मैच (17)
IPL (2)
ACC Premier Cup (2)
Pakistan vs New Zealand (1)
PAK v WI [W] (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
Women's QUAD (2)
फ़ीचर्स

क्या नंबर 3 पर बल्लेबाज़ी करेंगी मिताली राज? क्या शेफ़ाली वर्मा अपने अंदर के शैतान को शांत कर पाएंगी?

अगले विश्व कप से पहले ऑस्‍ट्रेलिया में भारत के पास सभी विभागों मेंं सही फ़ैसले लेने का मौका

भारत को मिताली की नंबर तीन पर जरूरत  •  Getty Images

भारत को मिताली की नंबर तीन पर जरूरत  •  Getty Images

न्यूज़ीलैंड में होने वाले 2022 वनडे विश्व कप में अब पांच महीनों का समय रह गया है। इस बीच 2022 में बर्मिंघम में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स में टी20 क्रिकेट भी होना है। ऐसे में भारत के पास ऑस्‍ट्रेलिया में सभी विभागों में सही फ़ैसले लेने का मौका होगा।
यह मल्टी फॉर्मेट सीरीज़ मंगलवार को मैके में तीन वनडे मैचों के साथ शुरू हो रही है। इसके बाद तीन टी20 और एक डे-नाइट टेस्ट भी खेला जाएगा। भारत की वनडे और टेस्ट टीम की कप्तान मिताली राज और कोच रमेश पोवार अगले साल होने वाले विश्व कप को ध्यान में रखते हुए कई चीज़ों के बारे में सोच रहे होंगे। ईएसपीएनक्रिकइंफो ने ऐसे ही कुछ बिंदुओं पर गौर दिया है, जहां भारत इस साल लगातार दो सीरीज़ हारने के बाद वापसी के बारे में सोच रहा होगा।
भारत की नंबर एक बल्लेबाज़ को दोबारा नंबर तीन पर उतरना चाहिए
शनिवार को हुए एक वार्मअप मैच में दोबारा ​इशारा मिला कि भारत की वनडे क्रिकेट की सबसे बेहतरीन बल्लेबाज़ राज को चौथे नंबर से ऊपर उतरना होगा। वह 2019 में न्यूज़ीलैंड दौरे से नंबर चार या उससे नीचे उतर रही हैं। तब से 18 पारियों में उन्होंने 11 बार 40 या उससे ज्यादा रन बनाए हैं, जिसमें सात अर्धशतक शामिल हैं। भारत इसमें से नौ मैच जीता और इतने ही हारा।
इस दौरान नंबर तीन के स्थान पर पूनम राउत, जेमिमाह रोड्रिग्स, दीप्ति शर्मा और हरमनप्रीत कौर को आजमाया गया, लेकिन किसी को भी कामयाबी नहीं मिल पाई। भारत को राज से परे पहले स्थान के लिए स्मृति मांधना के साथ ओपनिंग साझेदार की तलाश करनी पड़ी। बेहद कम समय में ही शेफ़ाली वर्मा ने इस स्थान को अपना बना लिया, जहां उन्होंने इंग्लैंड में टेस्ट और वनडे में पदार्पण किया और प्रभावित किया। वह ऑस्‍ट्रेलिया में भी इसी रोल में उतरेंगी।
राज ने भी अपने प्रदर्शन से प्रभावित किया, जिन्होंने पिछली चार पारियों में अर्धशतक लगाकर अपने स्ट्राइक रेट पर उठ रहीं आवाजों को शांत कर दिया। इस बीच शीर्ष और मध्य क्रम बुरी फ़ॉर्म से जूझता दिखा। वार्मअप मुकाबले में राज ने तीसरे नंबर पर बल्लेबाज़ी की, लेकिन एक ही रन बना सकीं। इस स्कोर के बावजूद, अगर भारत को अपने सबसे विश्वसनीय बल्लेबाज का अधिकतम उपयोग करना है, तो नंबर तीन पर अब सवाल नहीं होना चाहिए।
इसके बजाय, उन्हें एंकर की भूमिका निभानी चाहिए, जहां वह लंबी बल्लेबाज़ी कर सकें और बाद में कुछ शॉट लगा सकें, उनके इर्दगिर्द बाकी बल्लेबाज़ बल्लेबाज़ी करें।
जहां शेफ़ाली हैं निडर
2020 टी20 विश्व कप में 163 रन बनाने के बाद शेफ़ाली ने उसी साल ऑस्‍ट्रेलिया में ही त्रिकोणीय सीरीज़ में भी दमदार प्रदर्शन किया। 2019 से भारत की सबसे आक्रामक बल्लेबाज़ एक साल से ज्यादा तक अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से दूर रही। साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ घर में हुई सीरीज़ में उन्हें जगह नहीं मिली। इसके बाद उन्होंने इंग्लैंड में शानदार टेस्ट पदार्पण किया, वनडे क्रिकेट में उन्होंने मिलीजुली वापसी की, जहां पर वर्मा बनाम ब्रंट की जंग ने खूब सुर्खियां बटोरी।
कैथरीन ब्रंट के साथ शेफ़ाली की इस जंग में उनकी शॉर्ट गेंद और ऑफ़ स्टंप के नज़दीक गेंद की कमजोरी खुलकर सामने आई। अगर 2020 में ऑस्‍ट्रेलिया दौरे पर उनकी निडरता सामने आई तो इंग्‍लैंड के दौरे पर उन्‍होंने गेंदबाज़ी आक्रमण पर दबाव बनाया। शार्ट गेंद पर वह अनिश्चितता में रहती हैं कि शॉट खेलें या नहीं। द हंड्रेड में बर्मिंघम फ़ीनिक्स के लिए खेलते हुए वह एक बार ही 30 से ज़्यादा का स्कोर बना सकी। वहीं वनडे सीरीज़ में भी वह 15, 44 और 19 रन ही बना सकीं।
शेफ़ाली को भारत लौटना था इसीलिए वह फ़ीनिक्स के लिए एलिमिनेटर नहीं खेल सकी। वापसी पर उन्हें सात दिन क्वारंटीन रहना पड़ा, जिसकी वजह से वह बेंगलुरु में ट्रेनिंग कैंप में नहीं मौज़ूद रह सकी। इसके बाद ब्रिसबेन में भी उन्हें 14 दिन तक क्वारंटीन रहना पड़ा। वार्म अप मैच में उन्होंने 21 गेंद में 27 रन बनाए, जिसमें पांच चौके शामिल थे, लेकिन स्टेला कैंपबेल की एक बैक ऑफ़ लेंथ गेंद पर वह आउट हो गई। शेफ़ाली की क्रिकेट बुक में सारे शॉट हैं, बस उन्हें अनिश्चितता के गलियारे से बाहर निकलकर आत्मविश्वास के साथ शॉट लगाने होंगे।
हरमनप्रीत और गायकवाड़ की फ‍़िटनेस
ईएसपीएनक्रिकइंफो ने पिछले महीने रिपोर्ट की थी कि कैसे भारत की टी20 कप्तान हरमनप्रीत और बायें हाथ की स्पिनर राजेश्वरी गायकवाड़ की फ़िटनेस और चोट को नज़रअंदाज़ करते हुए चयन समिति ने उन्हें ऑस्‍ट्रेलिया दौरे की 22 सदस्यीय टीम में जगह दी। हरमनप्रीत द हंड्रेड में चोटिल हो गई थी। वह वार्म अप मैच भी नहीं खेली, लेकिन शनिवार को वह नेट्स पर बल्लेबाज़ी करती दिखी।
घुटने की चोट के कारण गायकवाड़ इंग्लैंड दौरे का हिस्सा नहीं थी। वार्म अप मैच में उन्होंने छह ओवर किए और 50 रन देकर एक भी विकेट नहीं लिया। एकता बिष्ट भी इस मैच में खेली। ऐसे में बुधवार से शुरू होने वाली सीरीज़ में दोनों में से एक ही को खेलने का मौका मिल सकता है। दूसरी ओर, पूनम यादव ने वार्म अप मैच में 28 रन देकर तीन विकेट लिया। ऑफ़ स्पिनर दीप्ति और स्नेह राणा भी अंतिम एकादश में जगह बनाएंगी।
अगर हरमनप्रीत को पूरी फ़िटनेस हासिल करने में समय लगा तो बड़ौदा की बायें हाथ की बल्लेबाज़ यास्तिका भाटिया को आज़माया जा सकता है, जिन्होंने वार्म अप मुकाबले में नंबर चार पर उतरते हुए 42 गेंद में 41 रन बनाए। बेंगलुरु में ओपन विकेट सेशन में भी उन्होंने प्रभावित किया था यास्तिका को घरेलू क्रिकेट में उनकी बेहतर तकनीक के कारण जाना जाता है। उम्मीद है वह इस दौरे पर अंतर्राष्ट्रीय पदार्पण करने में सफ़ल रहेंगी।
वस्त्राकर बनाम पांडे और मेघना
झूलन गोस्वामी के बाद भारतीय टीम के पास कोई सफ़ल तेज़ गेंदबाज़ नहीं है। इंग्लैंड दौरे के बाद पोवार ने इसको लेकर चिंता भी जताई थी और कहा था कि हमें झूलन गोस्वामी का समर्थन करना होगा। हमें उनका साथी ढूंढने की ज़रूरत है जो साझेदारी में गेंदबाज़ी कर सके, इससे हमें परिणाम मिल सकते हैं।
ऐसे में वार्म अप मुकाबले से शिखा पांडे की अनुपस्थिति दिखाती है कि यह मेघना सिंह के लिए फ़ायदेमंद हो सकता है, पूजा वस्त्राकर के लिए भी, जिन्हें पांडे पर तरज़ीह दी जा सकती है। वार्म अप मैच में वैसे भी उन्होंने छह ओवर में 28 रन देकर एक विकेट लिया और नंबर छह पर आकर अहम 57 रन भी बनाए, जिसने तय कर दिया कि वह पहले वनडे में दूसरी तेज़ गेंदबाज़ के तौर पर खेलेंगी। पांडे और मेघना के बीच तीसरे तेज़ गेंदबाज़ को चुनना होगा।
सिर्फ टी20 खेली ऋचा घोष को भी तानिया भाटिया पर तरज़ीह दी जा सकती है, जो वार्म अप मैच में विकेटकीपर के तौर पर खेली। तेज़ तर्रार बल्लेबाज़ी के साथ ही इंग्लैंड में उन्होंने विकेट के पीछे तीन शिकार भी किए। फ़रवरी 2018 में पदार्पण करने के बाद वह महिला मैचों में सफ़लतम विकेटकीपर रही हैं। उन्होंने इंग्लैंड के ख़िलाफ़ एक टेस्ट और वनडे सीरीज़ में भी विकेटकीपिंग की और टेस्ट में निचले क्रम पर आकर अहम पारी खेली। हालांकि वह इंग्लैंड में टी20 सीरीज़ नहीं खेली और इस दौरे पर भी उन्हें टी20 टीम में जगह नहीं मिली।

ऑन्नेशा घोष ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है। @nikss26