मैच (20)
SL vs WI [W] (1)
T20 वर्ल्ड कप (6)
CE Cup (3)
T20 Blast (10)
ख़बरें

युज़वेंद्र चहल के बाहर जाने से आकाश चोपड़ा स्तब्ध

पूर्व भारतीय बल्लेबाज़ ने दीपक चाहर का नाम रिज़र्व में देखकर भी आश्चर्य जताया

Yuzvendra Chahal had a good outing at the Khettarama, India vs Sri Lanka, 1st ODI, Colombo, July 18, 2021

युज़वेंद्र चहल के टीम में शामिल न किए जाने से निराश हैं आकाश चोपड़ा  •  AFP via Getty Images

पूर्व भारतीय बल्लेबाज़आकाश चोपड़ा ने कहा है कि टी20 विश्व कप के लिए चयन किए गए भारतीय टीम में लेग स्पिनर युज़वेंद्र चहल के ना होने से वह "स्तब्ध" रह गए और साथ ही भारतीय 15-सदस्यीय दल में तेज़ गेंदबाज़ दीपक चाहर का ना होना भी "आश्चर्यजनक" है।
ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो न्यूज़रूम में बात करते हुए चोपड़ा ने कहा, "मैं स्तब्ध हूं क्योंकि चहल दुनिया में राशिद खान के बाद सबसे अच्छे लेग स्पिनर हैं। आपने पांच स्पिनर चुने हैं और चहल का नाम उनमें ना होना चौंकाने वाली बात है। मेरी व्यक्तिगत राय है कि परिस्थितियां कैसी भी हो, पांच स्पिनर रखना अनुचित है। आप को इतने नहीं चाहिए। हार्दिक पंड्या कैसी गेंदबाज़ी कर रहे हैं यह हम नहीं जानते और चयनकर्ताओं ने उनके लिए कोई बैकअप भी नहीं रखा।"
भारत ने दीपक चाहर का नाम रिज़र्व खिलाड़ियों में ज़रूर रखा है लेकिन दल में तेज़ गेंदबाज़ी की ज़िम्मेदारी जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार और मोहम्मद शमी के बीच होगी। साथ ही स्पिन विभाग में रविचंद्रन अश्विन चार साल बाद सफ़ेद गेंद क्रिकेट में भारत के लिए लौटेंगे और उनका साथ रवींद्र जाडेजा, राहुल चाहर, अक्षर पटेल और वरुण चक्रवर्ती देंगे। चोपड़ा ने कहा, "दीपक नई गेंद के साथ विकेट झटकते हैं। चहल और दीपक दोनों के नहीं होने से मुझे आश्चर्य है। दीपक कभी भी आपको विकेट दिला सकते हैं और अब तक कभी उन्होंने भारत के लिए ख़राब प्रदर्शन नहीं किया है। मैं मोहम्मद शमी और दीपक के बीच मैं चाहर को ही चुनता।"
चोपड़ा के अनुसार भारत ने 15 सदस्यों में ऋषभ पंत के अलावा पांच बल्लेबाज़ चुनकर भी फ़ॉर्म या चोट के लिए कोई गुंजाइश नहीं छोड़ी है। अंतिम 11 के चयन पर उन्होंने कहा, "मेरे लिए राहुल, रोहित, कोहली, सूर्यकुमार, ऋषभ, जाडेजा, पंड्या, और फिर चार गेंदबाज़ खेलेंगे। किशन शुरुआत में बाहर बैठ सकते हैं लेकिन उन्हें किसी भी बल्लेबाज़ की जगह खिलाया जा सकता है।"
चोपड़ा का कहना है कि बल्लेबाज़ी और तेज़ गेंदबाज़ी दोनो में बैकअप ना होना टीम के लिए परेशानी का सबब बन सकता है। उन्होंने कहा, "पिछले आईपीएल में सिर्फ़ शारजाह में ही टर्न देखने को मिली थी। अबू धाबी और दुबई में तेज़ गेंदबाज़ कारगर साबित होते हैं। अगर ऐसी पिच मिले जहां तीन तेज़ गेंदबाज़ों की ज़रूरत पड़े और हार्दिक नहीं बोलिंग कर रहे तो यह मुश्किल सकती है।"
चोपड़ा ने यह ज़रूर कहा कि भारत एक अच्छे ग्रुप में है और पाकिस्तान के साथ-साथ आख़िरी चार तक बढ़ने के पूरे आसार हैं। "वहां विराट और (मेंटर) एमएस धोनी दोनो मौजूद हैं और अगर भारत सेमीफ़ाइनल तक नहीं पहुंचा तो बहुत निराशाजनक होगा।"

देबायन सेन ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सहायक एडिटर और स्थानीय भाषा लीड हैं।