मैच (13)
IPL (2)
SA v SL (W) (1)
ACC Premier Cup (6)
Women's QUAD (4)
फ़ीचर्स

आठ महीनों तक मैंने भारतीय टीम के सीमित ओवर क्रिकेट के मैच नहीं देखे : अश्विन

भारतीय ऑफ़ स्पिनर ने कहा, एक ऐप के जरिए बल्लेबाज़ों को पढ़ने की कोशिश करता हूं और तब तैयारी करता हूं

सीरीज से पहले खास तैयारी करते हैं आर अश्विन  •  Michael Steele/AFP/Getty Images

सीरीज से पहले खास तैयारी करते हैं आर अश्विन  •  Michael Steele/AFP/Getty Images

तैयारी के रणनीति पक्ष की बात करें तो आप कितना वीडियो देखते हैं और कब?
जब इंग्लैंड की टीम भारत आई थी, तो मैंने उनकी पूरी श्रीलंका सीरीज़ बिना एक गेंद छोड़े देखी थी। मैं तब तुरंत हरि [भारतीय टीम के एनालिस्ट] के पास गया और मैंने उनसे पूछा कि लसित अंबुलदेनिया किस गति से गेंद गेंदबाज़ी कर रहा था, दिलरूवान परेरा किस गति से गेंदबाज़ी कर रहा था, कितनी प्रतिशत गेंद स्टंप्स में थी। हमारे पास एक ऐप है जिससे हम ये सब समझ सकते हैं, तो मैंने दिलरूवान के सारे वीडियो दोबारा से देखे।
उदाहरण के तौर पर, जो रूट लगातार दो गेंदों को ब्लॉक नहीं करेगा। वह डिफ़ेंस में कमज़ोर है और मुझे लगता है उसे भी यह बात पता है। तो हर समय वह आउटसाइड ऑफ़ की गेंद को डिफेंस करता है, तो अगली गेंद पर वह स्वीप लगा देगा।
या रिवर्स स्वीप
ना, ना, वह रिवर्स स्वीप नहीं करता, वह रिवर्स तभी करेगा जब आप अराउंड द स्टंप्स गेंदबाज़ी करेंगे। और जब भी आप अराउंड द स्टंप्स जाएंगे तो ज़ैक क्रॉली, जो रूट सभी पहली ही गेंद पर रिवर्स स्वीप करेंगे। उन्हें बस यह एंगल पसंद है और मैंने देखा कि क्यों उन्हें यह एंगल पसंद है।
तो अगर आपने पूरी सीरीज़ देखी हो, तो मुझे नहीं लगता कि जो रूट ने मुझ पर खुलकर स्वीप शॉट लगाए हों। वह सिंगल निकाल रहा था। लेकिन उसको ऐसा करके ज़्यादा बाउंड्री नहीं मिल रही थी। चेपॉक पर [40 पर दो ] दूसरी पारी में वह दबाव भरे समय पर क्रीज़ पर आया था, उसने दो स्वीप स्क्वयेर लेग की दिशा में खेले। और पहली पारी में मैंने रूट को स्वीप पर बाउंड्री लगाने के ज़्यादा मौक़े नहीं दिए थे। तो पहली पारी में 100 पूरा करने के बाद उसने दिन के अंत के समय मुझे स्लॉग स्वीप पर छक्का लगाया, लेकिन उसने पूरी तरह से स्वीप पर मेरी गेंद पर बाउंड्री नहीं लगाई। [रूट ने चार मैचों की टेस्ट सीरीज़ में अश्विन की गेंद पर 19 बार स्वीप शॉट खेले और केवल तीन बार ही वह बाउंड्री लगा सके, श्रीलंका में दो टेस्ट में उन्होंने उनके मुख्य स्पिनरों पर 43 और 39 बार स्वीप शॉट लगाए।]
तो आपकी ऐप में गेंद दर गेंद सारे वीडियो देखे जा सकते हैं?
मैं एक काम करता हूं। मैं एनालेटिक्स कंपनी को कॉल करता हूं अगर कुछ ऐप में नहीं है। आमतौर पर सारे भारतीय मैच वहां पर होते हैं। दूसरे मैचों के लिए हमें केवल बाउंड्री और विकेट मिलते हैं। मेरे लिए यह जरूरी है कि मैं हर गेंद को देखूं। मैं एक बल्लेबाज़ भी हूं तो मैं जानता हूं कि अगर बल्लेबाज़ मेरे ख़िलाफ़ कदम निकालता है या स्वीप करता है तो उसको हल्का सा हिलना होगा क्योंकि मैं हवा में गेंद को इतना धीमे नहीं करता हूं। तो आपको बहुत जल्दी हिलना पड़ेगा और मैं अंतिम समय पर बदलाव कर सकता हूं। मैं कदम निकालने को ज़ल्द समझ सकता हूं। मैं स्वीप और रिवर्स स्वीप को बहुत ज़ल्दी परख सकता हूं। तब भी जब बल्लेबाज़ स्वीप से सिंगल निकालना चाह रहा हो, मैं अपने आप को तब उसको आउट करने का मौक़ा के रूप में देखता हूं।
तो किसी भी सीरीज़ से पहले आपके पास फुटेज देखकर सारी जानकारियां रहती हैं?
मैं हर सिंगल गेंद देखूंगा। मैं स्लो मोशन में देखूंगा, सुपर स्लो मोशन में देखूंगा। मैं कोशिश करता हूं और देखता हूं कि क्या मैं इससे निकाल सकता हूं। अगर ट्रिगर्स में अंतर है तो मैं स्पिलिट स्क्रीन करके देखता हूं। अगर मैं इसमें से कुछ भी नहीं निकाल पाता हूं तो मैं हरि के पास जाता हूं और पूछता हूं कि बॉल ए, बॉल बी और बॉल सी पर कैसे स्पिलिट स्क्रीन किया जा सकता है। जब मैं मैच में जाता हूं तो मैं नहीं चाहता कि कोई भी तैयारी अधूरी रह जाए। मैं हमेशा से बल्लेबाज़ को मैदान पर बहुत अच्छी तरह से पढ़ता हूं, लेकिन मुझे लगता है कि पिछले तीन, चार सालों से मैंने अपनी रणनीति क्षमता को अलग लेवल तक पहुंचाया है क्योंकि मुझे लगता था कि मैं 0.5 प्रतिशत मौक़े को भी नहीं गंवाना चाहता।
तो जब आप ऑस्ट्रेलिया जाते हैं तो स्टीव स्मिथ के ख़िलाफ़ आपकी क्या रणनीति रहती है?
मैं दो या तीन सप्ताह नहीं बल्कि लगभग छह महीने से उसको अपना जुनून बना लेता हूं। केवल फ़ुटेज, केवल अलग अगल मैच देखना। सबसे हालिया सीरीज़ [भारत के 2020-21 ऑस्ट्रेलिया दौरे से पहले] जो वे खेले, वह न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ थी। मैंने प्रत्येक दिन के खेल की फ़ुटेज देखी। मैं अपनी ऐप पर गया और चेक किया कि कितने रन मार्नस लाबुशेन ने बनाए जब समरविल गेंदबाज़ी के लिए आए? कौन सी गेंद को उसने काउ कॉर्नर की ओर उठाकर मारा?
मैं जानता हूं कि अगर बल्लेबाज़ मेरे ख़िलाफ़ कदम निकालता है या स्वीप करता है तो उसको हल्का सा हिलना होगा क्योंकि मैं हवा में गेंद को इतना धीमे नहीं करता हूं। तो आपको बहुत जल्दी हिलना पड़ेगा और मैं अंतिम समय पर बदलाव कर सकता हूं।
आर अश्विन
मुझे लगता है कि जब ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ों की बात आती है तो थोड़ा पूर्वचिंतन करना पड़ता है। मुझे लगता है कि वे आक्रमक विकल्पों की तलाश में रहते हैं। ज़ाहिर तौर पर ऑस्ट्रेलियाई पिचें बहुत सही हैं। तो आप कभी-कभी गेंद की पिच पर पहुंचे बिना भी रन बना सकते हैं, जो [गेंदबाज़ के लिए] बहुत परेशान करने वाला हो सकता है। एक स्पिनर के रूप में आपको ऑस्ट्रेलिया में बहुत सटीक होने की ज़रूरत है। आपके द्वारा दिया गया प्रत्येक रन आपकी शर्तों पर होना चाहिए।
इसलिए जब भी लाबुशेन बाहर निकलते हैं, तो वह एक ऑफ़ स्पिनर को काउ कॉर्नर पर हिट करते हैं या वह इसे मिड-ऑफ़ पर हिट करते हैं। वह बहुत कम ही लॉन्ग-ऑन पर मारते हैं। और उसके पास फ्लैट स्वीप नहीं है, उसके पास पैडल की तरह लैप स्वीप है और यह बहुत अच्छा है। यदि आप नहीं जानते हैं या यदि आपने पर्याप्त फ़ुटेज नहीं देखा है, तो आप इन चीज़ों को नहीं उठा सकते हैं।
और स्टीव स्मिथ के साथ, उनकी बल्लेबाज़ी बहुत गति से चलती है। उनकी ज़्यादातर बल्लेबाज़ी उन्हीं के हाथों से आती है, इसलिए मेरा पूरा आइडिया सीरीज़ के जरिए उनके हाथों को डिस्टर्ब करने का था। उनके पास हाथ हिलाने के बहुत तरीक़े हैं। आपको उन्हें चुनना होगा और इस तरह से गेंदबाज़ी करने में सक्षम होना होगा जिससे उनके हाथ के पैटर्न में गड़बड़ी हो। इसलिए मैंने अलग-अलग लोड-अप, अलग-अलग गति, अलग-अलग रन-अप के साथ गेंदबाज़ी की। मुझे एहसास हुआ कि मैं कामयाब रहा।
आपका अभ्यास मैच में क्या लक्ष्य रहता है? या अगर कोई अभ्यास मैच नहीं होता है तो टेस्ट से चार या पांच दिन की ट्रेनिंग में आप क्या करते हैं?
ख़ासतौर पर जब आप विदेश की यात्रा कर रहे होते हो तो पुछल्ले बल्लेबाज़ों को आउट करना अहम होता है। मैं कई गेंद को डालने की कोशिश करता हूं। मैं उन्हें साउथ अफ़्रीका में करने की कोशिश करूंगा। यह कुछ ऐसी अलग तरह की गेंद हैं, जो मैं करने की कोशिश करतहा हूं और अभ्यास मैचों में इस्तेमाल करता हूं, तब ही मैं इन गेंद का आदी हो पाता हूं।
जब आप साइड-ऑन पोजीशन में आ जाते हैं, तो ड्यूक्स बॉल बड़े पैमाने पर ड्रिफ्ट कर सकती है और बाएं हाथ के बल्लेबाज़ के लिए आउट साइड लेग पिच करना शुरू कर सकती है। ड्यूक्स के साथ, जब आप स्क्रैम्बल सीम गेंदबाज़ी करते हैं, तो आपको कभी-कभी वांछित परिणाम प्राप्त नहीं होते हैं। कूकाबुरा गेंद के साथ, आकार बहुत अच्छे होते हैं, इसलिए आप एक निश्चित तरीक़े से स्क्रैम्बल सीम का इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन ड्यूक के साथ गेंद हाथ में थोड़ी बहुत बड़ी महसूस होती है, इसलिए कभी-कभी स्क्रैम्बल सीम काम नहीं करती है। चमकदार पक्ष को पकड़ने की संभावना अधिक होती है। आप ऐसा नहीं करना चाहते, लेकिन उन पिचों पर जहां आपको उछाल और कैरी मिलती है, मुझे लगता है कि स्क्रैम्बल सीम का इस्तेमाल अच्छे फ़ायदे के लिए किया जा सकता है।
इसलिए मैं कोशिश करता हूं और देखता हूं कि क्या स्क्रैम्बल सीम मुझे परिणाम दे रही है। यदि आप सामान्य रोटेशनल सीम के साथ एक ही गेंद फेंकते हैं, तो यह ऑफ़ स्टंप पर पिच करेगी। अगर आप स्क्वयेर सीम से गेंदबाज़ी करते हैं, तो यह शायद मिडिल स्टंप पर पिच करेगा। और अगर आप स्क्रैम्बल सीम गेंदबाजी करते हैं, तो यह पांचवां स्टंप पर पिच कर सकती है। तो ये ऐसी चीज़ें हैं जिन्हें आपको अभ्यास मैच में जांचना होगा।
मैं अपनी सामान्य दिनचर्या से गुज़रता हूं, थोड़ा साइड-ऑन रहना, थोड़ा आगे रहना, कंधे के पीछे लोड करना, कंधे के सामने लोड करना। फिर कोशिश करें और कलाई की विभिन्न स्थितियों का उपयोग करें, जहां मैं बल्लेबाज़ के सामने लोड कर रहा हूं और जहां मैं नॉन-स्ट्राइकर का सामना कर रहा हूं वहां लोड कर रहा हूं। तो मैं सब कुछ जांचता हूं। मैं इन अभ्यास मैचों को प्रतिस्पर्धी खेलों के रूप में नहीं आंकता। वे एक महान प्रयोगशाला हैं।
मेरे लिए यह कार्रवाई के माध्यम से जाने के बारे में ज़्यादा है। रन-अप स्पीड, रिदम, मेरे रन-अप की स्ट्राइड लेंथ, लास्ट स्ट्राइड, जंप, साइड-ऑन पोजिशन, फ्रंट-ऑन, सेमी-ओपन, हाइपरेक्स्टेंशन, सब कुछ। ऐसी बहुत सी चीजें हैं जिनसे मुझे गुज़रना है।
जब आप एक बार टेस्ट खेलने वाले मैदान पर पहुंच जाते हैं, तो आपके पास दो दिन का नेट्स होता है। तब आप क्या देख रहे होते हैं?
एक स्पिनर के लिए लेंथ अहम है और लाइन विकल्प। मैं मानता हूं कि कुछ मैदानों पर जब आप स्पिन कराने जाते हो तो यह ज़रूरत से ज़्यादा फुलर हो जाती है। और यह कई कारणों से हो सकता है। तो मैं वापस जाता हूं और समझता हूं कि मुझे अपना कांटेक्ट प्वाइंट और बेहतर करना है। मेरी लेंथ सीधे फ़र्श पर पैर के संपर्क बिंदु से संबंधित है। मैंने अनिल भाई [कुंबले] से पूछा जब वह कोच थे। उन्होंने कहा, "अगर गेंद फुलर गिर रही है, तो क्रीज़ के पीछे से गेंदबाज़ी करें।" मैंने कोशिश की, लेकिन किसी कारण से यह मेरे लिए काम नहीं किया। मैं क्रीज़ के पीछे से तभी गेंदबाज़ी करता हूं जब मुझे लगता है कि मैं करना चाहता हूं। एक निश्चित उद्देश्य के लिए।
मुझे लगता है कि मेरे लिए संपर्क बिंदु बहुत महत्वपूर्ण हैं। इसलिए, उदाहरण के लिए, अगर मैं गेंद को छोड़ देता हूं जैसे ही मुझे लगता है कि मेरा [सामने] पैर फ़र्श को छूता है, तो यह एक विशेष स्थान पर गिर जाएगा। मेरा पैर एड़ी से पैर तक उतरता है। अगर मैं गेंद को तब छोड़ता हूं जब मुझे लगता है कि पैर का अंगूठा उतर गया है, तो यह अलग परिणाम देगा। अगर मैं अपनी स्ट्राइड लेंथ को कम करता हूं और अपनी रन-अप स्पीड बढ़ाता हूं, तो यह मुझे एक अलग परिणाम देगा। तो हर एक जगह पर, हर एक गेंद के साथ, यह आपको अलग-अलग परिणाम देना शुरू कर देगा। यदि आप पहले उसमें महारत हासिल कर सकते हैं और परिस्थितियों की समझ प्राप्त कर सकते हैं, तो आप ठीक हो जाएंगे।
कभी-कभी हमारे पास इतना समय नहीं होता है जब हम इन विदेशी दौरों पर इतना कुछ कर पाते हैं, कभी-कभी आप सीख रहे होते हैं कि आप खेल खेलने जा रहे हैं, यही वजह है कि पहले पांच ओवर अगले पांच या छह से अलग होंगे। .
तो यह इस पर निर्भर करता है कि आप पैर कैसे गिरता है?
मैं परिणाम के आधार पर [गेंद को छोड़ने] में देरी कर सकता हूं। ये आंतरिक ट्रिगर हैं। अंतिम परिणाम कुछ और हो सकता है, लेकिन मुझे उम्मीद है कि यह कुछ हद तक उसी तर्ज़ पर होगा जैसा मुझे लगता है कि यह होगा। जैसे, ऑस्ट्रेलिया में मैं पूरे पैर के अंगूठे के स्थानांतरित होने, शरीर के वजन के आगे बढ़ने और फिर रिलीज़ होने की प्रतीक्षा करता, ताकि मैं उन्हें हवा में कम समय दे सकूं। बहुत सारे बल्लेबाज़ रिलीज प्वाइंट देखते हैं और बाहर निकल जाते हैं। इसलिए, उदाहरण के लिए, कोई मेरी बांह को 90 डिग्री पर देखता है, मेरी गर्दन के पास, वह शायद सोचेगा कि यह एक अच्छी, उड़ने वाली गेंद है। इसलिए मैं अपने पैर के अंगूठे के फ़र्श को छूने का इंतजार करता हूं और फ़िर आगे की ओर धकेलता हूं और गेंद फेंकता हूं, जिसका मतलब है कि वह बाहर निकल गया है और मेरे पास थोड़ा और समय है।
"पहले, मैं जो कुछ भी महसूस करता था, मैं बस कहता और आगे बढ़ जाता क्योंकि इससे मेरा दिल हल्का हो जाता था। लेकिन मेरे बोलने के तरीक़े से कोई और आहत हो रहा था"
आर अश्विन
संकेतों को समझने के लिए हर किसी के शरीर को एक निश्चित तरीके से प्रशिक्षित किया जाता है। इसलिए अधिक बार नहीं, मुझे लगता है कि लोग देखते हैं कि रिलीज कहां है और वे बाहर कदम रखते हैं या वापस जाते हैं या जो कुछ भी है। मुझे लगता है कि मेरे पास देरी करने या इसे जल्दी करने की क्षमता है। और इसे जल्दी या देर से करते हुए, मैं अभी भी अपनी लंबाई को याद नहीं करता, यही कारण है कि मेरे पास लैंडिंग के ये ट्रिगर हैं - फ़र्श पर संपर्क बिंदु।
आप मैच के दौरान क्या करते हैं?
मैं अपने अनुभवों को फ़िर से देखता हूं, किसी ने मुझे कैसे खेला है, उनके जाने-माने शॉट क्या रहे हैं, अगर वे मुझ पर रन बनाते हैं तो कैसे बनाते हैं, मैं कुछ अलग कैसे कर सकता हूं। क्या काम किया, क्या काम नहीं किया। यही प्रक्रिया और परिणाम है, है ना? केवल प्रक्रिया को दोहराना ही प्रक्रिया नहीं है। तो यह काम कर गया है, तो ठीक इस पर टिके रहें। यह काम नहीं किया है, तो अब क्या मैं कुछ और फेंक सकता हूं?
स्मिथ के मामले में, वह ऐसा व्यक्ति है जो सोचता है। जैसे पहले टेस्ट के बाद [जहां स्मिथ क्रीज़ पकड़े गए और गेंद बल्ले का बाहरी किनारा लेकर स्लिप में पहुंची], दूसरी बार वह फ्रंट फ़ुट पर गेंद की तलाश में आए। यह पहले आउट होने की प्रतिक्रिया थी। इसलिए यदि आप जानते हैं कि कोई अलग तरह करने की तलाश कर रहा है, तो वे इसका समाधान खोजने का प्रयास करेंगे। और आप उस समाधान के लिए तैयार हो सकते हैं।
पहले और दूसरे टेस्ट के बीच तीन दिन का का समय था। इन तीन दिनों में क्या आपने हर गेंद दोबारा देखी?
मैं हर एक नेट सत्र से स्मिथ और लाबुशेन के फुटेज प्राप्त करने में कामयाब रहा। कुछ पीछे से, कुछ अगल-बगल से। मेलबर्न में उन्होंने [श्रीलंका के पूर्व ऑफ़ स्पिनर] सूरज रणदीव को नेट्स में रखा। मुझे लगता है कि समान कद और मेरी तरह उच्च हाथ रखने की वजह से या जो भी हो। लाबुशेन का पूरा इरादा ऑफ़ साइड से जाने का था क्योंकि उन्होंने बाहर निकलने की कोशिश की और एडिलेड में फ्लाइट में फंस गए। वह बैकफुट पर जा रहा था और सब कुछ ऑफ़ साइड पर कर रहा था। ऐसे में मैंने अपनी गति बदल दी। नेट्स में वह चिप करते और बस मिड-ऑन पर ड्राइव करने की कोशिश करते और फिर वापस आते और कोशिश करते की ऑफ़ साइड पर स्कोर किया जा सके।
इसलिए मैं इसके लिए तैयार था। वास्तव में, जब मार्नस [दूसरे टेस्ट में] आए, तो एक बैट-पैड मौक़ा था, जो पूजी के [चेतेश्वर पुजारा] के सिर पर से चला गया और फिर वह ऑफ़ साइड पर खेलना शुरू कर दिया। और जब वह ऑफ़ साइड पर खेल रहा होता है तो वह आगे नहीं आना चाहता।
और एमसीजी में अच्छा ड्रिफ़्ट मिल रहा था, इसलिए मैं राउंड स्टंप्स गया। जैसे ही आप राउंड द स्टंप जाते हैं, मार्नस को लाइन देखने और फ्लैट स्वीप करने के लिए बैठने की आदत है। जब आप ओवर द स्टंप्स से गेंदबाज़ी कर रहे होते हैं तो वह फ्लैट स्वीप नहीं करते। वह केवल पैडल मारता है। जब आप राउंड द विकेट जाते हैं तो वह मज़बूत स्वीप मारता है। मुझे लगता है कि उसने सोमरविले के साथ ऐसा किया। इसलिए जैसे ही मैंने एंगल बदला, मुझे पता था कि वह स्वीप करने जा रहा है। जब कोई राउंड द स्टंप जाता है तो उन्हें नहीं लगता कि उनके पास गेंद के स्टंप्स पर पिच होने को देखने की क्षमता है या शायद वह स्पिन जिसको खेलने के वह आदी हैं। इसलिए मैं क्रीज़ के कोने में गया, और फिर हवा के कारण, मैंने सुनिश्चित किया कि वह इसे अपनी आंखों से बायीं ओर देखे। और गेंद अच्छी तरह से ड्रिफ्ट हो गई। वह स्वीप लगाने गया और फंस गया और गेंद पैड पर जा लगी, उसे आउट दे दिया गया लेकिन डीआरएस ने उसे उछाल पर बचा लिया।
और अगली पारी, फिर वही। ओवर द स्टंप्स से उसे कुछ ऑफ़ साइड में ड्राइव के मौक़े दिए और बाद में राउंड द स्टंप्स आ गया। इस बार वह स्वीप नहीं करना चाहता था। वह आगे बढ़कर हिट लगाने की कोशिश कर रहा था। और ऐसे शॉट खेलकर वह आउट हो सकता था। और अब उसके पास एकमात्र विकल्प ऑफ़ साइड पर खेलना था। इसलिए जैसे ही उसने एक फ्लैट गेंद को देखा, वह पीछे गया और गेंद ड्रिफ्ट हो गई। वह सपाट और पफुलर थी और वह कैच आउट हो गया। जैसे ही वह वापस जा रहा था, वह खुद को आगे आने के लिए कह रहा था। इसे आप फ़ुटेज में देख सकते हैं।
संन्यास लेने की सोच के करीब तीन साल बाद, आप भारत के शीर्ष टेस्ट विकेट लेने वालों की सूची में हरभजन सिंह से आगे निकल गए हैं। आप जल्द ही कपिल देव को पछाड़ देंगे। आपने टी20 अंतर्राष्ट्रीय में वापसी की है। आगे क्या होगा?
सच कहूं तो अब मुझे कोई फ़र्क नहीं पड़ता। मैं अपने करियर के उस पड़ाव पर हूं जहां मेरे पास बाहरी शोर-शराबे के लिए वक़्त नहीं है। मैं सिर्फ क्रिकेट खेलना चाहता हूं। एक बात जो मुझे समझनी थी वह थी: मेरा मन हार क्यों मानना चाहता था? मैं क्यों छोड़ना चाहता था? मैं खेल का आनंद नहीं ले रहा था। क्यों? क्योंकि सारे कारक बाहरी थे। अगर मैंने अपना ध्यान अंदर की ओर लगाया होता, तो मैं खेल का आनंद ले सकता था। मुझे बस इतना ही स्वीकार करना था, चाहे कुछ भी हो जाए, अगर मैं टीम में हूं, अगर मैं टीम में नहीं हूं, अगर मैं प्रदर्शन करता हूं, अगर मैं प्रदर्शन नहीं करता हूं, तो यह मेरी शर्तों पर होगा।
और जब मैं ऑस्ट्रेलिया के लिए उस फ्लाइट में सवार हुआ, तो मैंने वास्तव में खुद से कहा: यह आपका आख़िरी दौरा है। कोई कसर नहीं छोड़ना है। जब आपको अपना पहला अवसर मिले तो बेहद तैयार रहें। यह पहला मैच नहीं हो सकता है। यह दूसरा हो सकता है, यह तीसरा हो सकता है, यह चौथा हो सकता है। या आप पूरी सीरीज़ से बाहर बैठ सकते हैं। मुझे पूरी सीरीज़ से बाहर बैठने की उम्मीद थी। मैं अपने परिवार को साथ ले गया क्योंकि अगर मैं नहीं खेल रहा था तो मुझे उनके समर्थन की ज़रूरत थी।
आपने खुद का बताया कि यह आपका आख़िरी दौरा है। और आप वहां पहुंच जाते हैं और देखते हैं कि आपको पहला मैच नहीं मिल रहा है।
कोई फ़र्क नहीं पड़ता। मेरे लिए क्रिकेट सिर्फ़ खेलने से और भी ज़्यादा है। लगभग आठ महीने तक मैंने भारत द्वारा सफेद गेंद के प्रारूप में खेले गए एक भी मैच को नहीं देखा। तभी इसने झकझोरा : मैं मानसिक आघात से गुजर रहा हूं। तो मैंने अपने मानसिक कंडीशनिंग कोच को बुलाया और कहा, "बॉस, मेरे लिए क्रिकेट नहीं देखना असत्य है।" कल अगर मैं नहीं खेल रहा हूं या अगर मैंने छोड़ दिया या कोई मुझे बाहर निकालता है, तो भी मैं खेल देखूंगा। क्योंकि मुझे इससे प्यार है।
"मैंने अपने मानसिक कंडीशनिंग कोच के साथ पहली बातचीत की, मैंने कहा, 'अगर आप यह भी कहने जा रहे हैं कि मेरी गलती है, तो मैं ऐसा नहीं करना चाहता। क्योंकि मेरे पास इसके लिए समय नहीं है।' उन्होंने कहा, 'ठीक है, चिंता मत करो', और उन्होंने इसे एक अलग दिशा में ले लिया।"
आर अश्विन
और अगर मैं इसे नहीं देख पा रहा हूं, तो यह स्पष्ट रूप से मुझे बता रहा है कि यह व्यक्तिगत है। यह दूसरे व्यक्ति के लिए व्यक्तिगत है या नहीं, मुझे परवाह नहीं है। मैं इसे व्यक्तिगत रूप से नहीं ले सकता क्योंकि मेरे पास इससे बेहतर होने की बुद्धि है।
लेकिन मेरे पास उपाय थे। मेरा मानना है कि इसलिए मुझे मौक़ा मिला है। अगर मेरे पास समाधान नहीं होते, तो शायद मुझे अवसर नहीं मिलता। हो सकता है कि यह बहुत आध्यात्मिक लगे लेकिन ऐसा ही है।
तब जाडेजा चोटिल हो जाते हैं और आपको बताया जाता है कि आप खेल रहे हैं। क्या आपने ऐसे तैयारी की थी जैसे आप एडिलेड में खेलने जा रहे थे, जबकि आप नहीं थे?
बिल्कुल। अगर मैं नहीं खेलता, तो मैं नहीं खेलता। अगर जड्डू खेलता है और जड्डू गेंदबाज़ी करता है तो मैं सीख सकता हूं। मैं बाहर बैठकर सीख सकता हूं कि ये बल्लेबाज़ क्या कर रहे हैं। और शायद मुझे अगले मैच में मौक़ा मिले। मैं यह नहीं कह सकता कि मैं नहीं खेल रहा हूं और स्विच ऑफ़ हो जाता हूं और अचानक से वह मौक़ा आता है जब आपको खेलने का मौक़ा मिलता है और आप असफल हो जाते हैं। मैं वह मौक़ा नहीं ले सकता।
आपकी पत्नी ने एमसीजी जीत के बाद ट्वीट किया कि उसने आपको कभी इतना खुश नहीं देखा। ऐसा कुछ कहना है।
भारतीय क्रिकेट सुपरस्टारडम के बारे में है, है ना? किस टॉम, डिक या हैरी ने 36 रन के बाद भारत को मौक़ा दिया? मेलबर्न टेस्ट के बाद, मुझे ऐसा लगा, "आप जानते हैं क्या, मैंने अपने देश के लिए काफ़ी मैच जीते हैं और यहां मैं एक और मैच जीतने के लिए अपना हाथ बढ़ा रहा हूं।" वहीं राहत थी। यह एक तरह से मूर्खतापूर्ण है, लेकिन दुनिया इसी तरह काम करती है।
मुझे यकीन है कि अगर मैं टीम का हिस्सा होता, और मुझे बताया जाता कि एक व्यक्ति पहले टेस्ट के बाद घर वापस जा रहा है, तो आप 4-0 से हार जाएंगे, मैं भी नाराज हो जाऊंगा।
ठीक ही तो है। और यह उस एक व्यक्ति की ग़लती नहीं है। वही धारणा की शक्ति है। लोग ऐसा मानते हैं। इसका विरोध किसने किया? किसने कहा कि पुजारा हैं, [अजिंक्य] रहाणे हैं, [जसप्रीत] बुमराह हैं, अश्विन हैं। यह किसने कहा? कोई भी नहीं। ऐसा नहीं है कि ये लोग यहां खेलने नहीं आए हैं और इन्होंने अपने देश के लिए कभी मैच नहीं जीते हैं।

सिद्धार्थ मोंगा ESPNcricinfo असिस्‍टेंट एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।