मैच (17)
IPL (2)
ACC Premier Cup (2)
Pakistan vs New Zealand (1)
PAK v WI [W] (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
Women's QUAD (2)
फ़ीचर्स

डब्ल्यूपीएल - नीलामी के बाद कैसी बनी हैं टीमें, क्या है उनकी ताक़त और कमज़ोरी?

ऐतिहासिक डब्ल्यूपीएल नीलामी में पांचों फ़्रैंचाइज़ियों ने कैसा प्रदर्शन किया, इस पर एक नज़र

उद्घाटन डब्ल्यूपीएल सीज़न के लिए हुई नीलामी में स्मृति मांधना सबसे महंगी बिकीं  •  Getty Images

उद्घाटन डब्ल्यूपीएल सीज़न के लिए हुई नीलामी में स्मृति मांधना सबसे महंगी बिकीं  •  Getty Images

रॉयल चैलैंजर्स बेंगलुरु

शशांक किशोर द्वारा

ख़रीदे गए खिलाड़ियों की संख्या: 18
पैसे ख़र्च किए: 11.9 करोड़
प्रमुख खिलाड़ी: आरसीबी अपने ब्रांड को कुछ प्रमुख खिलाड़ियों के इर्द-गिर्द बनाना पसंद करती है। पुरुष टीम में विराट कोहली, एबी डिविलियर्स और क्रिस गेल को याद कीजिए। इसी तरह डब्ल्यूपीएल में उन्होंने स्मृति मांधना, चार बार की टी20 विश्व कप विजेता एलीस पेरी और साउथ अफ़्रीका की डेन वैन नीकर्क की ख़तरनाक तिकड़ी को अपने साथ जोड़ा है।

ताक़त: आरसीबी की सभी विदेशी खिलाड़ी सभी स्टार और बहु-कुशल हैं। पेरी, सोफ़ी डिवाइन, वैन नीकर्क, हेदर नाइट - ये सभी बल्लेबाज़ी और गेंदबाज़ी कर सकती हैं। टीम प्रबंधन को इनमें से किसी एक को बाहर रखने के लिए माथापच्ची करना पड़ सकता है। इन खिलाड़ियों के साथ भारत के नामी खिलाड़ियों में मांधना, ऋचा घोष और रेणुका सिंह के फ़ायरपावर को शामिल कर लें तो आरसीबी को टूर्नामेंट जीतने वाली टीम के सभी गुण मिल गए हैं।

कमज़ोरी: मुंबई की लाल-मिट्टी की पिच पर एक अच्छे भारतीय कलाई के स्पिनर की कमी खल सकती है।

मुंबई इंडियंस

शशांक किशोर द्वारा

ख़रीदे गए खिलाड़ियों की संख्या: 17
पैसे ख़र्च किए: 12 करोड़ (पूरा पर्स)
प्रमुख खिलाड़ी: हरमनप्रीत कौर, नैटली सीवर-ब्रंट और पूजा वस्त्रकर बिना किसी शक-ओ-शुब्हा के प्लेइंग-XI में पहले नाम होंगे। मुंबई में हरमनप्रीत कौर ने 2013 में अपने पहले विश्व कप शतक के साथ अतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी धमक दिखाई थी और अब वह संभवत: मुंबई इंडियंस के कप्तान के तौर पर भारतीय महिला क्रिकेट में एक नए युग की शुरुआत करेंगी। सीवर-ब्रंट की क्वालिटी मध्यम गति की गेंदबाज़ी के साथ-साथ तेज़ और स्पिन के खिलाफ उनकी बल्लेबाज़ी की बहुमुखी प्रतिभा और पूजा का निचले क्रम में आकर बड़े हिट लगाने के अलावा मिडिल ओवरों में तेज़ गेंद फेंकने की क्षमता उन्हें महत्वपूर्ण खिलाड़ी बनाता है।

ताक़त: हर पॉज़िशन के लिए बैक-अप होने के कारण मुंबई की टीम गर्व महसूस कर रही होगी। उन्होंने भारतीय अंडर-19 खिलाड़ियों का एक अच्छा पूल बनाया है, जिसे वे समय के साथ विकसित करना चाहेंगे।

कमज़ोरी: यास्तिका भाटिया के बैकअप के लिए विकेटकीपर की कमी थोड़ी अड़चन ला सकती है। साथ ही मुंबई के पास पूजा के अलावा भारतीय तेज़ गेंदबाज़ी विकल्प में कोई बड़ा नाम नहीं है।

गुजरात जायंट्स

एस सुदर्शनन द्वारा

ख़रीदे गए खिलाड़ियों की संख्या: 17
पैसे ख़र्च किए: 11.5 करोड़
प्रमुख खिलाड़ी: घरेलू सर्किट में स्नेह राणा का विशाल अनुभव पहले डब्ल्यूपीएल में गुजरात के लिए महत्वपूर्ण साबित हो सकता है। यह देखते हुए कि दो वेन्यू सभी 22 मैचों की मेज़बानी करेंगे, स्नेह की गेंद के साथ फ़्लाइट और डिप कारगर साबित हो सकती है।

अपने टी20 अंतर्राष्ट्रीय करियर के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज़ी प्रदर्शन करने के एक दिन बाद ही ऐश्ली गार्डनर संयुक्त रूप से सबसे महंगी विदेशी खिलाड़ी बनीं। गार्डनर ने बताया था कि कैसे डीवाई पाटिल स्टेडियम और साथ ही ब्रेबॉर्न स्टेडियम की पिचें अच्छे स्ट्रोकप्ले के लिए अनुकूल थीं, जो एक हिटर के रूप में उनके लिए फ़ायदेमंद होगा। उन्होंने यह भी कहा था कि गेंद फंस रही थी और घूम रही थी। उम्मीद है कि वह गेंद से भी प्रभाव छोड़ेंगी।

ताक़त: विदेशी तेज़ गेंदबाज़ी ऑलराउंडर्स डिएंड्र डॉटिन और ऐनाबेल सदरलैंड का विकल्प टीम को मज़बूती प्रदान करता है।

कमज़ोरी: भारतीय अनुभवी खिलाड़ी की थोड़ी कमी खल सकती है। हरलीन देओल, एस मेघना और दयालन हेमलता को छोड़कर गुजरात के पास बैकअप भारतीय बल्लेबाज़ नहीं हैंं, जिस पर मुश्किल समय या चोट लगने पर भरोसा जताया जा सके।

यूपी वॉरियर्स

श्रीनिधी रामानुजम द्वारा

ख़रीदे गए खिलाड़ियों की संख्या: 16
पैसे ख़र्च किए: 12 करोड़
प्रमुख खिलाड़ी: अलिसा हीली अपने विशाल अंतर्राष्ट्रीय अनुभव के साथ यूपी के शीर्ष क्रम और दल में एक महत्वपूर्ण कड़ी होंगी। दुनिया के सबसे विध्वंसक बल्लेबाज़ों में से एक यह ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी टी20 अंतर्राष्ट्रीय में 128.26 के स्ट्राइक रेट से रन बनाती हैं और अकेले दम पर अपनी टीम को जीत दिला सकती हैं।

दीप्ति शर्मा 2.6 करोड़ रुपए के साथ स्मृति मांधना के बाद दूसरी सबसे महंगी भारतीय खिलाड़ी रहीं। मुंबई की स्पिन के अनुकूल परिस्थितियों में गेंद और बल्ले के साथ उनका टैलैंट उन्हें लाइन-अप में एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी बनाता है।

ताक़त: वॉरियर्स के पास एक संतुलित टीम है, जिसमें दीप्ति, देविका वैद्य, पार्शवी चोपड़ा, तालिया मैक्ग्रा और ग्रेस हैरिस जैसे ऑलराउंडर हैं, जो बल्ले और गेंद से खेल के मोमेंटम को बदल सकती हैं। राजेश्वरी गायकवाड़, सोफ़ी एक्लस्टन और दीप्ति के रूप में स्पिन तिकड़ी है। शबनिम इस्माइल और अंजलि सरवानी का होना तेज़ गेंदबाज़ी विभाग में सही संतुलन प्रदान करता है। हीली, भारत की अंडर-19 ओपनर श्वेता सहरावत और मैक्ग्रा के रूप में यूपी का शीर्ष क्रम भी ठोस है।

कमज़ोरी: किरण नवगिरे और लक्ष्मी यादव ही मध्यक्रम में विशेषज्ञ बल्लेबाज़ हैं। यूपी के पास वैसे खिलाड़ी कम ही हैं जो पारी की शुरुआत में जल्दी-जल्दी विकेट गिरने पर एंकर की भूमिका निभा सकें।

दिल्ली कैपिटल्स

श्रीनिधी रामानुजम द्वारा

ख़रीदे गए खिलाड़ियों की संख्या: 18
पैसे ख़र्च किए: 11.65 करोड़ प्रमुख खिलाड़ी: मेग लानिंग के रूप में दिल्ली के पास विश्व कप विजेता ऑस्ट्रेलियाई कप्तान हैं। जेमिमाह रॉड्रिग्स, शेफ़ाली वर्मा और मारीज़ान काप का फ़ीर्म और अनुभव भी उद्घाटन संस्करण में टीम के अभियान के लिए महत्वपूर्ण होगा।

ताक़त: शेफ़ाली, रॉड्रिंग्स और लानिंग के होने से दिल्ली का शीर्ष क्रम मज़बूत है। उनके गेंदबाज़ी समूह में पूनम यादव, जेस जॉनसन, राधा यादव, शिखा पांडे, अरुंधति रेड्डी और मारीज़ान काप के रूप में अच्छा अंतर्राष्ट्रीय अनुभव है।

कमज़ोरी: दिल्ली के पास तानिया भाटिया का बैकअप विकेटकीपर नहीं है और यह चिंता का विषय हो सकता है।