (1)
फ़ीचर्स

रेटिंग्‍स: दीप्ति और जेमिमाह ने किया कमाल

साउथ अफ़्रीका में होने वाले आगामी टी20 विश्‍व कप में यह भारतीय खिलाड़ी साबित हो सकते हैं अहम

दीप्ति ने तीन विकेट लेकर वेस्‍टइंडीज़ पर बेहद ही दबाव बना दिया था  •  BCCI

दीप्ति ने तीन विकेट लेकर वेस्‍टइंडीज़ पर बेहद ही दबाव बना दिया था  •  BCCI

साउथ अफ़्रीका में दस फ़रवरी से महिला टी20 विश्‍व कप शुरू होने जा रहा है उससे पहले भारतीय महिला टीम के आगे दो इम्तिहान हैं। एक को भारतीय टीम ने आठ विकेट की जीत के साथ हासिल कर लिया है। त्रिकोणीय सीरीज़ का फ़ाइनल होगा, कोई भी जीते लेकिन वेस्‍टइंडीज़ के ख़‍िलाफ़ आठ विकेट से जीत दिखाती है कि कुछ ख़ास होने जा रहा है। तो चलिए देखते हैं किसने बनाया इस मैच को ख़ास।

क्या सही, क्या ग़लत

भारत के लिए सबसे बड़ी बात यह है कि उनके पास कई सारे गेंदबाज़ी विकल्‍प हैं। ओपनिंग पर भी कई सारे विकल्‍प हैं। टी20 विश्‍व कप के पहले उन्‍हें इन्‍हीं मोतियों को सही माला पहनानी है।

अगर ग़लत की बात की जाए तो इस मैच में भारत के लिए लगभग सबकुछ अच्‍छा गया, लेकिन जो प्रभुत्‍व की बात ऑस्‍ट्रेलिया के लिए की जाती है वह इस मैच में नहीं देखा गया। अंतिम ओवरों में रन लुटा देना और शुरुआती विकेट गंवा देना। भारतीय टीम इस चरित्र से कहीं आगे हैं।

(रेटिंग्स 1 से 10, सर्वाधिक 10)

स्मृति मांधना, 5 : स्‍मृति इस टीम की बेहद ही अहम हिस्‍सा हैं। अगर वह शुरुआत अच्‍छी दिलाती हैं, तो कहानी अलग होती है, लेकिन अगर उनका विकेट जल्‍दी गिर जाता है तो मुसीबत भी बढ़ जाती है। इस बार भी ऐसा ही हुआ वह जल्‍दी आउट हो गई, लेकिन जेमिमाह की बेहतरीन फ़ॉर्म उनका बचाव कर गई। वह भी तब जब जेमिमाह लगातार ओपन नहीं करती हैं।

जेमिमाह रॉड्रिग्‍स, 9 : जेमिमाह इस टीम की ऐसी बल्‍लेबाज़ हैं जिनको किसी भी स्‍थान पर खिलाया जा सकता है। उनको टीम से ड्रॉप करना बहुत ही बड़ा नुक़सान था। शेफ़ाली आक्रामक हैं और स्‍मृति गेम चलाने वाली, लेकिन जब जेमिमाह ओपनिंग पर शेफ़ाली की जगह आईं तो स्‍मृति के पास आक्रामक और जेमिमाह के पास अपना गेम खेलने का मौक़ा मिला और दे‍ख सकते हैं परिणाम क्‍या मिला।

हरलीन देओल, 5 : हरलीन के लिए यह सीरीज़ अच्‍छी नहीं गई है और आख़‍िरी ग्रुप मैच में भी वह केवल 16 गेंद में 13 रन बना सकीं। नंबर तीन की इस महत्‍वपूर्ण स्‍थान पर उन्‍हें भेजा गया लेकिन वह इसमें क़ामयाब नहीं हो पा रही हैं और टी20 विश्‍व कप से पहले टीम प्रबंधन के दिमाग़ में कई सवाल आने शुरू हो गए होंगे।

हरमनप्रीत कौर, 8 : कप्‍तानी की बात तो बाद में की जाएगी लेकिन जिस तरह की बल्‍लेबाज़ी उन्‍होंने की है वह कमाल है। 23 गेंद में नाबाद 32 रन, जिस समय मैच महिला क्रिकेट में फंसता नज़र आता है तो आक्रमण की ज़रूरत होती है और यही हरमनप्रीत ने करके दिखाया। इससे पहले जब किसी कप्‍तान के पास इतने सारे विकल्‍प हो जाते हैं तो वह लगभग क़ामयाब हो ही जाता है, लेकिन कब किसका किस समय इस्‍तेमाल करना है, वह कोई हरमनप्रीत कौर से सीख सकता है। जिस तरह से पावरप्‍ले में उन्‍होंने दीप्ति का इस्‍तेमाल किया और स्पिन देखते हुए राजेश्‍वरी को भी तभी ले आईं इससे कैरेबियन टीम दबाव में आ चुकी थी। इसके बाद पूजा को उन्‍होंने डेथ ओवरों के लिए बचाया और रेणुका, शिखा के ओवर भी पहले ही निकलवा दिए।

यास्तिका भाटिया, 7 : यास्तिका विकेट के पीछे पूरी तरह से मुस्‍तैद थीं। पहले तो उन्‍होंने बैकवर्ड स्‍क्‍वेयर लेग पर भागते हुए वेस्‍टइंडीज़ की सबसे बड़ी बल्‍लेबाज़ हेली मैथ्‍यूज़ का सबसे बड़ी विकेट दिलाने में मदद की और इसके बाद शबीका गजनबी को स्‍टंप आउट कराया।

देविका वैद्य, 6 : देविका को एक ही ओवर करने को मिला और उन्‍होंने इसमें कमाल का काम करते हुए केवल चार रन दिए। उनकी बल्‍लेबाज़ी नहीं आई और ना ही उन्‍होंने कोई कैच या रन आउट किया।

दीप्ति शर्मा, 10 : विकेट से स्पिन मिल रही हो और वहां दीप्ति चूक जाएं ऐसा हो ही नहीं सकता है। उन्‍होंने दिखाया कि स्पिन की मददगार पिच पर किस तरह से गेंदबाज़ी की जा सकती है। चौथे स्‍टंप पर ललचाती हुई लेंथ गेंद पर पहले उन्‍होंने रशादा विलियम्‍स को बोल्‍ड किया और अगली ही गेंद पर इसी अंदाज़ में शमैन कैंपबेल का विकेट लिया। इसके बाद अगले गियर में शबीका गजनबी को जाते देख उन्‍होंने उन्‍हें अपने दिमाग़ से स्‍टंपिंग कराया।

पूजा वस्त्रकर 8, : पूजा एक तरह से भारत के लिए बेहद ही अहम खिलाड़ी बनती जा रही हैं। चार ओवर में एक मेडन के साथ 19 रन देकर दो विकेट दिखाता है कि वह डेथ ओवर में गेंदबाज़ी करने की क़ाबिलियत रखती हैं। पहले उन्‍होंने पुल के लिए ललचाकर हेली मैथ्‍यूज़ का सबसे बड़ा विकेट दिलाया और डेथ ओवरों में लगातार हार्ड लेंथ डालकर परेशान किया और अंत में एक और विकेट लिया।

शिखा पांडे, 6 : शिखा को इस मैच में तीन ही ओवर करने को मिले लेकिन उन्‍होंने बेहतरीन ढंग से गेंदबाज़ी की। केवल 22 रन दिए। य‍ह प‍िच स्‍पिनरों के मुफ़ीद थी तो हरमनप्रीत ने भी अपने गेंदबाज़ों की क़ीमत अच्‍छे से समझा।

राजेश्वरी गायकवाड़, 9 : चार ओवर में नौ रन और एक मेडन के साथ एक विकेट। इस प्रदर्शन के बारे में क्‍या ही कहा जा सकता है। नौ अंक के तो यह बाएं हाथ की स्पिनर हक़दार है। आर्म बॉल हो या उनकी फ़्लाइट के साथ कमाल की बाहर निकलती गेंद। उनको खेलने में मुश्किल हो रही थी। जेनाबा जोसेफ़ फ़्लाइट सोचकर रूम बनाकर कट लगाने गईं लेकिन यह गेंद आर्म बॉल थी और उनका विकेट ले गई।

रेणुका सिंह, 6 : रेणुका सिंह इस मैच में विकेट नहीं ले सकीं, लेकिन उन्‍होंने अपनी स्विंग गेंदबाज़ी से वेस्‍टइंडीज़ के बल्‍लेबाज़ों की मुश्किल बढ़ाए रखी। चार ओवर में कवेल 22 रन देना दिखाता है कि वह किस कदर संतुलित थीं।

निखिल शर्मा ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर हैं। @nikss26