चेन्नई सुपर किंग्स 191/4 (जाडेजा 62*, डुप्लेसी 50) ने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु को 69 रनों से दी मात।
बल्ले से आतिशी अंदाज़ में आख़िरी ओवर में 36 रन बटोरा, फिर गेंद से एबी डीविलियर्स और ग्लेन मैक्सवेल का बेशक़ीमती विकेट हासिल किया, और फिर डेनियल क्रिस्टियन को सीधे थ्रो पर किया रन आउट, सही मायनों में राजस्थान रॉयल्स के ख़िलाफ़ चेन्नई सुपर किंग्स की 69 रनों की इस जीत के हीरे रहे रवींद्र जाडेजा। IPL 2021 में बेंगलुरु की ये पहली हार भी है, तो वहीं लगातार चार जीतों के साथ चेन्नई ने अंक तालिका में शीर्ष स्थान भी हासिल कर लिया है।
मुंबई में खेले गए इस मुक़ाबले में जाडेजा ने पहले चेन्नई सुपर किंग्स के आख़िरी ओवर में पांच छक्के लगाए और अपनी टीम को 154 से 191 के विशाल स्कोर तक पहुंचाया। जाडेजा यहीं नहीं रुके, इसके बाद उन्होंने लगातार दो ओवर में एबी डीविलियर्स और ग्लेन मैक्सवेल को क्लीन बोल्ड करते हुए बेंगलुरु का स्कोर 83/6 कर दिया। यहां से बेंगलुरु के लिए लक्ष्य तक पहुंचना नामुमकिन हो गया था, विराट कोहली 8 रन बनाकर पहले ही पवेलियन लौट चुके थे। हालांकि देवदत्त पडिक्कल ने 15 गेंदों पर 34 रन बनाते हुए चेन्नई पर दबाव ज़रूर बनाया था, जब बेंगलुरु ने पावरप्ले में 65 रन बना डाले थे। लेकिन इसके बाद चार ओवर में चार विकेट खोकर बेंगलुरु की मुश्किलें बढ़ चुकीं थीं। जाडेजा ने इसके बाद नंबर-3 पर आए वॉशिंग्टन सुंदर को भी 7 रनों पर अपना शिकार बनाया। जाडेजा ने गेंद से भी मैच जिताऊ प्रदर्शन करते हुए 13 रन देकर 3 विकेट झटके। इसके बाद इमरान ताहिर ने भी बेंगलुरु के दो विकेट और गिराए तब तक RCB का स्कोर 100 तक भी नहीं पहुंचा था और चेन्नई की जीत सुनिश्चित कर दी थी।
डुप्लेसी के अर्धशतक ने सेट किया प्लेटफ़ॉर्म
फ़ाफ़ डुप्लेसी ने लगातार दूसरा अर्धशतक लगाते हुए चेन्नई सुपर किंग्स को पहले बल्लेबाज़ी करने के बाद शानदार आग़ाज़ दिलाया। उन्होंने पहली ही गेंद पर कवर के क्षेत्र से ख़ूबसूरत चौका निकाला, इसके बाद डुप्लेसी ने मोहम्मद सिराज को लॉन्ग ऑन के ऊपर से और काइल जेमिसन की गेंद को दो बार ऑफ़ साइड बाउंड्री से बाहर करते हुए अपने इरादे साफ़ कर दिए थे।
पहले चार ओवर तक ऋतुराज गायकवाड़ ने उनका बस साथ दिया लेकिन इसके बाद उन्होंने भी युज़वेंद्र चहल और नवदीप सैनी के ख़िलाफ़ आक्रामक रवैया अपनाते हुए सुपर किंग्स को पावरप्ले में 51/0 रनों तक पहुंचा दिया था।
हर्षल पटेल ने गेंद और चेन्नई की रफ़्तार की धीमी
कोहली ने टॉस के समय कहा था कि टीम में सैनी को शामिल किया गया है ताकि वह "मिडिल ओवर में बल्लेबाज़ों के ख़िलाफ़ अपनी रफ़्तार से परेशान करेंगे" लेकिन हुआ इसका ठीक उल्टा। सैनी ने 2 ओवर में ही 27 रन लुटा दिए, उनकी रफ़्तार चेन्नई के बल्लेबाज़ों को मदद दे रही थी। चेन्नई IPL 2018 से वानखेड़े में अब तक सिर्फ़ दूसरी टीम बनी जिसने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी की हो। 10 ओवर की समाप्ति तक गायकवाड़ (33) की विकेट गंवाते हुए चेन्नई 83/1 रन बनाकर सुखद स्थिति में थी। चोटिल मोईन अली की ग़ैरमौजूदगी में नंबर-3 पर सुरेश रैना बल्लेबाज़ी करने आए, उन्होंने पहली 15 गेंदों पर ही 3 छक्के लगा दिए थे और 12 ओवर के बाद चेन्नई का स्कोर 112/1 रनों तक पहुंचाते हुए एक अच्छा लॉन्चपैड तैयार कर दिया था।
लेकिन यहां से हर्षल पटेल ने लगातार दो गेंदों पर डुप्लेसी और रैना को आउट करते हुए चेन्नई की रनगति पर ब्रेक लगा दिया था। चेन्नई सुपर किंग्स 112/4 भी हो सकती थी अगर डेनियल क्रिस्टियन ने रवींद्र जाडेजा का शून्य पर एक आसान सा कैच न टपकाया होता। अगली गेंद पर भी पडिक्कल ने भी एक मिसफ़ील्ड किया, बेंगलुरु को जाडेजा को दिया गया ये जीवनदान काफ़ी महंगा पड़ा।
अंतिम लम्हों में रवींद्र जाडेजा
19 ओवर में चेन्नई का स्कोर था 154/4, लेकिन इसके बाद रवींद्र जाडेजा ने इस सीज़न के सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज़ हर्षल पटेल की चार गेंदों पर लगातार चार छक्के लगाए। फिर चाहे वह धीमी गेंद हो, यॉर्कर डालने की कोशिश हो, कटर हो, जाडेजा ने हर गेंद को डीप मिडविकेट बाउंड्री के बाहर पहुंचाया। ओवर की तीसरी गेंद कमर से ऊंची थी लिहाज़ा नो बॉल करार दी गई, अगली गेंद पर जाडेजा ने दो रन लेते हुए स्ट्राइक अपने पास रखी और फिर पांचवीं गेंद पर लॉन्ग ऑन के ऊपर से एक और छक्का जड़ दिया। ओवर की आख़िरी गेंद पर जाडेजा ने चौका लगाया और ओवर में कुल 37 रन बटोरे।
जाडेजा का शो रहा जारी
जब तक देवदत्त पडिक्कल बल्लेबाज़ी कर रहे थे, तो लग रहा था कि मुक़ाबला कहीं चेन्नई के हाथ से निकल न जाए, जैसा कि बेंगलुरु ने तीन दिन पहले राजस्थान रॉयल्स के ख़िलाफ़ भी सफल चेज़ अंजाम दिया था। दीपक चाहर और सैम करन के ख़िलाफ़ कुछ सुंदर ड्राइव और पिकअप शॉट्स खेलते हुए पडिक्कल 14 गेंदों पर 34 रन बना चुके थे। लेकिन पांचवें ओवर में शार्दुल ठाकुर ने पडिक्कल को अपनी शॉर्ट गेंद पर पवेलियन की राह दिखा दी थी। दो ओवर पहले कोहली को भी करन ने विकेट के पीछे आउट करा दिया था, यानी अब चेज़ की ज़िम्मेदारी डीविलियर्स और मैक्सवेल के कंधों पर थी।
यहां से एक बार फिर जाडेजा का जादू चला और उन्होंने दोनों के ही स्टंप्स बिखेर दिए थे, पहले 9वें ओवर में मैक्सवेल 22 रनों पर स्लॉग स्वीप की कोशिश में बौल्ड हुए और फिर दो ओवर बाद जाडेजा की घूमती हुई गेंद डीविलियर्स के मिडिल स्टंप पर जा लगी। जाडेजा ख़ुशी से अपनी बाहें फैलाए हुए थे और बेंगलुरु के शीर्ष 6 बल्लेबाज़ पवेलियन लौट गए थे। चेन्नई सुपर किंग्स यहां से मैच में अपना दबदबा बना चुकी थी।
इन दो बड़ी विकेट के बीच में 10वें ओवर में कवर से दौड़ते हुए जाडेजा ने सीधा निशाना विकेटकीपर एंड की ओर लगाया और डेनियल क्रिस्टियन दूर रह गए।

विशाल दीक्षित ESPNcricinfo में ऐसिस्टेंट एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट सैयद हुसैन ने किया है।