मैच (23)
IPL (2)
PAK v WI [W] (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
WT20 WC QLF (Warm-up) (5)
CAN T20 (2)
RHF Trophy (4)
फ़ीचर्स

किसी भी खिलाड़ी के प्रदर्शन को आंकड़ों से मापना सही नहीं हैं : क्रुणाल पंड्या

क्रुणाल ने इस साक्षात्कार में अपने आईपीएल प्रदर्शन और बल्लेबाज़ी के बारे में काफ़ी कुछ बताया है

2022 की नीलामी में क्रुणाल ने अपनी मूल रक़म को 2 करोड़ रूपये रखा है  •  BCCI

2022 की नीलामी में क्रुणाल ने अपनी मूल रक़म को 2 करोड़ रूपये रखा है  •  BCCI

भारतीय टीम के लिए खेलते हुए क्रुणाल पंड्या ने टी20 में कई बार मैच जिताऊ प्रदर्शन किया है। वह 2019 में वेस्टइंडीज़ के ख़िलाफ़ खेली गई टी20 सीरीज़ में 'प्लेयर ऑफ़ द सीरीज़' भी रहे थे। हालांकि वह पिछले साल जुलाई में श्रीलंका में खेली गई टी20 श्रृंखला के बाद से टीम का हिस्सा नहीं रहे हैं। उन्होंने पिछले दो आईपीएल सीज़न में भी अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है और मुंबई इंडियंस ने उन्हें रिटेन भी नहीं किया। मुंबई इंडियंस ने 2018 में उन्हें 8.8 करोड़ रुपये में ख़रीदने के लिए अपने राइट-टू-मैच कार्ड का इस्तेमाल किया था। क्रुणाल का कहना है कि मुंबई की टीम से रिलीज़ होने से उन्हें कोई दुख नहीं है। 2022 की नीलामी के लिए वह उपलब्ध हैं और उन्होंने अपनी मूल रक़म को 2 करोड़ रूपये रखा है।
इस बातचीत में क्रुणाल ने स्पष्ट रूप बताया है कि पिछले दो वर्षों में आईपीएल में उनका प्रदर्शन क्यों ख़ास नहीं रहा है। साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि उन्हें ख़ुद पर भरोसा है। वह आने वाले आईपीएल में और भारतीय टीम के लिए बढ़िया प्रदर्शन करने का माद्दा रखते हैं।
क्या आपको लगता है कि आप भारतीय क्रिकेट में मौजूद सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडरों में से एक हैं?
हां, निश्चित तौर पर मैं भारतीय क्रिकेट के टॉप ऑलराउंडरों में से एक हूं। छह साल एक ही फ्रेंचाइज़ी के लिए खेलते हुए मैंने 84 मैच में 1143 रन बनाए और 51 विकेट लिए हैं।
मुझे अपने जीवन में इस समय यहां होने की उम्मीद कभी नहीं थी। अगर किसी ने मुझसे (2016 में) कहा होता कि छह साल बाद मैं यहां रहूंगा या इस तरह का प्रदर्शन करूंगा तो मैं कहता कि आप मज़ाक कर रहे हैं। ऐसा संभव ही नहीं है। हालांकि मैं जीवन में जहां हूं, खु़श हूं। साथ ही मेरा ध्यान हमेशा इस बात पर रहा है कि मैं कैसे बेहतर हो सकता हूं।
पिछले कुछ आईपीएल में आप अपने प्रदर्शन को कैसे देखते हैं?
मुंबई की टीम में पिछले दो सीज़न में मेरी भूमिका बहुत अलग थी।
2016 और 2019 के बीच, मेरा बल्लेबाज़ी स्थान लगभग तय था। फिर पिछले दो वर्षों में, मेरी भूमिका बदल गई, जहां कायरन पोलार्ड और हार्दिक मुझसे आगे बल्लेबाज़ी कर रहे थे क्योंकि वे दो सबसे बड़े हिटर हैं। (क्रुणाल ने 2016 और 2019 के बीच 48 पारियों में से 27 में नंबर 5 और 6 पर बल्लेबाज़ी की और 2020 के बाद से 24 पारियों में से 14 में नंबर 7 पर।) इसलिए टीम के फ़ायदे के लिए मेरी भूमिका बदल दी गई।
आंकड़े हमेशा आपके द्वारा किए गए प्रदर्शन को मापने की सही तकनीक नहीं होती है। मायने यह रखता है कि क्या आप टीम के साथ खड़े हैं? क्या आप ज़िम्मेदारी ले रहे हैं? क्या आप टीम के लिए कठिन परिस्थितियों में काम कर रहे हैं? और यह सब मैंने किया है।
2019 और 2021 के बीच, आपने नंबर 4 और 7 के बीच बल्लेबाज़ी की है। जब आप 7 पर खेलते हैं, तो आपका स्ट्राइक रेट 148 होता है। नंबर 4 पर जहां आपने केवल तीन बार बल्लेबाज़ी की है, आपका स्ट्राइक रेट लगभग 138 है, साथ ही 5 और 6 नंबर पर, यह 96 और 103 है। आप किस क्रम पर बल्लेबाज़ी करने में सबसे अधिक सहज महसूस करते हैं?
जब मैंने मुंबई के लिए नंबर 5 पर बल्लेबाज़ी की है, तो मैं आमतौर पर तब बल्लेबाज़ी करने के लिए आता था जब टीम का स्कोर तीन या चार विकेट के नुक़सान पर 30 रन होता था। ये ऐसी स्थितियां थीं जहां मुझे जाकर एक साझेदारी बनानी होती थी और यह सुनिश्चित करना होता था कि हम और कोई विकेट न खोएं। जब मैंने 4 पर बल्लेबाज़ी की तो मैं ख़ुल कर खेलने के लिए पूरी तरह से स्वतंत्र था और मुझे स्पष्ट रूप से पता था कि या तो हमारी टीम ने शून्य के स्कोर पर 2 विकेट गंवा दिए हैं या टीम का स्कोर 2 विकेट के नुक़सान पर 100 रन है। इसी कारणवश उस वक़्त मेरी मानसिकता काफ़ी स्पष्ट होती थी और मुझे उसके सकारात्मक परिणाम मिले।
पिछले साल की तरह जब मैंने राजस्थान रॉयल्स के ख़िलाफ़ 4 नंबर पर बल्लेबाज़ी की मैंने 26 गेंदों में 39 रन बनाए और पोलार्ड के साथ 63 रन की साझेदारी की और चेन्नई सुपर किंग्स के ख़िलाफ़ मैंने 23 गेंदों में 32 रन बनाए और पोलार्ड के साथ 89 रन की साझेदारी की और हम दोनों मैच जीतने में क़ामयाब रहे। इन दोनों मैचों में मेरे पास समय था और वह स्वतंत्रता थी कि मैं अपने तरीक़े से पारी को आगे बढ़ा सकूं। जहां मैं पहले 10 गेंदों में संयमित ढंग से खेलते हुए, उसके बाद अपने पारी को तेज़ी से आगे बढ़ा सकता था।
लेकिन नंबर 5 पर मुझे सोचना होता था कि टीम के लिए क्या ज़रूरी है क्योंकि हमारे पास दो पावर-हिटर थे। हमें यह सुनिश्चित करना था कि हार्दिक और पोलार्ड को अपने अंदाज़ से खेलने के लिए एक सही मंच प्रदान किया जाए। मुझे लगता है कि मैंने टीम के लिए सही काम किया है। कभी-कभी परिणाम आपके पक्ष में नहीं जाता है, लेकिन जब तक प्रक्रिया और इरादा सही है - मैं ख़ुश रहूंगा।
2019 के बाद से आपकी कौन सी प्रभावशाली पारी है जो याद आती है?
सनराइज़र्स के ख़िलाफ़ 2020 में हैदराबाद में जब मैंने आख़िरी चार गेंदों पर 20 रन बनाए थे और हमने वह मैच जीत लिया था। वह पारी मुझे याद है और पंसद भी। 2018 में पंजाब किंग्स के ख़िलाफ़ 10 गेंदों में 33 रन की पारी; 2021 में जहां मैंने नंबर 4 पर बल्लेबाज़ी की थी तब मैंने चेन्नई के ख़िलाफ़ महत्वपूर्ण पारी खेली थी। उस मैच में हमने बैक-टू-बैक विकेट गंवा दिए थे और फिर पोलार्ड के साथ मेरी बढ़िया साझेदारी हुई थी।
इसलिए कई ऐसी पारियां रही हैं जो टीम के लिए महत्वपूर्ण थीं। हालांकि टीम में मेरे लिए रोल हमेशा बदलते गए।
एक नई फ़्रेंचाइज़ी में भी, आपकी भूमिका समान रूप से ऐसी ही होने वाली है। बल्लेबाज़ी क्रम में आपकी स्वाभाविक भूमिका क्या महसूस होती है?
मैं नंबर 3 से लेकर किसी भी क्रम पर बल्लेबाज़ी कर सकता हूं। मैंने 2016 के आईपीएल में केवल एक बार नंबर 3 पर बल्लेबाज़ी की है, दिल्ली डेयरडेविल्स के ख़िलाफ़ तब मैंने 37 गेंदों में 86 रन बनाए थे। वह आईपीएल में मेरा सर्वोच्च स्कोर भी है। उसके बाद मैंने कभी उस क्रम पर बल्लेबाज़ी नहीं की।
मैं कोई ऐसा खिलाड़ी नहीं हूं जो केवल एक ही क्रम पर बल्लेबाज़ी करना पसंद करता है, लेकिन अगर मेरे पास एक निरंतर भूमिका है तो यह मेरे लिए सहज है। हम भाग्यशाली थे कि हमारी टीम में दो बेहतरीन फ़िनिशर थे। ऐसे में यह स्वाभाविक था कि मेरे बल्लेबाज़ी क्रम को कभी ऊपर तो कभी नीचे लाया गया। अगर हम जल्दी विकेट खो देते थे तो मैं 5 पर जाता था और यह सुनिश्चित करता था कि उन्हें रन बनाने के लिए सही मंच दिया जाए। वहीं कभी मैं उनके बाद बल्लेबाज़ी करने आता था। अगर मैं ग़लत नहीं हूं, तो मैंने 2020 में 16 मैचों में सिर्फ़ 92 गेंदें खेली और 12 पारियों में 118.47 के स्ट्राइक रेट से 109 रन बनाए। वहीं 2021 में 123 गेंदों में 116.26 की स्ट्राइक रेट से 12 पारियों में 143 रन बनाए। इस संख्या के साथ विश्लेषण करना मुश्किल है। स्वयं का विश्लेषण करने के लिए कुछ पर्याप्त संख्याएं होनी चाहिए। एक बात यह भी है कि आंकड़ों के साथ अपने स्वयं के प्रदर्शन को सही ठहराना मुश्किल है।
मैं नई टीम में किसी भी तरह की भूमिका निभाने के लिए तैयार हूं। मैंने मुंबई के लिए सातवें नंबर पर बल्लेबाज़ी करते हुए, एक फ़िनिशर की भूमिका निभाई है। मैंने नंबर 5 पर एंकर की भूमिका निभाई है। साथ ही मैं यह भी कह सकता हूं कि मैंने इस भूमिका को अच्छे तरीक़े से निभाया है। मेरे ज़हन में एक मैच है जब पंजाब के ख़िलाफ़ मैं छठे ओवर में बल्लेबाज़ी करने के लिए आ गया था तब हम 3 विकेट के नुकसान पर 38 रन बनाकर खेल रहे थे। मैंने क्विंटन डिकॉक के साथ साझेदारी की, जहां मैंने 30 गेंदों में 34 रन बनाए। उसके बाद वहां से पोलार्ड ने आख़िरी पांच ओवरों में वही किया जिसके लिए वह जाने जाते हैं।
अब पोलार्ड मुंबई में हैं और हार्दिक अहमदाबाद के साथ हैं, इसलिए उम्मीद है कि मुझे और मौके़ मिलेंगे।
आईपीएल में गेंदबाज़ी के मामले में 2019 सीज़न के बाद से आपकी इकॉनमी 7.57 की है और कम से कम 100 ओवर फेंकने वाले स्पिनरों में आपकी औसत सबसे ज़्यादा है। इन आंकड़ें पर कई टीमों की नज़र रहेगी। क्या यह आपको चिंतित करता है?
बिल्कुल नहीं। मुंबई में मेरी भूमिका रनों को नियंत्रित करने की थी, क्योंकि हमारे आसपास विकेट लेने वाले गेंदबाज़ थे। अगर आप मेरी इकॉनमी को देखें तो यह हमेशा 7.5 के आसपास रही है, और मैंने वानखेड़े जैसे छोटे मैदान में काफ़ी गेंदबाज़ी की है।
पिछले दो सीज़न में मेरी भूमिका रन रोकने की थी। मैंने कई बार छठा ओवर फेंका है, जो पावरप्ले का सबसे कठिन ओवर है। (क्रुणाल ने पिछले तीन सत्रों में पावरप्ले में 33 ओवर फेंके हैं)। मैंने दूसरा या तीसरा ओवर भी फेंका है।
उसी लिए मैं कहता हूं कि टीम के लिए आपने जो किया है, वह हमेशा आंकड़ों से नहीं आंका जा सकता है। पिछले साल ही पंजाब के ख़िलाफ़ मैंने पावरप्ले में लगातार तीन ओर फेंकें थे और सिर्फ़ 13 रन दिए थे।
क्या आप उस स्तर पर पहुंच गए हैं जहां आपको विश्वास है कि आप अपनी बल्लेबाज़ी या गेंदबाज़ी के प्रदर्शन के आधार पर टीम को मैच जिता सकते हैं?
मैंने भारत के लिए 19 टी20 मैच खेले हैं। मैं ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड में प्लेयर ऑफ़ द मैच था। साथ ही मैं वेस्टइंडीज़ में प्लेयर ऑफ़ द सीरीज़ रहा हूं। लोग मेरी गेंदबाज़ी एक्शन के बारे में बात करते हैं, लेकिन मेरे तीन प्लेयर ऑफ़ द मैच पुरस्कार मेरी गेंदबाज़ी प्रदर्शन के कारण आए हैं और वह भी विदेशों में। मैंने अपने दम पर पांच या छह मैच जीते हैं, लेकिन जैसा मैंने पहले कहा था, मैं और अधिक सुसंगत होना चाहता हूं।
आईपीएल में आपका आखिरी प्लेयर ऑफ द मैच पुरस्कार क्या था?
2017 आईपीएल फ़ाइनल।
क्या तब से कोई प्लेयर ऑफ़ द मैच का ख़िताब नहीं जीतने के कारण आपको दुख होता है?
ऐसे कई उदाहरण हैं जहां मैं इस ख़िताब के काफ़ी क़रीब गया लेकिन मुझे वह नहीं मिला (हंसते हुए)। हर कोई ऐसा खिलाड़ी बनना चाहता है जिसके पास वह पुरस्कार हो।
एक बात मुझे पता है : मेरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन या दौर आना अभी बाक़ी है। और मुझे लगता है कि यह बहुत जल्द आने वाला है। मैं अच्छी तरह से तैयार हूं। बस यह कुछ समय का मामला है। क्योंकि हर क्रिकेटर का एक चरण होता है जहां चीज़ें वैसी ही होती हैं जैसा वह चाहता है, इसलिए मैं उस चरण के लिए तैयार हूं, जहां मैं इसका अधिकतम लाभ उठा सकूं।
2018 में आप अनकैप्ड खिलाड़ी थे। उस वक़्त आपने अपना बेस प्राइस 40 लाख रखा था और मुंबई ने आपको 8.8 करोड़ रुपये में ख़रीदा था। अब आपने अपना बेस प्राइस 2 करोड़ कर दिया है। आपने इसका फै़सला कैसे किया?
मैंने इस बारे में अधिक नहीं सोचा। बस मुझे लगा कि मैं सबसे ज़्यादा बेस प्राइस रख सकता हूं। वास्तव में जब मैं 2018 में अनकैप्ड था, तो मैंने खु़द अपना शुल्क सबसे ज़्यादा रखा था। अनकैप्ड खिलाड़ियों के लिए 10, 20 और 40 लाख का स्लैब था।
एक फ़्रेंचाइज़ी को आप पर बड़ा पैसा क्यों लगाना चाहिए?
क्योंकि क्रुणाल पंड्या आपको मैच जीत कर देगा - 100%। यह मेरा अति आत्मविश्वासी या अहंकारी होना नहीं है। यह सिर्फ़ आत्म-विश्वास है। मैं एक टीम मैन हूं। मैं हमेशा चैंपियनशिप जीतने के लिए खेलता हूं।

नागराज गोलापुडी ESPNcricinfo के न्यूज़ एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।