मैच (18)
सीपीएल (2)
भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया (1)
पाकिस्तान बनाम इंग्लैंड (1)
यूएई बनाम बांग्लादेश (1)
वेस्टइंडीज़ बनाम न्यूज़ीलैंड (महिला) (1)
रोड सेफ़्टी (2)
महिला विश्व कप क्वालिफ़ायर (4)
लेजेंड्स लीग (2)
इंडिया ए बनाम न्यूज़ीलैंड ए (1)
इंग्लैंड बनाम भारत (महिला) (1)
दलीप ट्रॉफ़ी (1)
काउंटी डिवीज़न एक (1)
ख़बरें

स्वर्ण पदक भारतीय महिला क्रिकेट के लिए बहुत कुछ बदल सकता है : हरमनप्रीत

"आख़िरी क्षण तक, हमें विश्वास था कि हम जीत सकते हैं"

Harmanpreet Kaur applauds during a tight final over delivered by Sneh Rana, England vs India, 1st semi-final, Commonwealth Games, Birmingham, August 6, 2022

सेमीफ़ाइनल में आख़िरी ओवर के दौरान टीम की हौसला अफ़ज़ाई करती हरमन  •  Associated Press

हरमनप्रीत कौर के लिए राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक के लिए खेलना 'बहुत मायने रखता है' और फ़ाइनल में अनुकूल परिणाम भारत में 'खेल को काफ़ी बदल सकता है'।
एजबेस्टन में शनिवार को इंग्लैंड के ख़िलाफ़ सेमीफ़ाइनल में भारत की चार रन की जीत के बाद कहते हुए, सभी प्रारूपों में भारत की कप्तान हरमनप्रीत, ने कहा कि यह परिणाम खिलाड़ियों के अत्यधिक आत्मविश्वास और उनके कभी न हारने के रवैये के कारण संभव था। आपको बता दें कि एशिया कप के बाहर किसी टी20 अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में नॉकआउट मैच में भारत की यह पहली जीत थी।
हरमनप्रीत ने कहा, "यह हमारे लिए बहुत मायने रखता है, हम इतने लंबे समय से कड़ी मेहनत कर रहे हैं। यह हमारे लिए एक बड़ा मंच है। पहली बार (राष्ट्रमंडल खेलों में) भाग लेना, अगर हम (फ़ाइनल में) अच्छा कर सकते हैं, तो हमारे लिए बहुत सी चीज़ें बदल सकती हैं।"
"हमने कभी नहीं सोचा हम किसके लिए खेल रहे हैं और किसके लिए नहीं। (स्वर्ण) पदक आना या न आना हमारे हाथ में नहीं है। हम बस अच्छा खेलना चाहते हैं। जिस तरह से हम अब तक खेले हैं , हमने बहुत कुछ सीखा है।"
जब इंग्लैंड को एक समय 24 गेंदों में 33 रन की ज़रूरत थी और उसके हाथ में सात विकेट थे, तब ऐसा लग रहा था कि मैच भारत के हाथ से फिसल जाएगा। ठीक उसी समय स्पिनर दीप्ति शर्मा और स्नेह राणा ने दमदार प्रदर्शन करते हुए वापसी करवाई। हरमनप्रीत के लिए विशेष रूप से दबाव वाली परिस्थिति में खिलाड़ियों की ऊर्जा को देखना सराहनीय था।
"आख़िरी क्षण तक, हमें विश्वास था कि हम जीत सकते हैं," उन्होंने कहा। "यहां तक कि जब वे ठीक चल रहे थे, किसी ने भी हार नहीं मानी। हम कुछ समय से इस पर काम कर रहे हैं। यदि आप ऐसा करते रहे, तो परिणाम आएंगे, और मुझे ख़ुशी है कि यह अब दिख रहा है।"
"यह एक महत्वपूर्ण मैच था और सभी खिलाड़ियों को अपनी भूमिकाएं निभाते देख अच्छा लगा। आख़िरी ओवर में देखा जाए तो हमारे तेज़ क्षेत्ररक्षकों ने डीप में क्षेत्ररक्षण की ज़िम्मेदारी ली। इससे पता चलता है कि आप टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन करने के लिए कितने उत्सुक हैं।"
हरमनप्रीत ने बताया कि हाल के दिनों में भारत के वैश्विक ख़िताब के दावेदार बनने के पीछे का कारण यह है कि टीम ने बड़े मंच पर दबाव को झेलने पर काम किया है। उन्होंने इस बदलाव को लाने और "नई योजनाओं को लाने" के लिए सपोर्ट स्टाफ़ को श्रेय दिया।
कप्तान ने कहा, "मैं हमेशा यह जानना चाहती हूं कि अन्य टीमें कैसा कर रही हैं। यदि आप इसके बारे में जानते हैं, तो आप योजना बना सकते हैं। हमें किसी ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता है जो इस तरह हमारी मदद कर सके और मुझे ख़ुशी है कि यह हमारे लिए काम कर रहा है।"
शनिवार को काम करने वाली कई योजनाओं में पहले इंग्लैंड के मध्य क्रम के विरुद्ध गेंद को गति नहीं देना और फिर डेथ ओवरों में डीप कवर के फ़ील्डर को काफ़ी स्क्वेयर खड़ा करना शामिल था। साथ ही 60 गेंदों पर 79 रनों की आवश्यकता होने पर शेफ़ाली वर्मा को ओवर देना भी एक बड़ा क़दम था।
इससे पहले विपक्षी बल्लेबाज़ों ने भारतीय तेज़ गेंदबाज़ों की पिटाई की थी और हरमनप्रीत जानती थी कि उनके गेंदबाज़ी पर आने से ज़्यादा फ़र्क़ नहीं पड़ता क्योंकि दीप्ति शर्मा और स्नेह राणा के रूप में दो ऑफ़ स्पिनरों का पहले ही इस्तेमाल किया जा चुका था।
हरमनप्रीत ने समझाया, "जब हम उसे (शेफ़ाली) लाए, तो दो ऑफ़ स्पिनर गेंदबाज़ी कर रहे थे। अगर हम एक और (ऑफ़ स्पिनर) लाते, तो इंग्लैंड के लिए यह आसान होता। शेफ़ाली अच्छी तरह से मिश्रण करती है, वह हमेशा गेंदबाज़ी करने के लिए उत्सुक होती है। आपको किसी ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता होती है जो गेंदबाज़ी का आनंद लेता है और कठिन परिस्थितियों में गेंद चाहता है।"
"जब भी मैं उससे पूछती हूं कि क्या वह गेंदबाज़ी करना चाहती है, तो वह उत्साहित हो जाती है। दबाव में, कभी-कभी, एक गेंदबाज़ अपना सर्वश्रेष्ठ देने में सक्षम नहीं हो सकता है, लेकिन उसका उत्साह दूसरों को भी प्रेरित करता है। यह एक संदेश भेजता है कि अगर कोई अनियमित गेंदबाज़ गेंदबाज़ी करने और फ़र्क़ पैदा करने के लिए इतना उत्सुक है तो यह (मुख्य) गेंदबाज़ों को अतिरिक्त ज़िम्मेदारी लेने के लिए प्रेरित करता है।"
बल्लेबाज़ी के मोर्चे पर, हरमनप्रीत ने कहा कि योजना पावरप्ले में बड़ी कोशिश करने और इंग्लैंड को आश्चर्यचकित करने की थी। 23 गेंदों में स्मृति मांधना के अर्धशतक ने भारत को बड़े पैमाने पर मदद की और टीम के 50 रन 4.3 ओवर में आए, जो प्रारूप में उनका सबसे तेज़ था।
हरमनप्रीत ने कहा, "(टॉस जीतने के बाद) पहले बल्लेबाज़ी करने का कारण यह था कि हम पहले छह ओवरों में हावी होना चाहते थे। हम एक विकेट खोने के लिए तैयार थे, लेकिन हमें नई विकेट पर पहले छह ओवरों का उपयोग करने की आवश्यकता थी। स्मृति ने जिस तरह से बल्लेबाजी की वह देखने लायक था। हम 150 से अधिक की तलाश कर रहे थे। इस तरह के मैचों में, आपको (एक बड़ा) स्कोर बनाना पड़ता है।"
"स्मृति वह है जो हमेशा टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन करने की इच्छुक है। उसकी पारी ने हमें उत्साहित किया, और जब प्रतिद्वंद्वी की बॉडी लैंग्वेज नीचे होती है, तो हम उन पलों का उपयोग कर सकते हैं। साथ ही, जिस तरह से जेमी (जेमिमाह रॉड्रिग्स, जिन्होंने 31 गेंदों पर नाबाद 44 रन बनाए) ने बल्लेबाज़ी की, वह उत्कृष्ट था। हमें किसी ऐसे व्यक्ति की ज़रूरत थी जो पारी को ख़त्म कर सके और यह बहुत अच्छा था कि वह आख़िरी गेंद तक वहां थी।"

शशांक किशोर ESPNcricinfo में सीनियर सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर अफ़्ज़ल जिवानी ने किया है।