मैच (12)
WPL (2)
PSL 2024 (2)
BAN v SL (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (2)
Sheffield Shield (3)
विश्व कप लीग 2 (1)
Nepal Tri-Nation (1)
ख़बरें

डब्ल्यूटीसी फाइनल : ड्रॉ या टाई होने पर भारत और न्यूजीलैंड घोषित होंंगे संयुक्त विजेता

रिजर्व डे का इस्तेमाल तभी होगा अगर पांच दिन के मुकाबले में किसी भी कारण से समय की कटौती को पूरा नहीं किया जा सका हो

डब्ल्यूटीसी फाइनल 18 से 22 जून तक खेला जाएगा  •  AFP/Getty Images

डब्ल्यूटीसी फाइनल 18 से 22 जून तक खेला जाएगा  •  AFP/Getty Images

18 से 22 जून तक होने वाला विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) का फाइनल ड्रॉ या टाई होता है तो भारत और न्यूजीलैंड को संयुक्त विजेता घोषित कर दिया जाएगा। आईसीसी ने शुक्रवार को इस बात की जानकारी दी। और हां, क्योंकि रिजर्व डे भी है तो इसका इस्तेमाल तभी किया जाएगा जब पांच दिनों में कुछ समय का नुकसान हुआ हो। आईसीसी ने इस बात की भी घोषणा की कि यह टेस्ट ग्रेड वन ड्यूक गेंद से खेला जाएगा। डब्ल्यूटीसी (2019-21) का प्लेयिंग कंडीशन का ओरिजनल ड्राफ्ट 17 मई 2018 में सामने आया था, जब ईएसपीएनक्रिकइंफो ने इस पर रिपोर्ट की थी, आईसीसी ने अब उसी में फाइनल के लिए कुछ अपडेट किए हैं। शुक्रवार को आईसीसी ने यह स्पष्ट किया है कि रिजर्व डे का इस्तेमाल परिणाम निकालने के लिए नहीं किया जाएगा।
आईसीसी की ओर से कहा गया है कि रिजर्व डे को इसीलिए रखा गया है ताकि पूरे पांच दिन का खेल हो सके और इसका इस्तेमाल तब ही किया जाएगा जब पांच दिन का पूरा खेल नहीं हो पाए, यानि अगर किसी भी दिन कम समय का खेल होता है तो उसे छठे दिन इस्तेमाल में लाया जाएगा। अगर पूरे पांच दिन ठीक समय पर खेल खत्म हो जाता है और परिणाम नहीं निकल पाता है तो छठे दिन का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा। ऐसे मामले में मैच ड्रॉ घोषित कर दिया जाएगा। अगर मैच के दौरान समय कटौती होती है तो आईसीसी मैच रेफरी समय-समय पर टीम और मीडिया को अपडेट करेंगे। रिजर्व डे का इस्तेमाल होगा या नहीं यह पांचवें दिन के आखिरी एक घंटे की शुरुआत में बताया जाएगा।
लागू होने वाले नए नियम परिवर्तन
फाइनल हाल ही में अंतर्राष्ट्रीय प्लेयिंग कंडीशन में हुए बदलावों के तहत खेला जाएगा। यह बदलाव बांग्लादेश बनाम श्रीलंका सीरीज में भी हुआ है।
  • तीसरा अंपायर शॉर्ट रन पर मैदानी अंपायरों की कॉल को रिव्यू करेगा और मैदानी अंपायर को अपना फैसला बताएगा, इससे पहले कि अगली बॉल डाली जाए।
  • एलबीडब्ल्यू के फैसलों को रिव्यू करने से पहले क्षेत्ररक्षण टीम का कप्तान या आउट हुआ बल्लेबाज मैदानी अंपायरों से यह चैक कर सकता है कि गेंद को खेलने का वास्तविक प्रयास किया गया था।
  • एलबीडब्ल्यू की समीक्षा के लिए, विकेट ज़ोन के ऊंचाई सीमा को स्टंप के शीर्ष पर उठा दिया गया है ताकि ऊंचाई और चौड़ाई दोनों के लिए स्टंप के चारों ओर समान अंपायर का कॉल मार्जिन सुनिश्चित हो सके।
  • अनुवाद ईएसपीएनक्रिकइंफो हिंदी में एसोसिएट सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।