मैच (17)
IPL (2)
ACC Premier Cup (3)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
Women's QUAD (2)
Pakistan vs New Zealand (1)
फ़ीचर्स

सैमसन का वह एक रन नहीं लेना और जाडेजा के एक ओवर में 37 रन

अब जब आईपीएल दोबारा शुरू हो रहा है, तो चलिए टूर्नामेंट में अब तक के पांच बेहतरीन लम्हों की याद को ताज़ा करते हैं

जाडेजा ने हर्षल के एक ओवर में 37 रन बनाए थे, यह आईपीएल इतिहास का संयुक्‍त रूप से सबसे महंगा ओवर रहा  •  BCCI/IPL

जाडेजा ने हर्षल के एक ओवर में 37 रन बनाए थे, यह आईपीएल इतिहास का संयुक्‍त रूप से सबसे महंगा ओवर रहा  •  BCCI/IPL

19 सितंबर से संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2021 दोबारा शुरू होने जा रहा है। चार महीनों के लंबे वक्त के बाद अज जब टीमें दोबारा से जुड़ना शुरू हुई हैं, तो कई तरह के निजी बदलाव भी आए हैं। चलिए तो आपको अब तक 29 मैचों के पहले चरण के यादगार लम्हों को ताज़ा करते हैं।
सैमसन का सिंगल लेने से इनकार
पंजाब किंग्स के ख़िलाफ़ 222 रनों का पीछा करते हुए संजू सैमसन ने अकेले ही 119 रन बना डाले थे, लेकिन यह वो सिंगल नहीं लेना रहा जो उनकी इस यादगार पारी के साथ जुड़ गया। राजस्थान रॉयल्स को अंतिम ओवर में 13 रन की ज़रूरत थी। अर्शदीप सिंह ने शुरुआती तीन गेंदों पर दो ही सिंगल दिए। सैमसन ने चौथी गेंद को छह रनों के लिए भेज दिया। अब दो गेंद पर पांच रन की ज़रूरत थी। उन्होंने लांग ऑफ़ की ओर गेंद को भेजा लेकिन सभी को चौंकाते हुए सिंगल लेने से मना कर दिया। नॉन स्ट्राइकर एंड पर क्रिस मॉरिस खड़े थे, जो बल्ले से भी कमाल कर सकते थे। वह आधी पिच तक दौड़ पड़े, लेकिन सैमसन ने उन्हें वापस भेजा।
अब रॉयल्स को एक गेंद पर पांच रन की ज़रूरत थी। अर्शदीप ने यह गेंद फुल और ऑफ़ स्टंप के बाहर डाली और सैमसन उसे डीप कवर की ओर स्लाइस ही कर सके और टीम मैच हार गई।
जाडेजा ने निकाले हर्षल के आंसू
आईपीएल 2021 के पहले चार मुक़ाबलों में हर्षल पटेल ने 5.85 के इकॉनमी रेट के साथ सात ओवर किए थे और नौ विकेट झटके थे। इसके बाद मैच आया चेन्नई सुपर किंग्स के ख़िलाफ़। हर्षल पारी का 18वां ओवर करने आए और केवल पांच रन दिए, साथ ही अंबाती रायुडू को आउट किया। अब तक उनकी गेंदबाज़ी के आंकड़े तीन ओवर में 14 रन देकर तीन विकेट थे, लेकिन कप्तान विराट कोहली ने उन्हें 20वां ओवर देकर शायद ग़लती कर दी।
रवींद्र जाडेजा के तो दूसरे ही प्लान थे। हर्षल ने ऑफ़ कटर्स, यॉकर्स और स्लोअर बाउंसर का प्रयास किया लेकिन कुछ भी जाडेजा को नहीं रोक सका, वह अगला पैर आगे निकालते और गेंद को मिडविकेट की दिशा में उठाकर मार देते। पहली चार गेंदें, जिसमें एक नो बॉल भी शामिल थी, उन्होंने छक्के के लिए भेजी दी। इसके बाद उन्होंने एक और छक्का और चौका लगा दिया। इस ओवर में कुल 37 रन आए और यह आईपीएल ​इतिहास का संयुक्त रूप से सबसे महंगा ओवर साबित हुआ।
शॉ के एक ओवर में छह चौके
जाडेजा ने जहां हर्षल के आख़िरी ओवर में बल्ले से तूफ़ान मचाया, वहीं पृथ्वी शॉ ने भी शिवम मावी के पहले ओवर में कुछ ऐसा ही किया। कोलकाता नाइट राइडर्स ने कैपिटल्स को 155 रनों का लक्ष्य दिया था। यह मुश्किल लक्ष्य नहीं था, लेकिन शॉ ने इसको मात्र एक ही ओवर में आसान बना दिया। मावी की पहली गेंद लेग साइड के बाहर एक वाइड थी। अगली छह गेंदों पर शॉ ने लॉफ़्ट, फ़्लिक, पंच, ड्राइव और कट से चौके निकाले। शॉ ने ऐसा पहले से नहीं सोचा था बल्कि वह हर गेंद पर जवाब दे रहे थे और गेंद या तो गैप में जा रही थी या 30 यार्ड के घेरे के बाहर। उस मैच में शॉ और धवन ने पहले विकेट के लिए 132 रनों की बड़ी साझेदारी की और कैपिटल्स ने यह मुक़ाबला 21 गेंदें शेष रहते सात विकेट से जीत लिया।
बराड़ ने किया कोहली, मैक्सवेल और ​डीविलियर्स को आउट
अपने तीसरे आईपीएल सत्र के मध्य तक हरप्रीत बराड़ के पास कोई विकेट नहीं था और उसके बाद रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (आरसीबी) के ख़िलाफ़ एक ही मैच में उन्हें विराट कोहली, ग्लेन मैक्सवेल और एबी डीविलियर्स के विकेट मिले और वह भी सात गेंदों के अंदर और बिना कोई रन दिए।
बराड़ के पहले ओवरों में कोहली ने उनकी पहली दो गेंदों पर एक छक्का और चौका लगाया था। जब उन्होंने अपने तीसरे ओवर की शुरुआत की तो कोहली ने एक और बार आगे निकलकर मारना चाहा लेकिन इस बार बराड़ ने लेंथ को छोटा रखकर उन्हें फंसा लिया। अगली ही गेंद पर उन्होंने ऑफ़ स्टंप के बाहर गेंद रखी और गेंद मैक्सवेल के बल्ले का हल्का किनारा लेती हुई कीपर के पास पहुंच गई। डीविलियर्स ने बराड़ को हैट्रिक तो नहीं लेने दी, लेकिन अपने अगले ही ओवर की पहली गेंद पर उन्होंने डीविलियर्स को एक्स्ट्रा कवर पर केएल राहुल के हाथों कैच आउट करा दिया।
पोलार्ड ने सीएसके को चौंकाया
219 रनों का पीछा कर रही मुंबई इंडियंस ने 10 ओवर तक तीन विकेट खोते हुए 81 रन बना लिए थे। इसी वक्त कायरन पोलार्ड क्रीज़ पर आए थे। ज़रूरी रन रेट 13 का था और यह जल्द ही 15 को पार कर गया। शार्दुल ठाकुर पर रनों की बरसात करने से पहले पोलार्ड ने जाडेजा के एक ओवर में तीन छक्के और लुंगी एनगिडी के ओवर में दो छक्के लगाए।
अभी भी मुंबई को आख़िरी ओवर में 16 रन की दरक़ार थी। गेंद एनगिडी के हाथों में थी और पोलार्ड के साथ नॉन स्ट्राइकर एंड पर धवल कुलकर्णी मौजूद थे। ऐसे में उन्होंने अकेले ही सभी गेंदों को खेलने का निर्णय लिया। उन्होंने पहली और चौथी गेंद पर रन लेने का मौक़ा होने पर भी सिंगल नहीं लिया और स्ट्राइक अपने पास रखी। इस बीच उन्होंने दो चौके ज़रूर लगाए। अब आख़िरी दो गेंदों पर आठ रन चाहिए थे, एनगिडी ने एक ललचाने वाली फ़ुल टॉस डाल दी और पोलार्ड ने इस पर छक्का जड़ दिया। इसके बाद उन्होंने अगली गेंद को वाइड मिडऑन पर धकेला और दो रन पूरे कर अपनी टीम को जीत दिला दी। 34 गेंदों में 87 रन बनाकर वह नाबाद रहे।

हेमंत बराड़ ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर ने किया है। @nikss26