मैच (17)
IPL (3)
Pakistan vs New Zealand (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (2)
PAK v WI [W] (1)
ख़बरें

क्या भारत को पांच बल्लेबाज़ों के साथ उतरना चाहिए या छह?

केएल राहुल के चोटिल होने के बाद टीम प्रबंधन को संजोयन पर अहम फ़ैसला लेना होगा

पुजारा और रहाणे पर अब होगी अतिरिक्त ज़िम्मेदारी  •  AFP/Getty Images

पुजारा और रहाणे पर अब होगी अतिरिक्त ज़िम्मेदारी  •  AFP/Getty Images

2010-11 में नागपुर टेस्ट से एक दिन पहले वीवीएस लक्ष्मण की तबियत ठीक नहीं थी। नागपुर में ही घरेलू क्रिकेट खेल रहे रोहित शर्मा को लक्ष्मण की जगह पर दल में शामिल किया गया। लेकिन टॉस के वक़्त रोहित भी ख़ुद को घायल कर बैठे। टीम में कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के रूप में पहले से ही एक विकेटकीपर बल्लेबाज़ था और उन्हें ऋद्धिमान साहा को बतौर विशेषज्ञ बल्लेबाज़ के रूप में खिलाना पड़ा। इसके अलावा एस. बद्रीनाथ को भी डेब्यू करने का मौक़ा मिला था, जो कि लंबे समय से टीम के साथ थे।
हालांकि केएल राहुल के चोटिल होने के बाद इस बार भारत के सामने ऐसी कोई स्थिति नहीं है, लेकिन यह साफ़ दिख कर सामने आ रहा है कि भारतीय टीम प्रबंधन और चयनकर्ताओं के बीच अभी बेहतर तालमेल नहीं दिख रहा है, नहीं तो हनुमा विहारी आज इंडिया-ए नहीं बल्कि भारतीय टीम के साथ होते। इसके अलावा आज कल भारतीय चयनकर्ता अपने किसी भी निर्णय की व्याख्या भी नहीं कर रहे हैं।
राहुल की चोट से पहले ऐसा लग रहा था कि वे शुभमन गिल को मध्य क्रम में आज़माना चाहते थे। लेकिन राहुल की अनुपस्थिति में अब वह मयंक अग्रवाल के साथ ओपनिंग ही करेंगे। इसका मतलब है कि मध्य क्रम में श्रेयस अय्यर या आज ही टीम से जुड़े सूर्यकुमार यादव को टीम में मौक़ा मिल सकता है।
अब भारतीय टीम के पास सिर्फ़ ऐसे तीन बल्लेबाज़ हैं, जिनके पास 10 से अधिक टेस्ट खेलने का अनुभव है। इसमें से भी मयंक ऑस्ट्रेलिया दौरे पर ड्रॉप होने के बाद वापसी कर रहे हैं। वहीं अन्य दो खिलाड़ियों चेतेश्वर पुजारा और कप्तान अजिंक्य रहाणे का भी फ़ॉर्म अभी भी उतना विश्वास पैदा नहीं कर पा रहा है और उन पर कुछ दबाव भी होगा।
पिछले 15 टेस्ट मैचों में रहाणे की औसत सिर्फ़ 25 की ही रही है, जिसमें एक शतक शामिल है। वहीं घर पर इस दौरान चार टेस्ट में उनकी औसत 19 की रह जाती है। जबकि पुजारा की पिछले 22 टेस्ट में औसत 29 की है और उन्होंने इस दौरान एक भी शतक नहीं लगाया है। पिछले नौ घरेलू टेस्ट में 32 की उनकी औसत चिंता का विषय है।
टेस्ट से दो दिन पहले पुजारा ने कहा कि वह और रहाणे अच्छी बल्लेबाज़ी कर रहे हैं और लगातार 50, 80 और 90 का स्कोर बना रहे हैं, हां उनके पास शतक ज़रूर नहीं है। उन्होंने कहा, "जब तक मैं अपनी टीम के लिए योगदान दे रहा हूं, तब तक ख़ुश हूं। शतक जब बनना होगा तब बन जाएगा, मेरा ध्यान अच्छी बल्लेबाज़ी पर है।"
पुजारा ने कहा कि रहाणे भी नेट में अच्छा कर रहे हैं। उन्होंने कहा, "वह एक बेहतरीन खिलाड़ी हैं। हर खिलाड़ी के लिए एक कठिन समय आता है। यह खेल का एक हिस्सा है। उनके अंदर आत्मविश्वास है और वह अपने खेल पर लगातार कड़ी मेहनत करते हैं। वह बड़ी पारी से बस एक कदम दूर है। एक बार बड़ा स्कोर मिलने पर वह फ़ॉर्म में वापस आ जाएंगे।"
नए कोच राहुल द्रविड़ और टीम को इन दोनों खिलाड़ियों से एक बड़े स्कोर की उम्मीद होगी। ऋषभ पंत की ग़ैरमौजूदगी में टीम इंडिया पांच बल्लेबाज़ों की जगह छह बल्लेबाज़ों के साथ भी उतर सकती है। हालांकि अब यह सब निर्णय टीम प्रबंधन को ही लेने है।
अगर पिच पहले दिन से ही स्पिन करने वाली दिखती है, तो टीम एक अतिरिक्त बल्लेबाज़ के साथ जा सकती है। ऐसे में टीम को एक तेज़ गेंदबाज़ या स्पिनर को कम करना होगा।

सिद्धार्थ मोंगा ESPNcricinfo में असिस्टेंट एडिटर हैं, अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के दया सागर ने किया है