मैच (7)
AFG v IRE (1)
WPL (1)
PSL 2024 (1)
NZ v AUS (1)
Nepal Tri-Nation (1)
Durham in ZIM (1)
QAT v HKG (1)
ख़बरें

पृथ्वी शॉ ने आतिशी अंदाज़ में अपने प्रथम श्रेणी करियर का सर्वश्रेष्ठ स्कोर बनाया

पृथ्वी ने असम के ख़िलाफ़ 283 गेंदों में 240 रनों की नाबाद पारी खेली

पृथ्वी शॉव ने अपनी पारी में 33 चौके और एक छक्का लगाया  •  PTI

पृथ्वी शॉव ने अपनी पारी में 33 चौके और एक छक्का लगाया  •  PTI

गुवाहटी में असम के ख़िलाफ़ रणजी ट्रॉफ़ी मैच के पहले दिन पृथ्वी शॉ ने अपने प्रथम श्रेणी करियर का सर्वश्रेष्ठ स्कोर बना दिया है। उन्होंने मुंबई के लिए पारी की शुरुआत करते हुए 283 गेंदों में 240 रन बनाए और नाबाद लौटे।

पृथ्वी ने मुशीर ख़ान के साथ पहले विकेट लिए 123 रन और अजिंक्य रहाणे के साथ तीसरे विकेट के लिए नाबाद 200 रनों की साझेदारी की, जिससे मुंबई ने स्टंप्स तक दो विकेट के नुक़सान पर 397 रन बना लिए। बाएं हाथ के स्पिनर रोशन आलम को पृथ्वी ने आड़े हाथों लिया और उनकी 76 गेंदों में इतने ही रन बटोरे।

इस रणजी ट्रॉफ़ी सीज़न में पृथ्वी का यह पहला शतक है। उन्होंने पिछली सात पारियों में 22.85 की औसत और 68 के उच्च स्कोर के साथ सिर्फ़ 160 रन बनाए थे।

पृथ्वी हालिया समय में भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं। उन्होंने आख़िरी बार जुलाई 2021 में भारत के लिए कोई मुक़ाबला खेला था। घरेलू सर्किट में लगातार रन बनाने के बावजूद वह चयनकर्ताओं के नज़र से दूर हैं। वह सैयद मुश्ताक़ अली ट्रॉफ़ी में 181.42 के स्ट्राइक रेट से 332 रन के साथ दूसरे सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी थे, जिसमें असम के ख़िलाफ़ 134 रन की पारी भी शामिल थी। पृथ्वी का विजय हज़ारे ट्रॉफ़ी में प्रदर्शन मिला-जुला रहा था, उन्होंने सात पारियों में 217 रन बनाए थे, लेकिन लिस्ट ए क्रिकेट में उनका औसत 50 से अधिक है।

पृथ्वी को हाल ही में पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज़ गौतम गंभीर का समर्थन मिला, जिन्होंने पृथ्वी को गाइड करने और उन्हें अपनी योजनाओं में बनाए रखने के लिए कोचों और चयनकर्ताओं पर दबाव डाला।

गंभीर ने कहा, "पृथ्वी शॉ जैसे खिलाड़ी, जिस तरह से उन्होंने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की थी और जिस तरह की प्रतिभा उनके पास है, आप प्रतिभा के आधार पर खिलाड़ी का समर्थन कर सकते हैं।"

उन्होंने आगे कहा, "जी हां, आपको उनकी परवरिश भी देखनी होगी, वह कहां से आते हैं और उनके सामने क्या चुनौतियां हैं। यह प्रबंधन और चयनकर्ताओं को और अधिक समझना चाहिए कि उन्हें मिक्स में रखा जाए और उन्हें सही ट्रैक पर लाने में मदद की जाए।"