मैच (15)
IPL (2)
ACC Premier Cup (2)
Women's QUAD (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ख़बरें

गुनातिलका को श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से निलंबित किया

श्रीलंकाई बल्लेबाज़ को बिना सहमति के शारीरिक संबंध बनाने के आरोप में गिरफ़्तार किया गया था

दनुष्का गुनातिलका हैमस्ट्रिंग की चोट के कारण विश्व कप से बाहर होने के बावजूद ऑस्ट्रेलिया में श्रीलंकाई दल के साथ बने हुए थे  •  ICC via Getty Images

दनुष्का गुनातिलका हैमस्ट्रिंग की चोट के कारण विश्व कप से बाहर होने के बावजूद ऑस्ट्रेलिया में श्रीलंकाई दल के साथ बने हुए थे  •  ICC via Getty Images

श्रीलंका के बल्लेबाज़ दनुष्का गुनातिलका को सिडनी के कोर्ट ने सोमवार को जमानत देने से इनकार कर दिया। गुनातिलका को बिना सहमति के शारीरिक संबध बनाने के मामले में 6 नवंबर को टीम होटल से गिरफ़्तार किया गया था। उस दिन टीम के बाक़ी खिलाड़ी श्रीलंका के लिए रवाना हुए थे।
श्रीलंका क्रिकेट (एसएलसी) के अध्यक्ष शम्मी सिल्वा ने ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो को बताया, "हम निश्चित रूप से [गुनातिलका] का समर्थन कर रहे हैं।", लेकिन इसके आगे विस्तार से कुछ बताने से उन्होंने इनकार कर दिया। इसके तुरंत बाद बोर्ड ने सोमवार को एक नया बयान जारी कर गुनातिलका को "तत्काल प्रभाव से क्रिकेट के सभी प्रारूपों से निलंबित" कर दिया।
गुनातिलका का निकट भविष्य में ऑस्ट्रेलिया से निकलना मुश्किल है। एसएलसी ने पहले भी अनुशासनात्मक उल्लंघनों के कारण गुनातिलका को कम से कम तीन बार निलंबित किया है। उनमें से कम से कम दो मौक़ों पर कुछ समय बीत जाने के बाद निलंबन को काफ़ी हद तक कम कर दिया गया था।
एसएलसी के बयान में यह भी कहा गया है कि वह "कथित अपराध की तुरंत जांच करने के लिए आवश्यक कदम उठाएगा और ऑस्ट्रेलिया में अदालती मामले के फ़ैसले के बाद दोषी पाए जाने पर उक्त खिलाड़ी को दंडित करने के लिए ज़रूरी क़दम भी उठाए जाएंगे।"
एसएलसी ने आगे कहा कि वह "किसी खिलाड़ी द्वारा इस तरह के किसी भी आचरण के लिए "ज़ीरो टॉलरेंस" की नीति अपनाता है और घटना की निष्पक्ष जांच करने के लिए ऑस्ट्रेलियाई कानून प्रवर्तन अधिकारियों को सभी आवश्यक सहायता प्रदान करेगा।"
सिडनी में चल रहे मामले में मजिस्ट्रेट रॉबर्ट विलियम्स ने नोट किया कि गुनातिलका का कोई आपराधिक इतिहास नहीं रहा है, लेकिन जमानत के निवेदन को अस्वीकार कर दिया।
गुनातिलका के वकील आनंद अमरनाथ ने इस फ़ैसले को "निराशाजनक" बताया और ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो से पुष्टि की कि उनका मुवक्किल सुप्रीम कोर्ट में अपील करेगा। अमरनाथ ने कहा, "अगर गुनातिलका को जमानत मिल गई तो उन्हें हिरासत से रिहा कर दिया जाएगा लेकिन "मामले का अंतिम फ़ैसला आने तक" उन्हें ऑस्ट्रेलिया में ही रहना होगा।" चूंकि आरोप गंभीर हैं, लिहाज़ा इस प्रक्रिया में एक साल से अधिक समय लग सकता है।
अमरनाथ ने यह भी कहा कि एसएलसी कम से कम अभी के लिए गुनातिलका के कानूनी खर्चों को देगा। अमरनाथ ने कहा, "मैं बोर्ड के सभी स्तरों के लोगों से बातचीत कर रहा हूं। बोर्ड अभी गुनातिलका के बचाव के लिए भुगतान कर रहा था। उन्हें उम्मीद थी कि वे उन पैसों को बाद में गुनातिलका से वसूल कर लेंगे, एक तरह से यह एक ऋण है।"
रविवार को सिडनी पुलिस ने ख़ुलासा किया कि गुनातिलका और जिस महिला पर उन्होंने कथित तौर पर हमला किया था, उस महिला ने एक डेटिंग ऐप के माध्यम से उनसे संपर्क किया था और महिला ने अपनी सुरक्षा के संबंध में "सभी सावधानी बरती"।
डिटेक्टिव सुपरिंटेंडेंट जेन डोहर्टी ने मीडिया को बताया, "यह जोड़ी एक डेटिंग ऐप पर मिली थी। ऐप पर मुलाक़ात और 5 नवंबर के बीच उन्होंने टेक्स्ट, वॉयस और वीडियो चैट सहित विभिन्न प्लेटफ़ोर्मों के द्वारा बातचीत की। बुधवार को दोनों सिडनी में एक मीटिंग में मिले। उन्होंने शराब पी और कुछ खाया इसके बाद वे महिला के घर गए।
"पुलिस का आरोप है कि जब वे घर में थे, तब पुरुष ने महिला के साथ यौन अपराध करते हुए कई बार हमला किया। यह दुर्भाग्यपूर्ण था। इसका डेटिंग ऐप पर मिलने से कोई लेना-देना नहीं है।"
न्यू साउथ वेल्स राज्य ने हाल ही में नए स्वीकारात्मक सहमति कानून बनाए थे, जो इस साल जून में लागू हुए थे।
गुनातिलका हैमस्ट्रिंग की चोट के कारण 19 अक्तूबर को टी20 विश्व कप से बाहर हो गए थे, लेकिन "एक स्टैंड-बाय खिलाड़ी" के रूप में ऑस्ट्रेलिया में दल के साथ बने रहे। एसएलसी ने एक बयान में कहा, "गुनातिलका अपनी चोट से तेज़ी से उबर रहे थे। टीम प्रबंधन ने डॉक्टरों और चयनकर्ताओं के परामर्श से यह फ़ैसला लिया था। वह पहले से ही ऑस्ट्रेलिया के परिस्थितियों के अनुकूल हो चुके थे इसलिए उन्हें टीम के साथ रखने का फ़ैसला किया गया, ताकि वह टीम के साथ ट्रेनिंग जारी रख सकें और ज़रूरत पड़ने पर उन्हें तुरंत 15 सदस्यीय दल में शामिल किया जा सके।"

ऐंड्रयू फ़िडेल फ़र्नांडो ESPNcricinfo के श्रीलंकाई संवाददाता हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के एडिटोरियल फ़्रीलांसर कुणाल किशोर ने किया है।