मैच (15)
IPL (2)
ACC Premier Cup (2)
Women's QUAD (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ख़बरें

कोहली की टीम इंडिया पुरानी वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम जैसी है : स्टीव हार्मिसन

यह भारतीय टीम किसी भी परिस्थिति से वापसी करते हुए विपक्षी टीम को नेस्तनाबूद कर सकती है

इंग्लैंड दौरे पर भारतीय टीम का कमाल लगातार जारी है, पांच मैचों की टेस्ट सीरीज़ का चौथा मुक़ाबला जीतते हुए भारत ने 2-1 की बढ़त हासिल कर ली है। ओवल में 50 साल बाद मिली इस जीत के बाद हर तरफ़ से भारतीय क्रिकेट टीम की तारीफ़ों में क़सीदे गढ़े जा रहे हैं।
इसी कड़ी में ESPNcricinfo 'मैच-डे' कार्यक्रम में बतौर एक्सपर्ट मौजूद इंग्लैंड के पूर्व तेज़ गेंदबाज़ स्टीव हार्मिसन ने भी विराट कोहली की कप्तानी वाली इस टीम की जमकर तारीफ़ की और इसकी तुलना 2000 के दशक वाली की ऑस्ट्रेलियाई टीम से कर डाली।
दबाव वाले हालातों में भारत विपक्षी टीम से कहीं आगे है, ख़ास तौर से पांचवें दिन यह टीम कुछ अलग ही खेलती है। यह टीम कुछ-कुछ उस तरह की है जैसे 2000 की ऑस्ट्रेलियाई टीम हुआ करती थी जो किसी भी टीम को नेस्तनाबूद कर दिया करती थी। मैं और वीवीएस लक्ष्मण भी उस टीम के ख़िलाफ़ खेल चुके हैं। यह भारतीय टीम भी उस ऑस्ट्रेलियाई टीम की ही तरह विपरित हालातों से भी वापसी करते हुए मैच जीतने की ताक़त रखती है।
स्टीव हार्मिसन, पूर्व तेज़ गेंदबाज़, इंग्लैंड
जिस ऑस्ट्रेलियाई टीम की बात हार्मिसन कर रहे हैं, वह टीम सही मायनों में इस सदी के पहले दशक में शानदार थी। ऑस्ट्रेलिया ने 2000 से 2009 के बीच कुल 115 टेस्ट खेले थे जिसमें से उन्हें 79 में जीत हासिल हुई थी और सिर्फ़ 18 बार हार का सामना करना पड़ा था। जबकि 18 मुक़ाबले ड्रॉ पर समाप्त हुए थे।
इतना ही नहीं इस टीम का दबदबा इस बात से भी समझा जा सकता है कि इस दौरान ऑस्ट्रेलिया ने विदेशी सरज़मीं पर 53 टेस्ट खेले थे जिसमें से 31 में उन्हें जीत हासिल हुई थी। सिर्फ़ 13 ही मुक़ाबले ऐसे थे जहां उन्हें हार का सामना करना पड़ा था।
पिछले तीन सालों में अगर भारतीय टीम के प्रदर्शन पर नज़र डालें तो इस दौरान भारत ने 29 टेस्ट खेले हैं जिनमें उन्हें 18 मैचों में जीत हासिल हुई है। जबकि आठ में हार का सामना करना पड़ा और तीन मुक़ाबले ड्रॉ रहे हैं, इस दौरान ही भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ दो टेस्ट सीरीज़ भी जीती है।
इसी कार्यक्रम में पूर्व भारतीय दिग्गज वीवीएस लक्ष्मण भी मौजूद थे, उन्होंने भी हार्मिसन की बात पर हामी भरी और साथ ही लक्ष्मण ने इस टीम की ताक़त के पीछे बेहतरीन बेंच स्ट्रेंथ को बताया।
इस टीम में कई ऐसे खिलाड़ी हैं जो फ़िलहाल बेंच पर बैठे हैं लेकिन उनमें प्रतिभा की कमी नहीं है, यही कारण है कि कोई खिलाड़ी किसी वजह से नहीं खेलता तो भी इस टीम के पास उसका बेहतरीन रिप्लेसमेंट मौजूद रहता है।
वीवीएस लक्ष्मण, पूर्व भारतीय बल्लेबाज़
इंग्लैंड और भारत के बीच अब पांचवां और आख़िरी टेस्ट 10 सितंबर से मैनचेस्टर में खेला जाएगा, जिसे जीतकर भारत एक नया इतिहास रचने की कोशिश करेगा। आज तक किसी एक सीरीज़ में इंग्लिश सरज़मीं पर भारत ने 2 से ज़्यादा टेस्ट नहीं जीते हैं और अगर मैनचेस्टर में भी कोहली एंड कपंनी मैदान मारती है तो फिर यह भारतीय इतिहास के सबसे सुनहरे दौर में से एक होगा।

सैयद हुसैन ESPNCricinfo हिंदी में मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट हैं।@imsyedhussain