फ़ीचर्स

अंडर-19 विश्व कप : हरनूर, फ़ैसल, ब्रेविस, कॉनोली, रकीबुल समेत 11 खिलाड़ियों पर होंगी नज़र

11 खिलाड़ियों जो आगामी टूर्नामेंट में कमाल कर सकते हैं

Qasim Akram guides the ball towards point, Potchefstroom, February 4, 2020

पाकिस्‍तान के क़ासिम अकरम के पास सीनियर घरेलू क्रिकेट का अनुभव है  •  ICC via Getty

आज के समय के कुछ बड़े खिलाड़ियों केन विलियमसन, स्टीव स्मिथ, बाबर आज़म, बेन स्टोक्स, कगिसो रबाडा और विराट कोहली ऐसे नाम है जो अंडर-19 विश्व कप से ही चमके हैं। हर बार यह टूर्नामेंट हमें भविष्य के सितारे देता है। यहां एक प्लेयिंग इलेवन के बारे में बताएंगे जो 2022 के संस्करण में कमाल कर सकते हैं।
हरनूर सिंह (भारत)
क्रिकेटरों के परिवार से आने वाले हरनूर पर नज़र उस वक्त पड़ी जब पिछले वर्ष अपने ग्रुप की चैलेंजर ट्रॉफ़ी में उन्होंने तीन शतक लगाए थे। नवंबर से अंडर-19 टीम में जगह बनाने के बाद से ही उनके बल्ले से रन बरस रहे हैं। लंबे बायें हाथ के ओपनर बल्लेबाज़ ने पहले बांग्लादेश के ख़िलाफ़ 72 और 111 रनों की पारी खेली और उसके बाद एशिया कप में यूएई, पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान के ख़िलाफ़ 120, 46 और 65 रनों की पारियां खेलीं। वेस्टइंडीज़ पहुंचने के बाद उन्होंने ऑस्‍ट्रेलिया के ख़िलाफ़ वार्म अप मैच में शतक लगाया। वह 2022 में भारतीय टीम के लिए अच्छा कर सकते हैं, ठीक उसी तरह से जिस तरह 2020 में यशस्वी जयसवाल ने करके दिखाया था।
क़ासिम अकरम (पाकिस्तान)
इस स्तर की क्रिकेट में वरिष्ठता के हिसाब से पाकिस्तान के कप्तान क़ासिम अकरम सबसे अनुभवी खिलाड़ी हैं। 15 लिस्ट ए मैचों में इस बल्लेबाज़ ने 51 के औसत और 100 से ज़्यादा के स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं। पिछले विश्व कप में भी टीम का हिस्सा रहे क़ासिम ने नौ प्रथम श्रेणी मैच भी खेले हैं, जहां पर उन्होंने 35.36 के औसत से रन बनाए हैं। उन्होंने सीनियर क्रिकेट में अपना पहला शतक पिछले साल सेंट्रल पंजाब से खेलते हुए बलूचिस्तान के ख़िलाफ़ लगाया था। उस समय क़ासिम ने विकेट के चारों ओर रन बनाए थे। दो महीने पहले ही उनके फ़ीनिशर के कौशल से सेंट्रल पंजाब नेशनल टी20 कप के फ़ाइनल में पहुंची थी और वह पीएसएल में कराची किंग्स के एमर्जिंग प्लेयर बनकर उभरे। क़ासिम अच्छी ऑफ़ स्पिन भी कर लेते हैं।
डेवाल्ड ब्रेविस (साउथ अफ़्रीका)
दायें हाथ के बल्लेबाज़ डेवाल्ड ब्रेविस को साउथ अफ़्रीका का अगला एबी डीविलियर्स माना जाता है। यह इसीलिए क्योंकि उनके पास आक्रामक बल्लेबाज़ी का कौशल है और वह वह क्रीज़ पर आगे निकल निकल कर शॉट खेलते हैं और गेंदबाज़ों की रणनीति को ख़राब करते हैं। उनके पास क्लीन हिट लगाने की क्षमता है और वह स्पिनरों के ख़िलाफ़ भी अच्छा खेल लेते हैं। विश्व कप से पहले उन्होंने अपनी लेग ब्रेक गेंदबाज़ी कौशल को भी सुधारा है। पिछले महीने उन्होंने वेस्टइंडीज़ में ही वेस्टइंडीज़ के ख़िलाफ़ तीन यूथ वनडे मैचों में दस विकेट चटकाए थे। हालांकि, उस दौरान उनका बल्ला खामोश रहा, लेकिन विश्व कप के वार्मअप मैच में उन्होंने वेस्टइंडीज़ के ही ख़िलाफ़ 70 गेंद में 50 रन बनाए थे।
कूपर कॉनोली (ऑस्‍ट्रेलिया)
अंडर-17 वेस्टर्न ऑस्‍ट्रेलिया के पूर्व कप्तान कूपर कॉनोली का यह दूसरा अंडर-19 विश्व कप है। पिछले साल कॉनोली ने वेस्टइंडीज़ के ख़िलाफ़ पांचवें स्थान के प्लेऑफ़ में 64 रन बनाए थे। इस बार भी उन्होंने ज़िम्मेदारी निभाते हुए भारत के ख़िलाफ़ वार्मअप मैच में 117 रनों की पारी खेली थी। कॉनोली ऑलराउंडर हैं, एक बायें हाथ के बल्लेबाज़ जिनके पास मज़बूत तक़नीक है और बायें हाथ से स्पिन से भी वह अहम भूमिका निभा सकते हैं। विश्व कप से पहले कॉनोली बीबीएल में पर्थ स्कॉचर्स टीम का हिस्सा थे।
निवेथन राधाकृष्णन (ऑस्‍ट्रेलिया)
निवेथन राधाकृष्णन ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट में एकमात्र जाने माने पुरुष महत्वाकांक्षी स्पिनर हैं। वह शीर्ष क्रम के बल्लेबाज़ों को ऑस्‍ट्रेलिया में ही गेंदबाज़ी नहीं करते हैं, बल्कि वह तमिलनाडु प्रीमियर लीग में भी दो सेशन में नेट बॉलर रह चुके हैं और एक बार आईपीएल में दिल्ली कैपिटल्स के साथ भी नेट बॉलर के तौर पर रह चुके हैं। वह विभिन्न स्थानों पर बल्लेबाज़ी कर सकते हैं। शीर्ष क्रम पर, मध्य क्रम में पारी के अंत में। यही नहीं निवेथन तेज़ गेंदबाज़ी भी कर सकते हैं।
फ़ैसल अकरम (पाकिस्तान)
फ़ैसल अकरम पाकिस्तान के अलग किस्म के बायें हाथ के कलाई के स्पिनर हैं। उन्होंने यह एक्शन ऑस्ट्रेलिया के ब्रैड हॉग को देखकर सीखा। उन्होंने पीएसएल में मुल्तान सुल्तांस के साथ मुश्ताक़ अहमद और शाहिद अफ़रीदी के नेतृत्व में काफ़ी समय बिताया है। वहीं जब पिछले साल साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ टीम तैयारी कर रही थी तो उन्होंने मैच में तबरेज़ शम्सी की गेंद को खेलने के लिए नेट्स में पाकिस्तान के बल्लेबाज़ों को तैयारी कराई थी। ज़्यादा समय नहीं हुआ फ़ैसल ने 2020-21 अंडर-19 नेशनल वनडे कप में 10 मैचों में 27 विकेट लिए थे।
रकीबुल हसन (बांग्लादेश)
2020 विश्व कप में रकीबुल हसन ने ही विजयी रन लगाते हुए बांग्लादेश को अंडर-19 विश्व कप जिताया था और इस बार वह कप्तान के तौर पर बांग्लादेश के एकलौते विश्व कप ख़िताब का बचाव कराने पहुंचे हैं। वह युवराज सिंह को अपना आइडल मानते हैं और उनकी तक़नीक भी वैसी ही है। बायें हाथ के उंगलियों के स्पिनर के तौर पर भी वह सटीक हैं और बल्लेबाज़ के तौर पर निचल मध्य क्रम को संभालते हैं। उनका पिछले विश्व कप में 10.16 का गेंदबाज़ी औसत था और वेस्टइंडीज़ की पिचों पर उन्हें मदद मिल सकती है।
मथीशा पथिराना (श्रीलंका)
साइड ऑन एक्‍शन की वजह से मथीशा पथिराना को श्रीलंकाई क्रिकेट सर्किल में जूनियर लसित मलिंगा कहा जाता है। वह लंबे हैं, उनकी गेंदों को स्विंग मिलता है। हालांकि 2020 के संस्करण में न तो उन्होंने और न ही श्रीलंका ने अच्छा प्रदर्शन किया था, लेकिन अब वह बहुत अधिक अनुभवी हैं। 2020 से वह चेन्नई सुपर किंग्स के रिज़र्व खिलाड़ियों में से एक हैं और अब अपने दूसरे विश्व कप में अधिक शारीरिक मज़बूती के साथ आए हैं।
जोहान लेन (वेस्टइंडीज़)
वेस्टइंडीज़ की घर में विश्व कप की तैयारी में जोहान लेन उनके नई बॉल के आक्रमण के नेतृत्वकर्ता बनकर उभरते हें। इंग्लैंड और साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ सीरीज़ सहित भारत के ख़िलाफ़ पहले अभ्यास मैच में तीन विकेट समेत उन्होंने पिछले नौ मैचों में 15 विकेट चटकाए हैं। वहीं बल्लेबाज़ी में भी उनके पास बड़े शॉट लगाने की क्षमता है। वेस्टइंडीज़ को जब भी तेज़ी से रन बनाने की ज़रूरत होती है तो टीम प्रबंधन उन्हें बल्लेबाज़ी में प्रमोट करके भेज देता है।
टिम टेक्टर (आयरलैंड)
जैक और हैरी के बाद टिम तीसरे टेक्टर भाई हैं जो अंडर-19 विश्व कप में आयरलैंड की कप्तानी करेंगे। टिम मध्य क्रम में बल्लेबाज़ी करते हैं और वह टूर्नामेंट में बेहतरीन फ़ॉर्म के साथ आए हैं। विश्व कप से पहले उन्होंने ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ सीरीज़ में 94 और 53 रनों की पारी खेलीं थीं।
रवि कुमार (भारत)
भारतीय बायें हाथ के तेज़ गेंदबाज़ रवि कुमार बेहतरीन स्विंग गेंदबाज़ हैं। वह बायें हाथ के बल्लेबाज़ों से गेंद को दूर ले जाने की क्षमता रखते हैं। भारत के पिछले अंडर-19 गेंदबाज़ गति से बल्लेबाज़ों को परेशान करते थे, लेकिन रवि इसके विरीत गेंद पर कंट्रोल और सीम पोज़िशन के लिए जाने जाते हैं। ऑस्‍ट्रेलिया के ख़िलाफ़ पहले वार्मअप मैच में 34 रन पर चार विकेट लेकर वह अपनी क़ाबिलियत भी ​दिखा चुके हैं।

श्रेष्‍ठ शाह ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।