मैच (13)
NZ v AUS (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (2)
PSL 2024 (1)
WPL (1)
विश्व कप लीग 2 (1)
Nepal Tri-Nation (1)
Sheffield Shield (3)
CWC Play-off (3)
ख़बरें

सिराज : ऑस्ट्रेलिया दौरे पर मैं अक्सर कमरे में रोता था

2021-21 के इस दौरे के दौरान सिराज के पिता की मृत्यु हो गई थी और क्वारंटीन नियमों के कारण सिराज भारत नहीं लौट पाए थे

2020-21 के दौरान हुए ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर खिलाड़ी एक-दूसरे के कमरे में नहीं जा सकते थे  •  Getty Images

2020-21 के दौरान हुए ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर खिलाड़ी एक-दूसरे के कमरे में नहीं जा सकते थे  •  Getty Images

भारत और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (आरसीबी) के तेज़ गेंदबाज़ मोहम्मद सिराज ने अपने पिता के देहांत के बारे बात करते हए कहा कि वह अक्सर अपने होटल के कमरे में बैठ कर रोया करते थे। नवंबर 2021 में सिराज के पिता का देहांत हो गया था, तब वह भारतीय टेस्ट टीम के साथ ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर थे। कोविड के कारण लगाए गए प्रतिबंधों के कारण वह उस समय भारत नहीं आ पाए थे।
आरसीबी सीज़न 2 पोडकास्ट पर बोलते हुए, सिराज ने कहा कि वह बायो-बबल के अंदर रहने के दौरान अक्सर अपने कमरे में रोते थे।
सिराज ने कहा, "(उस सीरीज़ के दौरान )ऑस्ट्रेलिया में कोई भी खिलाड़ी किसी अन्य खिलाड़ी के कमरे में नहीं जा सकता था। हम वीडियो कॉल पर बात करते थे। हालांकि श्रीधर सर (भारत के पूर्व फ़ील्डिंग कोच आर श्रीधर) अक्सर फ़ोन करके मुझसे पूछते थे कि आप कैसे हैं, आपने क्या खाया है। यह एक अच्छा अहसास था और उस समय मेरी मंगेतर भी मुझसे (फ़ोन पर) बात करती थी। मैं फ़ोन पर कभी नहीं रोया, लेकिन ऐसे कई मौके़ आए जब मैं कमरे में रोया करता था।"
इसके अलावा सिराज ने कहा कि उस समय के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने भी उन्हें काफ़ी प्रोत्साहित किया था।
"मैं अपने पिता के निधन के अगले दिन प्रशिक्षण के लिए गया और रवि शास्त्री ने मुझसे कहा कि मेरे ऊपर मेरे पिता का आशीर्वाद है और मैं पांच विकेट लूंगा। जब मैंने ब्रिस्बेन में पांच विकेट लिए, तो उन्होंने मुझसे कहा: 'देखो, मैंने तुमसे क्या कहा था कि तुम पांच विकेट लोगे।' "
"जब मेरे पिता आसपास थे तो बहुत अच्छा लगता था क्योंकि वह अपने बेटे की सफलता देखना चाहते थे। मुझे पूरी मेहनत करते देखकर उन्हें बहुत गर्व और खु़शी होती थी। मैं हमेशा अपने पिता के सामने अच्छा प्रदर्शन करना चाहता था, और यह सपना सच भी हो गया लेकिन मैं चाहता हूं कि मैं इसे आगे भी जारी रखूं।"