फ़ीचर्स

वॉर्नर ऑस्ट्रेलिया को अतीत की महान टीमों से जोड़ते हैं

यह पुराने चैंपियनों का एक अधिक मार्मिक संस्करण है, लेकिन पुराने खिलाड़ियों की ही तरह वह मैच विजेता है

Justin Langer, Steven Smith, David Warner and Aaron Finch react as the winning runs are hit, Australia vs New Zealand, T20 World Cup final, Dubai, November 14, 2021

विश्‍व कप के अंतिम तीन मैचों में वॉर्नर ने अहम पारियां खेलीं  •  ICC via Getty

वे डेविड वॉर्नर को बैल कहते थे। यह तब था जब वॉर्नर एक क्रिकेटर थे, लेकिन वह एक बारीक लकीर पर थे, जो ऑस्ट्रेलिया ने खींची थी। वह सटीक स्थान और पल्स रेट जिसके बारे में केवल ऑस्ट्रेलिया ही जानता था, जिसकी पॉलिसिंग केवल ऑस्ट्रेलिया ही कर सकती थी।
वह लकीर थी, क्योंकि उन्हें एक बार भी यह कहते हुए संदेह नहीं हुआ कि साउथ अफ़्रीका ने गेंद को रिवर्स कराने के लिए क्या किया और फिर चार साल बाद वह सैंडपेपरगेट में प्रमुख उकसाने वालों में से एक थे।
वह लकीर थी क्योंकि वह एक ऐसे सीरियल स्लेजर थे जिसे आईसीसी ने 2015 विश्व कप से पहले अपनी लाइन खींचने की चेतावनी दी थी, जो एक बार लगभग शारीरिक रूप से खिलाड़ी से भिड़ गए थे और एक बार ख़ुद के साथ स्लेजिंग होने की वजह से मैदान से बाहर चले गए थे। इस बीच रास्ते में लोग उन्हें आदरणीय कहने लगे। यह साफ़ नहीं है कि क्यों, हो सकता है कि पिता बनने की वजह से, वह अधिक मुस्कुराने लगे हो या क्रिकेटरों पर पंच मारने बंद कर दिए हों।
सैंडपेपरगेट से लौटने के बाद, उन्होंने उन्हें हम-बुल (विनम्र, बैल) कहना शुरू कर दिया, जिसके चेहरे पर अधिक मुस्कान थी, वह अधिक टिकटॉक वीडियो बनाता था और कम स्लेज करता हो (हालांकि बेन स्टोक्स ऐसा नहीं मानते थे)।
यह टीम उन पुरानी ऑस्ट्रेलियाई टीमों की तरह नहीं थी, जो जीत के आदी थे, जो झगड़ने वाले थे और पुराने चैंपियन थे। उनसे अब टीम उस तरह नहीं डरती जैसा कि पहले बड़े टूर्नामेंट में डरा करती थी। उस तरह नहीं डरते जैसे वे बड़े टूर्नामेंटों में करते थे। उदाहरण के तौर पर हाल ही में इंग्लैंड ने जिस तरह से टी20 विश्व कप मैच में उनके साथ मैदान पर प्रदर्शन किया।
टिम पेन एक अच्छे आदमी होने के लिए बहुत ध्यान आकर्षित करते हैं, लेकिन ऐरन फ़िंच एक सभ्य व्यक्ति हैं जिनकी खुली मुस्कान कमज़ोर नहीं दिखती है। यह एक ऐसी टीम है जिसमें ग्लेन मैक्सवेल मानसिक स्वास्थ्य के बारे में खुलकर और बहादुरी से बात कर सकते हैं, मानसिक रूप से तोड़ने पर नहीं, जिसमें ऐडम ज़ैम्पा हर तरह की कॉफ़ी के पारखी हो सकते हैं, जिसमें मार्कस स्टॉयनिस और ज़ैम्पा का ब्रोमांस हैं, लेकिन एक दूसरे के साथी नहीं। जिसमें तेज़ गेंदबाज़ के तौर पर पैट कमिंस टॉप गन के टॉम क्रूज़ हैं, डॉज बॉल के बेन स्टिलर नहीं। ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट के संदर्भ में यह एक मर्म से भरी टीम है।
और वॉर्नर, अब वह जो कुछ भी हैं, उन्हें इस टीम से बाहर नहीं रखा जा सकता। शायद आज भी यहां हम-बुल के लिए कुछ है। वह आदमी जो चुपचाप अपना समय देता था, छींटाकशी नहीं करता था, और गरिमा के साथ लौटता था। हो सकता है कि वह बस उसके पूरा होने तक प्रतीक्षा कर रहा हो और फिर दोबारा उसी रंग में लौट आए। लेकिन टूर्नामेंट के दूसरे भाग में, उन्होंने अकेले ही इस पुरानी ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाड़ियों की तरह प्रदर्शन किया। वे खिलाड़ी जिन्होंने सबसे बड़े मैचों में ही अपना सबसे बड़ा प्रदर्शन निकाला। जिनको तुग्गा, पिज, पंटर या वार्नी जैसे उपनामों से नवाज़ा गया था।
इन दिनों ऐसा निष्कर्ष बेवजह का लगता है, क्योंकि अब डाटा का उपयोग किया जाने लगा है। अकसर प्रेरक रूप से तर्क देने की कोई अहमियत नहीं रह गई है। आवश्यक होने के बावजूद डाटा एक चर्चा का विषय हो सकता है। इस मामले में, शुद्ध तथ्य के साथ अपने वाक्यों का उपयोग किया जा सकता है। लगातार तीन मैचों में ऑस्ट्रेलिया को उस देश में जीत की ज़रूरत थी जिसमें इस टूर्नामेंट से पहले उनकी जीत-हार का रिकॉर्ड 3-6 था, उन्होंने पहले गत चैंपियन के ख़िलाफ़ 158 रनों का पीछा किया। फिर पाकिस्तान के ख़िलाफ़ 177 रनों का लक्ष्य हासिल किया और फिर फ़ाइनल में 173 का लक्ष्य। इन तीनों ही मैच में वार्नर ने 89*, 49 और 53 रन बनाए। कुल 191 रन, स्ट्राइक रेट 154, हर पांच गेंदों से कम पर एक चौका या एक छक्का।
यह शुरुआत वाले अग्रणी वार्नर नहीं थे। यह चतुर, निर्दयी वॉर्नर थे, जो अपने हिसाब से अपना काम कर रहे थे। वह चुतराई से अपने मैच-अप को उठा रहे थे। संख्याओं में गणना करना काफ़ी आसान है कि उन्होंने उन पसंदीदा मैच-अप पर कैसे प्रहार किया, लेकिन इस बात का कोई पैमाना नहीं है कि इसने विपक्षी टीम को कैसे पछाड़ दिया।
उदाहरण के लिए इमाद वसीम का ओवर, सेमीफ़ाइनल में चेज़ का चौथा ओवर, जो मैच-अप के तौर पर निश्चित रूप से सही था। उन्होंने इस ओवर से 17 रन निकाले, शाहीन अफ़रीदी ने जो भी दबाव बनाया था वह यहां निकल गया। या जब उन्होंने उस छक्के के लिए मोहम्मद हफ़ीज़ को मारा और फिर दूसरे छक्के के लिए शादाब ख़ान का इस्तेमाल किया। यह तो बस मात्र कुछ शॉट की बात है, इससे कहीं ज़्यादा प्रहार करके नए पाकिस्तान को एक पुराना सबक सिखाया गया।
टिम साउदी रविवार को एक अलग टी20 गेंदबाज़ के रूप में फ़ाइनल में पहुंचे, उन्होंने पावरप्ले में प्रति ओवर पांच रन दिए। वॉर्नर ने अपने पहले ही ओवर में उन्हें दो चौके मारे। फिर उन्होंने अपने दूसरे में एक छक्का खाया। पावरप्ले के बाद साउदी पुराने रंग में आ गए और उन्होंने दो ओवर में बिना कोई विकेट लिए 20 रन दिए। जब तक वॉर्नर ईश सोढ़ी के पीछे गए, तब तक मिचेल मार्श अच्छी तरह से अपनी लय हासिल कर चुके थे, लेकिन उस नौवें ओवर में वॉर्नर ने न्यूज़ीलैंड के आक्रमण के एक प्रमुख सदस्य को बिखेर कर रख दिया। वह ऐसे छक्के थे, जहां पर हर एक के बाद लग रहा था कि मैच न्यूज़ीलैंड के हाथ से निकला। जैसा कि दिवंगत डीन जोन्स कहा करते थे, गया, गया, गया।
इसके अलावा, उसने वॉर्नर का सोढ़ी की स्लाइडर को खींचना, जो सीधे चार के लिए डाउन द ग्राउंड गया या इमाद पर लेग स्टंप के बाहर जाकर लगाई गई स्क्वायर ड्राइव। यही वह है जो वॉर्नर को विभिन्न समस्याओं से अपना समाधान खोजने के लिए प्रेरित करता है। उन शॉट्स ने ग्रेग चैपल की उस बात को भी याद दिलाया जब उन्होंने वॉर्नर को दूसरों से अलग बताया था।
हालांकि, जैसा कि पिछले कुछ दिनों ने दिखाया है, वह निश्चित रूप से उन महानतम लोगों से इतना अलग नहीं हैं जो उनसे पहले आए थे।

उस्मान समीउद्दीन ESPNcricinfo में सीनियर एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।