मैच (11)
Nepal Tri-Nation (1)
WPL (2)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
PSL 2024 (2)
Durham in ZIM (1)
IND v ENG (1)
ख़बरें

कोहली : सच कहूं तो शतक का सूखा आपके मन को विचलित कर सकता है

कोच राहुल द्रविड़ के साथ बातचीत के दौरान विराट कोहली ने परिस्थितियों के हिसाब से गेम को बदलने की बात भी की

आपस में बातचीत करते हुए कोहली और द्रविड़  •  BCCI

आपस में बातचीत करते हुए कोहली और द्रविड़  •  BCCI

विराट कोहली ने अहमदाबाद में नवंबर 2019 के बाद पहला टेस्ट शतक जड़ा। अपने 28वे शतक के लिए प्लेयर ऑफ़ द मैच ख़िताब जीतने के बाद उन्होंने 'बीसीसीआई टीवी' पर मुख्य कोच राहुल द्रविड़ से बात की। यह उस वार्तालाप के मुख्य अंश हैं।

द्रविड़ : हम मैदान पर दो दिन तक थे और विकेट समय के साथ बल्लेबाज़ी के लिए थोड़ी सी चुनौतीपूर्ण लग रही थी। इस से बल्लेबाज़ी में धैर्य के साथ कौशल की भी परीक्षा थी। आपने इसको कैसे संभाला?

कोहली : सबसे पहले तो आपकी प्रशंसा के लिए बहुत शुक्रिया, राहुल भाई। माइंडसेट के मामले में इस टेस्ट से पहले भी मैं ऑस्ट्रेलियाई टीम के ख़िलाफ़ अच्छा खेल रहा था। सच पूछिए तो यह विकेट बल्लेबाज़ी के लिए काफ़ी बढ़िया थी, बावजूद इसके ऑस्ट्रेलिया ने अच्छी गेंदबाज़ी की और जितनी मदद थी उसका फ़ायदा उठाया। मिचेल स्टार्क की गेंदबाज़ी से नेथन लायन और अन्य स्पिनर [टॉड मर्फ़ी] के लिए रफ़ बन गया था। उन्होंने उसका फ़ायदा उठाया और 7-2 की फ़ील्ड से गेंदबाज़ी की, जिसके चलते मुझे धीरज से काम लेना पड़ा। मुझे अपने डिफ़ेंस पर विश्वास रखना पड़ा और यह टेस्ट बल्लेबाज़ी की मेरी बुनियाद भी है। मैं अच्छा डिफ़ेंड करता हूं। ऐसे में मुझे पता होता है कि मैं लूज़ गेंद को मार सकता हूं। यहां आउटफ़ील्ड धीमा था, गेंद काफ़ी मुलायम हो गई थी और उनके गेंदबाज़ बहुत किफ़ायती गेंदबाज़ी कर रहे थे।

एक चीज़ जिससे मुझे काफ़ी आश्वासन मिला था, वह यह था कि मैं एक और दो रन भागते हुए शतक बनाने में संतुष्ट रहता हूं। मैं चार या पांच सेशन बल्लेबाज़ी कर सकता हूं। जब यह मेरे मन में होता है तो मैं रिलैक्स करके बल्लेबाज़ी करता हूं क्योंकि मैं किसी भी शैली के साथ खेल लेता हूं। अगर मेरे मन में होता कि मुझे तीन ही सेशन मिलेंगे तो मैं ज़्यादा व्याकुल होता और इतने इत्मिनान से नहीं खेलता।

अब तक जिसने मुझे या आप जैसे खिलाड़ियों को बल्लेबाज़ी करते देखा है, बल्लेबाज़ी में फ़िटनेस अहम है। अगर आपको पांच-छह सेशन की बल्लेबाज़ी करनी है तो आपको शारीरिक रूप से तैयार रहना पड़ता है। मैं एक सेशन में 30 रन बनाकर भी ख़ुश हूं क्योंकि मुझे पता है रन बाद में बनेंगे। नहीं भी बने तो मैं छह सेशन खेलकर 150 रन बनाने की क्षमता रखता हूं। इस संदर्भ में तैयारी ज़रूरी है और यह आप दो या तीन महीनों में ऐसा नहीं कर सकते। इसके पीछे पिछले सात-आठ सालों की लगातार मेहनत है। इन परिस्थितियों में यही काम आता है।"

द्रविड़ : कभी कभी कोच के लिए यह निराशाजनक होता है जब कुछ खिलाड़ी कहते हैं कि 'मैं तो एक ही ढंग से खेल सकता हूं।' इस परिपेक्ष में आपका यह कहना कि आप किसी भी शैली में खेल सकते हैं, काफ़ी रोचक है। आप पर्थ में शतक लगा चुके हैं और इंग्लैंड में भी। क्या आप हमेशा एक ढंग से खेल सकते हैं?

कोहली : जी नहीं, आपको हमेशा अपने सामने की परिस्थितियों के हिसाब से अपनी गेम को बदलना होता है। शायद यही वजह है कि मैं इतने समय से सभी प्रारूप खेल सका हूं। यह गेम के हिसाब से खेल को बदलने की ताक़त शारीरिक फ़िटनेस की देन भी है। आप मानसिक तौर पर अलग फ़ॉर्मैट में अलग शैली से खेल सकते हैं लेकिन आप सफल तभी होंगे जब आपका शरीर आपका साथ दे। मिसाल के तौर पर, इस टेस्ट मैच में रन गति को बढ़ाने के लिए मैं ख़ुद को लगातार छह-सात ओवरों तक हर ओवर में छह बार दो रन भागने के लिए ख़ुद को बैक करता। हर बार डीप मिडविकेट में हवा में मारने की ज़रूरत नहीं क्योंकि इससे आप आउट भी हो सकते हैं।

मैं इसी वजह से मुश्किल पिचों और परिस्थितियों में सफल रहा हूं, क्योंकि मैं तेज़ रनिंग के साथ-साथ बड़े शॉट भी लगा सकता हूं। इसके लिए आपको ऑलराउंड फ़िटनेस की ज़रूरत होती है। इसके लिए आपको रोज़ मेहनत करनी पड़ती है। आप कठिन परिस्थिति में बड़ा शॉट मारने के प्रयास में अपनी टीम को मुसीबत में नहीं डाल सकते। मैं हमेशा यही सोचता हूं कि मैं बेहतर तैयारी कैसे करूं।

द्रविड़ : मेरे लिए टीम प्लेयर की परिभाषा यही है। जो टीम की ज़रूरत के हिसाब से अपने कौशल में बढ़ोतरी करता रहे। हम क्रिकेट से सबसे ज़बरदस्त हिटर की बात कर रहे हैं, जो कभी भी निकलकर बड़ा छक्का मार सकते थे। फिर भी परिस्थिति के हिसाब से ख़ुद पर क़ाबू करना एक चैंपियन क्रिकेटर की निशानी है। एक चीज़ बताएं, आपकी बड़े शतक लगाने की आदत सी रही है। पिछले कुछ समय में कोविड के चलते कुछ क्रिकेट भी कम हुआ है, लेकिन फिर भी क्या शतक के बिना यह समय आपके लिए कठिन रहा है?

कोहली : अगर इस बात से मैं थोड़ा सा परेशान रहा हूं, तो यह ख़ामी मुझमें ही है। देखिए, शतक मारने की व्याकुलता स्वाभाविक है और हम सभी ऐसे दौर से गुज़रते हैं। मैं 40 और 45 के स्कोर से कभी संतुष्ट नहीं रहा हूं। लेकिन ऐसा नहीं है कि सुर्ख़ियों में विराट कोहली का नाम आना ज़रूरी है। जब मैं 40 पर नाबाद रहता हूं तो मुझे पता होता है कि यहां से मैं इसे 150 में परिवर्तित कर सकता हूं और टीम की मदद कर सकता हूं। मुझे यही बात खाए जा रही थी कि मैं टीम के लिए बड़ा स्कोर क्यों नहीं बना पा रहा? मैं कठिन परिस्थितियों में टीम के लिए परफ़ॉर्म करता था और अचानक ऐसा क्यों नहीं हो रहा था?

मैंने कभी व्यक्तिगत उपलब्धि पर ज़ोर नहीं दिया है। लोग अक्सर पूछते हैं कि मैं निरंतरता से शतक कैसे लगाता हूं। लेकिन मैं हमेशा कहता हूं कि मैं टीम के लिए ज़्यादा से ज़्यादा लंबे समय तक क्रीज़ में टिकना चाहता हूं और ऐसे में माइलस्टोन बन ही जाते हैं। पर सच कहूं तो [शतक का सूखा] जटिल हो जाता है, क्योंकि होटल रूम से निकलते ही कोई भी आपसे मिले, लिफ़्ट में या बस के चालक, आपसे सिर्फ़ शतक मांगते हैं।

यह आपके मन को विचलित कर सकता है लेकिन इतने लंबे समय तक खेलने का यह एक स्वाभाविक नतीजा है। आपको इन छोटी चुनौतियों को स्वीकारना होता है और जब सब कुछ सही बैठता है, जैसे इस गेम में हुआ भी, तो आपको काफ़ी ताज़गी मिलती है। मैं ख़ुश हूं कि यह ठीक विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फ़ाइनल से पहले आया है और मैं इस मैच के लिए मैं रिलैक्स करते हुए, क्रिकेट का लुत्फ़ उठाते हुए तैयार रहूंगा।