मैच (11)
भारत बनाम न्यूज़ीलैंड (1)
साउथ अफ़्रीका बनाम इंग्लैंड (1)
आईएलटी20 (2)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
बीबीएल (1)
एसए20 (1)
साउथ अफ़्रीका त्रिकोणीय सीरीज़ (1)
फ़ीचर्स

रियान की 174 रनों की पारी ने असम को सेमीफ़ाइनल में पहुंचाया

गायकवाड़ के नाबाद दोहरे शतक से महाराष्ट्र ने भी अंतिम चार में जगह बनाई

फ़ाइल तस्वीर - रियान पराग ने एक बार फिर असम को जीत दिलाई  •  BCCI

फ़ाइल तस्वीर - रियान पराग ने एक बार फिर असम को जीत दिलाई  •  BCCI

एक ओवर में सात छक्के जड़ने के लिस्ट-ए रिकॉर्ड के साथ 220 रनों की नाबाद पारी खेलने वाले ऋतुराज गायकवाड़ और 174 रन बनाने वाले रियान पराग ने अहमदाबाद में खेले गए विजय हज़ारे ट्रॉफ़ी के क्वार्टर फ़ाइनल मैचों में सुर्ख़ियां बटोरी। गायकवाड़ और रियान की पारियों ने क्रमश: महाराष्ट्र और असम को अंतिम चार में पहुंचाया।
कर्नाटका और सौराष्ट्र ने भी अंतिम चार में प्रवेश कर लिया है और अब पहले सेमीफ़ाइनल में वह आमने-सामने होंगे। वहीं दूसरा सेमीफ़ाइनल महाराष्ट्र और असम के बीच खेला जाएगा।
गायकवाड़ के 13वें लिस्ट-ए शतक के दम पर महाराष्ट्र ने उत्तर प्रदेश को 58 रनों से हराया। पहले बल्लेबाज़ी करते हुए महाराष्ट्र की पारी 30वें ओवर तक दूसरे ही गियर में चल रही थी। इसके बाद गायकवाड़ ने आक्रामक रूप धारण किया और टीम को 330 के अच्छे स्कोर तक पहुंचाया। पारी के 49वें ओवर में उन्होंने बाएं हाथ के स्पिनर शिवा सिंह को आड़े हाथों लिया और सात छक्कों समेत उस ओवर में 43 रन बटोरे।
लक्ष्य का पीछा करते हुए उत्तर प्रदेश के आर्यन जुयाल ने भी शतक जड़ा लेकिन मध्य क्रम में साझेदारियां नहीं बनने के कारण टीम को हार मिली। जुयाल ने 143 गेंदों पर 159 रन बनाए लेकिन 32वें ओवर में 152 के स्कोर पर सात विकेट गंवाने के बाद लक्ष्य हासिल करना कठिन होता चला गया। महाराष्ट्र की ओर से 20 वर्षीय तेज़ गेंदबाज़ी ऑलराउंडर राजवर्धन हंगारगेकर ने लिस्ट-ए करियर में पहली बार एक पारी में पांच विकेट लिए। मैच के बाद गायकवाड़ ने प्लेयर ऑफ़ द मैच का ख़िताब उनके साथ बांटा।
2018 बैच के जुयाल के अंडर-19 साथी रियान ने अपने लिस्ट-ए करियर का तीसरा शतक जड़ते हुए जम्मू और कश्मीर के 351 रनों के लक्ष्य को सफलतापूर्वक तरीक़े से हासिल किया। रियान के करियर के तीनों शतक इसी प्रतियोगिता में असम के लिए खेलते हुए आए हैं और अब वह इस सीज़न में तीसरे सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं। आठ पारियों में 122.88 के स्ट्राइक रेट और 76.71 की औसत से उन्होंने 537 रन बनाए हैं। उन्होंने नौ विकेट भी अपने नाम किए हैं तब जब भारतीय टीम को ऐसे बल्लेबाज़ों की तलाश हैं जो गेंद के साथ योगदान दे सकें।
नाडियाड में चिराग जानी ने ऑलराउंड खेल दिखाते हुए तमिलनाडु के अभियान पर रोक लगाई। पहले बल्ले के साथ 31 गेंदों पर नाबाद 52 रन बनाकर उन्होंने टीम को 293 के स्कोर तक पहुंचाया। इसके बाद तीन विकेट लेकर उन्होंने सौराष्ट्र को 44 रनों से जीत दिलाई।
लीग चरण में लगातार पांच मैचों में 150 से अधिक की साझेदारी निभाने वाले बी साई सुदर्शन और नारायण जगदीशन क्रमशः 24 और आठ ही रन बना पाए। मध्य क्रम के सामने चुनौती थी और टीम में वापसी कर रहे दिनेश कार्तिक भी केवल नौ रन बनाकर आउट हुए। आर साई किशोर ने सर्वाधिक 74 रनों की पारी खेली लेकिन वह टीम की हार को नहीं रोक पाए।
मोटेरा में अभिषेक शर्मा का शतक पंजाब के काम नहीं आया और कर्नाटका ने पंजाब के 235 रनों के लक्ष्य को अंततः हासिल कर लिया। कर्नाटका के लिए आर समर्थ ने 71 रन बनाए और मध्य क्रम के नहीं चलने के बावजूद उनकी टीम ने जीत दर्ज की। विद्धवत कवेरप्पा ने चार विकेट लिए। सात मैचों में 16 विकेटों के साथ वह इस सीज़न में तीसरे सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज़ हैं।