मैच (18)
WPL (2)
PSL 2024 (2)
AFG v IRE (1)
Nepal Tri-Nation (2)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
Durham in ZIM (1)
IND v ENG (1)
BPL 2023 (1)
CWC Play-off (3)
विश्व कप लीग 2 (1)
ख़बरें

टी20 विश्व कप में पहली बार डीआरएस का प्रयोग होगा

सेमीफ़ाइनल और फ़ाइनल में प्रत्येक टीम को परिणाम तय करने के लिए कम से कम 10 ओवर बल्लेबाज़ी करनी होगी

पुरुषों के टी20 विश्व कप में इससे पहले कभी डीआरएस का उपयोग नहीं किया गया था  •  Mark Brake/Cricket Australia/Getty Images

पुरुषों के टी20 विश्व कप में इससे पहले कभी डीआरएस का उपयोग नहीं किया गया था  •  Mark Brake/Cricket Australia/Getty Images

टी20 विश्व में पहली बार डिसिज़न रिव्यू सिस्टम (डीआरएस) का उपयोग किया जाएगा। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की गवर्निंग बॉडी ने इस बात की घोषणा करते हुए कहा कि इस महीने के अंत में शुरू हो रहे आईसीसी टी 20 विश्व कप में डीआरएस की सुविधा उपलब्ध रहेगी।
आगामी टी20 विश्व कप के लिए इस सप्ताह आईसीसी द्वारा जारी की गई खेल की शर्तों के अनुसार, प्रत्येक टीम को प्रति पारी अधिकतम दो रिव्यू लेने का म़ौका मिलेगा। गवर्निंग बॉडी ने पिछले साल जून में सभी प्रारूपों के एक मैच की प्रत्येक पारी में, प्रत्येक टीम के लिए एक अतिरिक्त डीआरएस की पुष्टि की थी। "कोविड 19 की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए कई बार ड्यूटी पर कम अनुभवी अंपायर हो सकते हैं" इसीलिए प्रत्येक टीम के लिए प्रति पारी असफल अपीलों के लिए वनडे और टी20 मैचों दो और टेस्ट के लिए तीन डीआरएस की समीक्षा सुविधा देने का निर्णय लिया था।
इसके साथ ही आईसीसी ने मैच में देरी और बारिश से बाधित मैचों के लिए न्यूनतम ओवरों की संख्या बढ़ाने का भी फ़ैसला किया है। टी20 विश्व कप के ग्रुप चरण के दौरान प्रत्येक टीम को डीएलएस पद्धति से परिणाम तय करने के लिए कम से कम पांच ओवर बल्लेबाज़ी करनी होगी। हालांकि सेमीफ़ाइनल और फ़ाइनल के लिए प्रत्येक टीम को परिणाम तय करने के लिए कम से कम 10 ओवर बल्लेबाज़ी करनी होगी।
पुरुषों के टी20 विश्व कप में इससे पहले डीआरएस का उपयोग नहीं किया गया था क्योंकि इस इवेंट का अंतिम संस्करण 2016 में हुआ था जब टी20 में डीआरएस नहीं था। 2018 महिला टी20 विश्व कप आईसीसी का पहला टूर्नामेंट था जिसमें डीआरएस उपलब्ध था। इस प्रतियोंगिता में प्रत्येक टीमों के पास एक रिव्यू उपलब्ध था। ऑस्ट्रेलिया में महिला टी20 विश्व कप के 2020 संस्करण में फिर से उसी का उपयोग किया गया था।
डीआरएस अंपायरों द्वारा निर्णय लेने में ग़लती होने के मार्जिन को कम करने के लिए बनाया गया था। इस नियम के ज़रिए अगर कोई खिलाड़ी अंपायर के फै़सले से नाख़ुश है तो वह रिव्यू ले सकता है। इसके बाद फ़ील्ड अंपायर तीसरे अंपायर से परामर्श लेते हैं। पुरुष क्रिकेट की बात की जाए तो इसका प्रयोग 2017 के बाद से आईसीसी के प्रमुख प्रतियोगिताओं में किया जा रहा है।
आईसीसी के नियमों के तहत, पुरुषों और महिलाओं दोनों के अंतर्राष्ट्रीय मैचों में डीआरएस का उपयोग द्विपक्षीय श्रृंखला के लिए भाग लेने वाले दोनों बोर्ड के विवेक पर है कि वह इस प्रणाली का प्रयोग करना चाहते हैं या नहीं।

नागराज गोलापुड़ी ESPNcricinfo के न्यूज एडिटर हैं। अनवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।