मैच (6)
न्यूज़ीलैंड, इंग्लैंड में (1)
बांग्लादेश, वेस्टइंडीज़ में (1)
भारतीय महिला टीम, श्रीलंका में (1)
भारत, इंग्लैंड में (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (1)
IRE v IND (1)
फ़ीचर्स

शीर्ष क्रम से अधिक योगदान चाहते हैं राहुल

ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो एक्सपर्ट्स वेटो​री और चावला चाहते हैं ऊपर बल्लेबाज़ी करें स्टॉयनिस

आपको य​कीन नहीं होगा कि लखनऊ सुपर जायंट्स ने लक्ष्य का पीछा करते हुए अपना पिछला मुक़ाबला सात अप्रैल को एक महीने से ज़्यादा समय पहले जीता था। यह आईपीएल 2022 का दूसरा सप्ताह था। अब जब टूर्नामेंट के लीग स्तर में एक ही सप्ताह का समय बचा है और टीम प्लेऑफ़ में जाना चाहती है तो यह भी ज़रूरी है कि वे अपनी रणनीति में सटीक रहे।
रविवार को भी लखनऊ सुपर जायंट्स को 179 रनों का लक्ष्‍य मिला, यह और भी अधिक हो सकता था जिस तरह से राजस्‍थान रॉयल्‍स के बल्‍लेबाज़ खेलते नज़र आ रहे थे। जवाब में केएल राहुल की टीम ने पावरप्ले में ही 34 रनों पर तीन विकेट गंवा दिए और मध्य क्रम के करने के लिए बहुत कुछ छोड़ दिया। ऐसे में नो तो मध्य क्रम के पास इतना अनुभव था और ना ही निचले क्रम के पास बड़े शॉट खेलने की क्षमता।
हार के बाद राहुल ने स्वीकार किया कि उन्हें बल्लेबाज़ी के वक़्त "होशियार" होना होगा और खेल पर "अधिक मेहनत" करनी होगी क्योंकि यह लगातार चौथी बार है जब उनकी टीम लक्ष्य का पीछा नहीं कर पाई है।
राहुुल ने ब्रॉडकास्टर पर कहा, "यह लक्ष्य पाया जा सकता था। यह अच्छी पिच थी, नई गेंद के साथ थोड़ा स्विंग जरूर मिल रहा था। हालांकि हम अपनी रणनीति को अमलीजामा नहीं पहना सके और एक बार दोबारा बल्लेबाज़ी क्रम पिछले कुछ मैचों की ही तरह एक यूनिट के तौर पर काम नहीं कर सका। हमें पीछे मुड़कर देखने की ज़रूरत है और अपने खेल पर काम करने की ज़रूरत है, होशियार बनने की ज़रूरत है कि जब हम मध्य ओवरों में हों तो हमें टीम के लिए मैच जीतने की कोशिश करनी चाहिए।"
उन्होंने कहा, "पुणे में पिच सख़्त थी, वहां पिच पर बहुत कुछ था। यहां ब्रेबोर्न स्टेडियम में पिच बहुत अच्छी थी। यहां शुरुआत में सीम मूवमेंट था, ट्रेंट बोल्ट और प्रसिद्ध कृष्णा जैसे बेहतरीन गेंदबाज़ हार्ड लेंथ पर हिट कर रहे थे। उन्होंने अच्छी जगह पर गेंदबाज़ी की और अगर आप एक ही ओवर में दो विकेट गंवा देते हो तो दबाव आप पर आ जाता है और ऐसा कई बार ह​मारे साथ हो चुका है, जहां हमने पावरप्ले में ही मैच को गंवा दिया है, हमने शुरुआत में ही तीन से चार विकेट गंवा दिए और उसके बाद वापसी करना मुश्किल हो जाता है। हमें अपने खेल पर काम करने की ज़रूरत है और यह पक्का करने की ज़रूरत है कि जब गेंद घूम रही हो और सामने बेहतरीन गेंदबाज़ हों, तो हमें क्रीज़ पर खड़े रहने का तरीक़े देखने होंगे और सुनिश्चित करना होगा कि टीम को सही शुरुआत मिले जिससे कि बाद में आने वाले बल्लेबाज़ रन बना सकें।"
लखनऊ अब दूसरी टीम इस सूची में हो गई है, जिन्‍होंने इस आईपीएल के पावरप्‍ले में सबसे अधिक विकेट गंवाए हैं। इस मामले में वह कोलकाता नाइट राइडर्स से ही पीछे हैं। रविवार को बोल्ट और प्रसिद्ध ने छह ओवर के अंदर ही क्विंटन डिकॉक, आयुष बदोनी और राहुल के विकेट निकाल लिए थे।
राहुल ने इसे लेकर कहा, "अगर हम मध्य ओवरों में संभल जाते जब हम बल्लेबाज़ी कर रहे थे और नई गेंद को अच्छे से खेलते या एक अच्छा स्पेल खेल जाते तो अच्छा होता। अगर हम एक स्पेल अच्छा कर जाते तो वहां से हम मैच जीत सकते थे। हमारी बल्लेबाज़ी में ताक़त हैं, बल्लेबाज़ लंबे और दूर तक हिट कर सकते हैं और वे बड़े ओवर निकाल सकते हैं, तो बस आपको हाशियार बनकर अच्छे स्पेल निकालने होंगे।"
लखनऊ को अगर रविवार को सफल होना था तो उन्हें मैच को डीप ले जाना था क्योंकि राजस्थान की डेथ गेंदबाज़ी इतनी अच्छी नहीं और उनका इस फ़ेज में बहुत ख़राब इकॉनमी है। हो सकता है कि लखनऊ थिंक-टैंक ने मार्कस स्टॉयनिस और जेसन होल्डर को उस चरण के लिए बचा रखा हो, लेकिन बदोनी को नंबर तीन पर भेजने का फ़ैसला उल्टा पड़ गया क्योंकि वह गोल्डन डक पर आ गए थे।
उनके गेंदबाज़ी कोच एंडी बिकल ने मैच के बीच में ब्रॉडकास्टर से कहा था कि बदोनी को प्रमोट इसलिए किया गया क्योंकि उन्होंने कई अभ्यास मैचों में अच्छी बल्लेबाज़ी की थी और राहुल ने मैच के बाद कहा कि स्टॉयनिस को अगले कुछ मैचों में ऊपर भेजा गया है।
राहुल ने पत्रकार वार्ता में कहा, "बदोनी अच्छी बल्लेबाज़ी करता है। पिछले चार से पांच मैचों से हमने सोचा कि हम उसको किसी अलग़ तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं, तो शीर्ष क्रम पर उनका इस्तेमाल किया जा सकता है।"
राहुल ने स्टॉयनिस पर कहा, "हमारी यह कोशिश है कि खिलाड़ियों को स्थिति के मुताबिक मौक़ा दिया जाए, स्टॉयनिस के पास बहुत ताक़त है और वह अंत में हमारे ​लिए अहम हो सकता है। हम बल्लेबाज़ी रोल को लेकर थोड़े लचीले हैं।"
उन्होंने कहा, "उन्होंने दिखाया है कि वह हमारे लिए अकेले मैच जिता सकते हैं, लेकिन आपको दूसरे छोर पर उनकी मदद करने के लिए खड़ा रहना होगा। टीम चाहती है कि शीर्ष क्रम मैच को बनाए और स्टॉयनिस और होल्डर हमारे लिए मैच ख़त्म करें, दुर्भाग्य से अभी तक ऐसा नहीं हो पाया है। हम देख रहे हैं कि स्टॉयनिस को प्रमोट करें और उन्हें कुछ गेंद खेलने का मौक़ा मिले।"
ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो पर एक्सपर्ट डैनियल वेटोरी और पीयूष चावला ने टी20 टाइम आउट शो पर बताया कि लखनऊ को स्टॉयनिस और होल्डर को क्रुणाल पंड्या से पहले खिलाना चाहिए।
चावला ने कहा "सच कहूं तो यह टीम अपने शीर्ष तीन बल्‍लेबाज़ों पर निर्भर है। मध्य ओवरों में आपके पास स्टॉयनिस हैं, जो बहुत देर से आते हैं और अगर आप दूसरे बल्लेबाज़ को देखें तो उनके पास ज़्यादा अनुभव नहीं है। कुछ मैचों से इस टीम का कमज़ोर मध्य क्रम ख़ुलकर सामने आया है।"
वेटोरी ने कहा, "कई बार देखा जाता है कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ख़ुद को साबित कर चुके बल्लेबाज़ों को पांच, छह या सात के लिए छोड़ दिया जाता है। वहीं घरेलू क्रिकेट या अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में ख़ुद को साबित नहीं कर सके उन्हें आगे भेज दिया जाता है। स्टॉयनिस ने ऊपर कई बार बल्‍लेबाज़ी की है लेकिन क्रुणाल के पास यह कम अनुभव है। उनके पास होल्डर भी हैं, जिसका वह इस्तेमाल कर सकते हैं।"
वेटोरी ने यह भी कहा कि लखनऊ ने नंबर तीन पर बदोनी को भेज दिया जबकि दीपक हुड्डा ने इस क्रम पर पहले बहुत अच्छा किया। उन्होंने कहा, "आप चाहते हैं कि आपका सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज़ उस स्थान पर आए क्योंकि तीन पर उन्होंने अब कई बार बल्लेबाज़ी की है और वह कई मामलों में राहुल की तरह दिखते हैं।"

विशाल दीक्षित ESPNcricinfo असिस्‍टेंट एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।