मैच (21)
ENG v WI (1)
Legends WC (3)
MLC (2)
T20 Blast (9)
RHF Trophy (1)
ENG v NZ (W) (1)
ZIM v IND (1)
LPL (1)
TNPL (2)
फ़ीचर्स

रेटिंग्स : दूसरे टी20 में ऋतुराज गायकवाड़ रहे टॉपर

जसप्रीत, प्रसिद्ध और रिंकू ने भी किया प्रभावित

Ruturaj Gaikwad goes on the attack, Ireland vs India, 2nd T20I, Malahide, Dublin, August 20, 2023

ऋतुराज की शानदार अर्धशतकीय पारी ने भारत के लिए बड़े स्कोर की नींव रखी  •  Sportsfile via Getty Images

भारत ने आयरलैंड को दूसरे टी20आई में 33 रनों से हराकर तीन मैचों की सीरीज़ में अजेय बढ़त हासिल कर ली है। टॉस हारकर पहले बल्लेबाज़ी करने उतरी भारतीय टीम ने ऋतुराज गायकवाड़ के अर्धशतक और संजू सैमसन (40) और रिंकू सिंह (38) की उपयोगी पारियों की बदौलत पांच विकेट पर 185 रन का बड़ा स्कोर खड़ा किया। जवाब में प्रसिद्ध कृष्णा, जसप्रीत बुमराह और रवि बिश्नोई की बेहतरीन गेंदबाज़ी के कारण आयरलैंड की टीम सिर्फ़ 152 रन ही बना पाई।
क्या सही, क्या ग़लत?
भारत के लिए इस मैच में अधिकतर चीज़ें अच्छी ही गईं। कुछ को छोड़कर लगभग सभी बल्लेबाज़ों ने हाथ खोलें और टिकने के बाद तेज़ रन भी बनाए। वहीं गेंदबाज़ी में फिर से पिछले मैच के तीनों सफल गेंदबाज़ों प्रसिद्ध, बुमराह और बिश्नोई ने फिर से बेहतरीन गेंदबाज़ी की।
अगर ग़लत की बात करें तो यशस्वी जायसवाल और तिलक वर्मा ने फिर से ख़राब शॉट खेल अपने विकेट गंवाए, वहीं संजू सैमसन ने टिकने के बाद एक बार फिर अपना विकेट फेंका।
आइए जानते हैं कि किस बल्लेबाज़ को कितने अंक मिले?
यशस्वी जायसवाल, 4: पहले मैच की तरह यशस्वी ने इस मैच में भी निराश किया और अच्छी शुरुआत को व्यर्थ में जाने दिया। शॉर्ट गेंदों पर उनकी कमज़ोरी झलकने लगी है और एक बार फिर से वह बाउंसर को पुल करने में नाकाम रहे और अपना विकेट गंवा के चल दिए। हालांकि इससे पहले उन्होंने कुछ बेहतरीन और दर्शनीय शॉट लगाए थे।
ऋतुराज गायकवाड़, 10: पहले मैच में ऋतुराज ने अपना फ़ॉर्म दिखाया था, जिसे उन्होंने दूसरे मैच में भी बरकरार रखा। शुरुआत में उन्होंने टिकने के लिए समय लिया, लेकिन जब कमज़ोर गेंदें मिलीं तो उस पर बड़े शॉट भी लगाए। हालांकि 135 के स्ट्राइक रेट के बारे में उन्हें अगले मैचों में सोचना होगा।
तिलक वर्मा, 0: जहां पहले मैच में तिलक 0 पर आउट हुए थे, वहीं दूसरे मैच में उनका स्कोर 1 रहा। जायसवाल की तरह वह भी तेज़ शॉर्ट गेंद का शिकार हुए। दो युवा बाएं हाथ के बल्लेबाज़ों का इस तरह आउट होना भारत के लिए चिंता का विषय है।
संजू सैमसन, 7.5: सैमसन के लिए कहा जाता है कि या तो उन्हें मौक़े नहीं मिलते हैं या जब उन्हें मौक़ा मिलता है तो उन्हें गंवा देते हैं। पहले मैच में तो यही हुआ था। दूसरे मैच में भी ऐसा हुआ, लेकिन थोड़ा देर से हुआ। जब वह बल्लेबाज़ी करते हैं तो लगता है कि उनके पास कितना समय है और वह कोई भी शॉट बेहद ही आसानी से खेल सकते हैं। आज भी ऐसा हुआ। उनके द्वारा मैदान के चारों तरफ़ लगाए गए बाउंड्रीज़ को देखते ही बन रहा था और वह अर्धशतक की ओर बढ़ रहे थे। लेकिन एक बार फिर वह ख़राब शॉट खेल अर्धशतक से चूक गए।
रिंकू सिंह, 9.5: रिंकू सिंह को आईपीएल और भारतीय घरेलू क्रिकेट सर्किट में फ़िनिशर के तौर पर जाना जाता है। भारत के लिए उनका यह दूसरा मैच था, लेकिन वह पहली बार ही बल्लेबाज़ी के लिए उतर रहे थे। शुरू में उन्हें थोड़े टाइम लगा, लेकिन जब एक बार उन्होंने हाथ खोला तो फिर आयरलैंड के सभी गेंदबाज़ शांत ही हो गए। उन्होंने तीन छक्के और दो चौके लगाए और 181 के स्ट्राइक रेट से बल्लेबाज़ी कर भारत के स्कोर को 180 के पार पहुंचाया।
शिवम दुबे, 8.5: शुरुआत में शिवम के बल्ले पर गेंद ही नहीं आ रही थी और वह 100 से कम के स्ट्राइक रेट पर रन बना रहे थे। लेकिन आख़िरी दो ओवरों में जब टीम को ज़रूरत थी, तो उन्होंने दिखाया कि आईपीएल में उनके द्वारा दिखाए गए शॉट्स अपवाद नहीं थे। उन्होंने अपने मसल पावर का दम दिखाते हुए दो गगनचुंबी छक्के लगाए और टीम के स्कोर को 180 के पार पहुंचाया।
वॉशिंगटन सुंदर, 5: सुंदर आज बल्लेबाज़ी करने के लिए आए, लेकिन उन्हें सिर्फ़ एक गेंद ही खेलने को मिला। गेंदबाज़ी में उन्हें दो ओवर मिले, जिसमें वह कुछ ख़ास कमाल नहीं दिखा सके।
रवि बिश्नोई, 9.5: पहले मैच की तरह बिश्नोई ने दूसरे मैच में भी आयरिश बल्लेबाज़ों को अपनी फ़िरकी से बांधे रखा। उनकी गूगली का विपक्षी बल्लेबाज़ों के पास कोई जवाब नहीं था।
अर्शदीप सिंह, 8.5: अर्शदीप सिंह ने पहले मैच में अपनी डेथ गेंदबाज़ी से निराश किया था, लेकिन आज ऐसा नहीं हुआ। अंत में उन्हें विकेट भी मिला, जो उन्हें आत्मविश्वास देगा।
जसप्रीत बुमराह, 9.5: एशिया कप टीम चयन से एक दिन पहले अगर किसी टी20 मैच में बुमराह मेडेन ओवर गेंदबाज़ी करते हैं, सटीक यॉर्कर डालते है और फिर डेथ ओवर्स में विकेट लेते हैं, तो इससे अच्छा भारतीय चयनकर्ताओं के लिए क्या ही हो सकता है। उन्होंने आज यह सब किया और भारतीय चयनकर्ताओं को सही संकेत दिए।
प्रसिद्ध कृष्णा, 9.5: विश्व कप टीम में भारतीय टीम को मध्य ओवरों में एक ऐसे गेंदबाज़ की ज़रूरत है, जो अपनी उछाल और तेज़ी से बल्लेबाज़ों को परेशान करे। पहले मैच के बाद दूसरे मैच में भी प्रसिद्ध ने अपनी छोटी गेंदों से आयरिश गेंदबाज़ों को परेशान किया और भारतीय चयनकर्ताओं के सिरदर्द को बढ़ाया।

दया सागर ESPNcricinfo हिंदी में सब एडिटर हैं