ख़बरें

मेरे अंतर्राष्ट्रीय करियर पर प्रतिबंध लगने जा रहा है : ब्रेंडन टेलर

ट्विटर पर बयान ज़ाहिर करते हुए ज़िम्बाब्वे के पूर्व कप्तान ने कहा, "मैं किसी भी प्रकार की फ़िक्सिंग में शामिल नहीं हुआ हूं"

The in-form Brendan Taylor became the first to fall, Pakistan vs Zimbabwe, 2nd T20I, Rawalpindi, November 8, 2020

ब्रेंडन टेलर ने 71 अंतर्राष्ट्रीय मैचों में ज़िम्बाब्वे का नेतृत्व किया  •  AFP via Getty Images

ज़िम्बाब्वे के पूर्व कप्तान ब्रेंडन टेलर ने ख़ुलासा किया है कि अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) "एक भारतीय व्यवसायी द्वारा" एक भ्रष्ट प्रस्ताव की रिपोर्ट करने में कथित रूप से देरी करने के बाद उनके अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर पर एक बहु-वर्षीय प्रतिबंध लगाने जा रहा है। प्रायोजन और ज़िम्बाब्वे में एक टी20 प्रतियोगिता के संभावित शुभारंभ पर चर्चा करने के लिए आमंत्रित किए जाने पर टेलर ने उस व्यवसायी से मुलाक़ात की थी।
टेलर ने अक्तूबर 2019 में हुई इस घटना की रिपोर्ट दर्ज करवाने में देरी की। इसमें भारत में हुई एक बैठक शामिल थी जिसके दौरान कथित तौर पर मादक द्रव्यों का सेवन हुआ था। उस बैठक के बाद टेलर को कथित रूप से ब्लैकमेल किया गया। उन्होंने इस प्रस्ताव की रिपोर्ट दर्ज कराने में देरी की क्योंकि उन्हें लगा कि वह अपने परिवार सहित सभी लोगों की रक्षा कर सकते थे। वह अंततः अपनी शर्तों पर आईसीसी के पास गए और कहा कि उन्हें उम्मीद थी 'अगर मैंने अपनी दुर्दशा और हमारी सुरक्षा और भलाय के लिए अपने भय के बारे में बताया तो वह इस देरी को समझेंगे।' उन्होंने अपने बयान में स्पष्ट रूप से कहा कि वह कभी भी मैच फ़िक्सिंग में किसी प्रकार में शामिल नहीं थे।"
अपने लिखित बयान में टेलर ने कहा, "अक्तूबर 2019 में एक भारतीय व्यवसायी ने मुझसे अनुरोध किया कि मैं ज़िम्बाब्वे में एक नई टी20 प्रतियोगिता के प्रायोजन और संभावित लॉन्च पर चर्चा करने के लिए भारत आऊं। मुझे कहा गया कि इस यात्रा के लिए मुझे लगभग 11 लाख रुपये दिए जाएंगे।"
"सच कहूं तो मैं तब सावधान था। लेकिन समय ऐसा था कि ज़िम्बाब्वे क्रिकेट ने पिछले छह महीनों से हमें भुगतान नहीं किया था और भविष्य में ज़िम्बाब्वे के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेलने पर संशय के बादल मंडरा रहे थे। इसलिए मैंने वह यात्रा की। जैसा कि उन्होंने कहा था, हमारे बीच चर्चा हुई और होटल में हमारी आख़िरी रात को व्यवसायी और उनके सहयोगी जश्न मनाने के लिए मुझे खाने पर ले गए।"
"हमने शराब पी थी और बाद में उन्होंने ख़ुलेआम मुझे कोकेन की पेशकश की। वह उसका सेवन कर रहे थे और मैं भी उस मूर्खता में शामिल हुआ। मैंने एक लाख बार इस दृष्य को अपने दिमाग में दोहराया है और मुझे आज भी इस घटना और जिस तरह उन्होंने मेरा फ़ायदा उठाया, इसके बारे में सोचकर घिन आती है।"
"अगली सुबह वही लोग मेरे होटल कमरे में घुस आए और उन्होंने मुझे पिछली रात का वीडियो दिखाया जिसमें मैं कोकेन का सेवन कर रहा था। उन्होंने मुझसे कहा कि अगर मैंने उनके लिए अंतर्राष्ट्रीय मैचों में स्पॉट फ़िक्सिंग नहीं की, तो वह यह वीडियो जारी कर देंगे।"
"कमरे में इन छह लोगों ने मुझे घेर लिया था और मुझे अपनी सुरक्षा की चिंता होने लगी। मैं डर गया था। मैं स्वेच्छा से इस जाल में फंस गया था जिसने मेरे जीवन को हमेशा के लिए बदल दिया।"
"मुझे वह 11 लाख रुपये दिए गए लेकिन उन्होंने कहा कि अब यह स्पॉट फ़िक्स करने का 'बयाना' है और अतिरिक्त 15 लाख रुपये काम पूरा होने पर दिए जाएंगे। मैंने उन पैसों को स्वीकारा ताकि मैं जल्द से जल्द घर के लिए रवाना हो सकूं। उस समय मुझे लगा कि मेरे पास कोई और विकल्प नहीं था। मैं बस इतना जानता था कि मुझे वहां से निकलना था।"
"जब मैं घर लौटा तो इस घटना के तनाव ने मेरे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बुरी तरह प्रभावित किया। मेरी हालत गंभीर थी और मुझे चिकित्सा के बाद दवाइयां दी गई।"
"वह व्यवसायी अपने निवेश का भुगतान चाहता था जो मैं नहीं दे सकता था और ना ही कभी देता। मुझे इस अपराध की शिक़ायत दर्ज करने और आईसीसी के बात करने में चार महीने लगे। मैं स्वीकार करता हूं कि यह बहुत लंबा समय था लेकिन मुझे लगा कि मैं मेरे परिवार की और अन्य लोगों की रक्षा कर सकता हूं। मैंने अपनी शर्तों पर आईसीसी से संपर्क किया। मुझे उम्मीद थी कि अगर मैं उन्हें अपनी दुर्दशा और हमारी सुरक्षा पर मंडरा रहे ख़तरे के बारे में बताऊंगा, तो वह इस देरी को समझ सकेंगे।" "दुर्भाग्य से, उन्होंने ऐसा नहीं किया, लेकिन मैं इस संबंध में अज्ञानता का बहाना नहीं बना सकता। मैंने इन वर्षों में कई भ्रष्टाचार विरोधी सेमिनारों में भाग लिया है और हम जानते हैं कि शिक़ायत दर्ज करवाते वक़्त समय का महत्व होता है।"
"मैं आप सभी को बताना चाहता हूं कि मै कभी भी, किसी भी प्रकार की मैच फ़िक्सिंग में शामिल नहीं रहा हूं। मैं कई चीज़ें हो सकता हूं लेकिन मैं धोख़ेबाज़ नहीं हूं। क्रिकेट के लिए मेरा प्रेम इन सभी ख़तरों से अधिक है।"
"आईसीसी से संपर्क करने के परिणामस्वरूप मैंने कई साक्षात्कारों और कार्यक्रमों में भाग लिया और मैं उनकी जांच के दौरान उतना ही ईमानदार और पारदर्शी था जितना मैं हो सकता था। अंदर से और बाहर से मैं ख़ुद को मार रहा था और मैं अब भी सोचता हूं कि मैंने समय रहते समर्थन और सलाह मांगी होती।"
"आईसीसी अब मेरे अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर पर बहु-वर्षीय प्रतिबंध लगाने पर निर्णय ले रहा है। मैं इसे स्वीकार करते हुए यह आशा करता हूं कि मेरी कहानी युवा क्रिकेटरों के लिए एक सीख बनेगी ताकि वह जल्द से जल्द ऐसे प्रस्तावों की जल्द से जल्द रिपोर्ट दर्ज करवाएं।"
"मैं स्वीकार करता हूं कि पिछले दो वर्ष व्यक्तिगत और पेशेवर रूप से बहुत चुनौतीपूर्ण रहे हैं और मैं इस स्थिति से बाहर निकलने का भरपूर प्रयास कर रहा हूं। मेरे परिवार और दोस्तों ने मेरा समर्थन किया है और यह स्पष्ट था कि कुछ समय से मेरे सामने एक समस्या है जिसे संबोधित करने की आवश्यकता थी।"
"और इसलिए, मैं आपको यह भी बताना चाहूंगा कि अपने जीवन को पटरी पर वापस लाने के लिए मंगलवार 25 जनवरी को मैं एक पुनर्वास केंद्र में जा रहा हूं। मुझे अब अपनी कहानी बतानी है क्योंकि मुझे पता है कि लोग मुझसे सुनना चाहेंगे कि यह क्यों और कैसे हुआ। लेकिन कई हफ़्तों तक मैं दूर रहूंगा और ठीक होने की कोशिश करूंगा।"
"यह मेरी ज़िम्मेदारी हैं कि मैं ठीक होकर ख़ुद को और अपने परिवार को प्राथमिकता दूं। मैंने एक पदार्थ को ख़ुद पर नियंत्रण बनाने, मेरी दृष्टि, मेरी नैतिकता और मेरे मूल्यों को ख़राब करने का अवसर दिया। अब समय है कि मैं उन चीज़ों को प्राथमिकता दूं जो मेरे लिए बहुत मायने रखती है।"
"मुझे यह भी उम्मीद है कि मेरी कहानी हर उस व्यक्ति को मदद लेने के लिए प्रेरित करेगी। मुझे इस बात का एहसास नहीं था कि आगे आकर बात करने से मुझे उस नरक से इतनी राहत मिलेगी। ड्रग्स और नशीले पदार्थ कोई भेदभाव नहीं करते हैं और मुझे इस बात को स्वीकार करने के लिए बहुत हिम्मत जुटानी पड़ी।"
"अंत में मैं उन सभी लोगों से क्षमा मांगना चाहता हूं जिन्हें मैंने चोट पहुंचाई है। मुझे खेद है कि मैंने उन्हें निराश किया।"
आईसीसी ने अब तक इस बात पर कोई टिप्पणी नहीं की है।