मैच (15)
IPL (2)
ACC Premier Cup (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
Women's QUAD (2)
फ़ीचर्स

वेस्टइंडीज़ : एक साम्राज्य का पतन

टी20 विश्व कप से बाहर होने के बाद वेस्टइंडीज़ की लगभग एक दशक की बादशाहत ख़त्म होने की कगार पर है

यूएई में हुए इस विश्व कप में वेस्टइंडीज़ को निराशाजनक रूप से बाहर होना पड़ा  •  ICC via Getty

यूएई में हुए इस विश्व कप में वेस्टइंडीज़ को निराशाजनक रूप से बाहर होना पड़ा  •  ICC via Getty

सात अक्तूबर 2012। मार्लन सैमुएल्स ने लसिथ मलिंगा और श्रीलंका पर करारा प्रहार किया और इस प्रकार वेस्टइंडीज़ पहली बार बना टी20 का विश्व चैंपियन। इस उपाधि पर उन्होंने ख़ुद को बरक़रार रखा...
...चार नवंबर 2021 तक। यह वह दिन है जब श्रीलंका ने ही यूएई में इस साम्राज्य को शीर्ष से हटा दिया।
कोलोंबो में लगभग एक दशक पहले वेस्टइंडीज़ के जीत का जश्न मनाने में सबसे आगे थे क्रिस गेल। ड्वेन ब्रावो, कायरन पोलार्ड और आंद्रे रसल भी उनके साथ थे जब उन्होंने प्रेस अप और 'गंगनम स्टाइल' गाने के साथ नाच कर जीत का अभिवादन किया था। ये चार खिलाड़ी आने वाले समय में विश्व में टी20 क्रिकेट का अभिन्न हिस्सा बन गए।
जब वेस्टइंडीज़ क्रिकेट प्रशासन में कुछ बदलाव हुए तो 2019 में उनका पहला कार्य था इन खिलाड़ियों को फिर से वेस्टइंडीज़ टीम से जोड़ना। पोलार्ड को टी20 और वनडे का कप्तान नियुक्त किया गया। ब्रावो ने टी20 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के अपने फ़ैसले को वापस लिया। गेल ने एक और विश्व कप खेलने की ठान ली और 42 साल के उम्र में बने इस टूर्नामेंट के सबसे वरिष्ठ खिलाड़ी। रसल आजकल गेंदबाज़ी करते हैं तो शायद उनके घुटनों की आवाज़ मैदान में सुनाई देती है, लेकिन उन्होंने भी एक और विश्व कप जीतने का मन बना लिया।
गुरुवार को वेस्टइंडीज़ का सामना क्वालीफ़ायर श्रीलंका से था। कॉमेंट्री पर पूर्व कप्तान डैरेन सैमी कहते रहे कि वेस्टइंडीज़ के पास अपने विरासत को बचाने का आख़िरी मौक़ा है। तीन टॉस हारने के बाद पोलार्ड टॉस जीत कर पहले गेंदबाज़ी करने का फ़ैसला करते हैं। लेकिन अबू धाबी में उनके गेंदबाज़ एक बार फिर उन्हें निराश करते हैं।
वेस्टइंडीज़ टीम 2012 और 2016 में विश्व कप अपनी गेंदबाज़ी के विविधता के बलबुते पर जीती थी। सैमुएल बद्री पावरप्ले में विपक्षी बल्लेबाज़ को बांध लेते थे और फिर सुनील नारायण और सुलेमान बेन जैसे गेंदबाज़ उसी काम को आगे बढ़ाते थे। 2016 में ब्रावो अपनी गेंदबाज़ी के चरम टी20 फ़ॉर्म में थे और कार्लोस ब्रैथवेट और सैमी भी उनका अच्छा सहयोग करते थे।
इस टूर्नामेंट में उनकी गेंदबाज़ी में वह बात नहीं रही। जेसन होल्डर के टीम में शामिल होने से थोड़ा फ़र्क़ जरूर पड़ा है लेकिन 2012 के नायक रहे रवि रामपॉल अब 37 वर्षीय हैं। उन्होंने ट्रिनबागो नाइट राइडर्स के लिए अच्छी गेंदबाज़ी जरूर की थी लेकिन एक सीपीएल के आधार पर उन्हें चुनना एक बड़ा दांव लगाने से कम नहीं था।
मुख्य दल में फ़ेबियन ऐलेन, बेन की भूमिका निभा सकते थे लेकिन वह चोट के कारण टूर्नामेंट से बाहर हो गए। उनकी जगह आए अक़ील हुसैन यूएई में अपना चिर परिचित नियंत्रण नहीं ढूंढ पाए। ब्रावो चेन्नई सुपर किंग्स के लिए ज़बरदस्त फ़ॉर्म में थे लेकिन श्रीलंका के विरुद्ध चार ओवर में उन्होंने 42 रन लुटाए। यह शायद उनका आख़िरी टी20 अंतर्राष्ट्रीय था और इसमें उनके विश्लेषण अपने खेल जीवन के तीसरे सबसे ख़राब नंबर पर थे।
कुल मिलाकर चार मैच में उनके गेंदबाज़ों ने 31.71 के औसत से केवल 14 विकेट लिए हैं। इस टूर्नामेंट में एक मैच कम खेलते हुए सिर्फ़ भारत और नीदरलैंड्स ने इस कम विकेट लिए हैं। ओशेन थॉमस अपनी गति और उछाल के साथ उपयोगी होते, लेकिन उन्हें एक भी मौक़ा नहीं मिला है।
बल्लेबाज़ी में भी वेस्टइंडीज़ का आक्रामक अंदाज़ काम नहीं आया। उन्होंने 45.70 प्रतिशत डॉट बॉल खेले हैं, जो नामीबिया और स्कॉटलैंड के बाद इस प्रतियोगिता में सबसे बड़ा आंकड़ा है। लेंडल सिमंस का साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ 35 गेंदों पर 16 रन इसका बड़ा प्रतीक था। वहीं चार सुपरस्टार गेल, रसल, पोलार्ड और ब्रावो अपनी बड़ी हिटिंग नहीं कर पाए। श्रीलंका के ख़िलाफ़ बिनुरा फ़र्नांडो ने गेल को मिड ऑन पर कैच आउट करवाया। रसल चामिका करुणारत्ना की शॉर्ट बॉल का शिकार हुए और पोलार्ड और ब्रावो दोनों वनिंदु हसरंगा के गूगली पर आउट हो गए। श्रीलंका ने वेस्टइंडीज़ के बल्लेबाज़ों के विरुद्ध उपयुक्त गेंदबाज़ों को खड़ा किया और इस बात को पोलार्ड ने भी माना।
पुराने धुरंधरों की टोली लगभग टूट रही है और नए शूरवीरों की तलाश जारी है। इस नए वेस्टइंडीज़ के दो बड़े किरदार होंगे शिमरॉन हेटमायर और निकोलस पूरन जिन्होंने इस मैच में 81 और 46 रन बनाए। पोलार्ड इनमें बल्लेबाज़ी क्रम के अगले स्तंभ देखते हैं लेकिन गेंदबाज़ी का क्या? नारायण के बाद अगला उपयोगी स्पिनर कौन बनेगा? वेस्टइंडीज़ का अगला सनसनीख़ेज़ तेज़ गेंदबाज़ कौन है?
पोलार्ड, गेल, रसल और ब्रावो ने टी20 के फ़ॉर्मैट को झकझोरते हुए वेस्टइंडीज़ की पुरुष टीम को इस प्रारूप का पहला महान टीम बनाया था लेकिन अब समय बदलाव का हो चला है।

देवरायण मुथु ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं, अनुवाद ESPNcricinfo के सीनियर असिस्टेंट एडिटर देबायन सेन ने किया है