मैच (23)
IPL (2)
PAK v WI [W] (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
WT20 WC QLF (Warm-up) (5)
CAN T20 (2)
RHF Trophy (4)
ख़बरें

विश्व कप के बाद अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेंगे ब्रावो

वेस्टइंडीज़ के कप्तान पोलार्ड ने कहा- मेरा ऐसा कोई इरादा नहीं है

श्रीलंका से हारकर वेस्टइंडीज़ प्रतियोगिता से बाहर हो चुका है  •  AFP

श्रीलंका से हारकर वेस्टइंडीज़ प्रतियोगिता से बाहर हो चुका है  •  AFP

ड्वेन ब्रावो (38 वर्ष) ने पुष्टि की है कि वह विश्व कप की समाप्ति के बाद अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे। उन्होंने इससे पहले 2019 में संन्यास लिया था लेकिन इस विश्व कप के लिए उन्होंने वापसी की थी।
ब्रावो ने अब तक सभी सात टी20 विश्व कप में शिरकत की है और 2012 व 2016 में उनकी टीम ने ट्रॉफ़ी जीता था। ब्रावो ने वेस्टइंडीज़ के लिए कुल 90 टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले हैं।
उन्होंने कहा, "समय आ गया है। मेरा करियर अच्छा रहा। मैंने 18 साल तक वेस्टइंडीज़ का प्रतिनिधित्व किया और कई उतार-चढ़ाव देखे। मैं बहुत सौभाग्यशाली हूं कि मैं कैरेबियन लोगों का पूरे विश्व भर में प्रतिनिधित्व कर पाया। मेरे करियर के दौरान हमने तीन आईसीसी ट्रॉफ़ी जीती और कई बेहतरीन क्रिकेटरों के साथ खेला। हमने वैश्विक स्तर पर फिर से वेस्टइंडीज़ को स्थापित किया।"
वेस्टइंडीज़ विश्व कप के अब तक चार में से दो मैच हारकर प्रतियोगिता से बाहर हो गई है। अब उनका अंतिम मैच ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ शनिवार को अबू धाबी में होना है।
ब्रावो ने स्वीकार किया कि वह ऐसा विश्व कप नहीं चाहते थे। लेकिन उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों को अपने प्रदर्शन पर अधिक दुःख नहीं करना चाहिए, क्योंकि टूर्नामेंट में प्रतियोगिता बहुत तगड़ी थी।
उन्होंने कहा, "मैंने अब तक जितना भी अनुभव बटोरा है, वह अब युवा खिलाड़ियों में बांटूंगा। सफ़ेद गेंद की क्रिकेट में वेस्टइंडीज़ क्रिकेट का भविष्य सुनहरा है। बस हमें अपने खिलाड़ियों को समर्थन करने की ज़रूरत है।"
मेरा संन्यास का कोई इरादा नहीं : पोलार्ड
वहीं वेस्टइंडीज़ के कप्तान कायरन पोलार्ड ने कहा है कि उनका अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट छोड़ने का अभी कोई इरादा नहीं है। पोलार्ड ने इस विश्व कप की चार पारियों में 87 की साधारण स्ट्राइक रेट से सिर्फ़ 46 रन बनाए हैं। वह उन सीनियर खिलाड़ियों में से हैं, जिन्होंने प्रतियोगिता में संघर्ष किया और गत चैंपियन वेस्टइंडीज़ पहले ही दौर में टूर्नामेंट से बाहर हो गई।
उन्होंने कहा, "मैं व्यक्तिगत रिकॉर्ड के लिए नहीं बल्कि टीम की जीत के लिए खेलता हूं। हम यहां फिर से विश्व कप जीतने आए थे, लेकिन ऐसा नहीं कर सके। एक-दो ख़राब मैच या टूर्नामेंट से आप अपने भविष्य का निर्णय नहीं ले सकते। मुझे लगता है कि मुझमें अभी और भी खेलने की क्षमता है।"

देवरायण मुथु ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं, अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के दया सागर ने किया है