मैच (12)
IND v ENG (1)
BPL 2023 (2)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
CWC Play-off (3)
PSL 2024 (1)
WPL (1)
फ़ीचर्स

रेटिंग्स : बड़ी हार में दीप्ति और ऋचा रहे भारत के लिए उम्मीद की किरण

रेणुका सिंह को विकेट नहीं मिले लेकिन उन्होंने भी किया प्रभावित, लेकिन राधा यादव के दो ड्रॉप्ड कैच रही बड़ी ग़लतियां

आठ साल बाद भारत के लिए टी20 अंतर्राष्ट्रीय खेल रहीं देविका वैद्य ने गेंद और बल्ले से योगदान दिया  •  Getty Images

आठ साल बाद भारत के लिए टी20 अंतर्राष्ट्रीय खेल रहीं देविका वैद्य ने गेंद और बल्ले से योगदान दिया  •  Getty Images

ऑस्ट्रेलिया ने एक बार फिर सिद्ध किया कि महिला क्रिकेट में वह पूरी दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीम क्यों हैं और मार्च 2021 के बाद से किसी भी टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच में उन्हें हार का सामना क्यों नहीं करना पड़ा है। भारत ने टॉस हारकर पांच विकेट पर 172 का प्रतिस्पर्धी स्कोर ज़रूर बनाया था, जिसमें दीप्ति शर्मा (36 नाबाद), ऋचा घोष (36) और स्मृति मांधना (28) के योगदान प्रमुख थे, लेकिन गेंद से उन्होंने कोई ख़ास प्रभाव नहीं डाला और ऑस्ट्रेलिया ने नौ विकेट से जीतकर पांच मैचों के सीरीज़ में 1-0 की बढ़त बना ली।
आइए देखते हैं भारतीय खिलाड़ियों को क्या रेटिंग्स मिलती हैं।

क्या सही, क्या ग़लत

भारत के लिए आशावादी बात यह रही कि शीर्ष क्रम के धुरंदरों के बड़े योगदान नहीं होने के बावजूद टीम ने 170 का स्कोर पार कर दिखाया। विकेटकीपर बल्लेबाज़ ऋचा और अनुभवी ऑलराउंडर दीप्ति की पारियां ख़ासा प्रभावशाली रहीं। देविका वैद्य (25 नाबाद और इकलौता विकेट) ने भी बल्ले और गेंद से साहस का परिचय दिया।
गेंदबाज़ी में भारत का काम एक सपाट विकेट और तेज़ आउटफ़ील्ड पर ओस के चलते और कठिन हो गया था। हालांकि फिर भी भारत की फ़ील्डिंग काफ़ी निराशाजनक रही। राधा यादव (और विस्तार उनके रेटिंग्स में) ने दो आसान कैच टपकाए और अंततः बेथ मूनी (नाबाद 89), तालिया मैक्ग्रा (नाबाद 40) और अलिसा हीली (37) ने रन बनाने के कोई अवसर नहीं छोड़े। भारत ने अपनी पारी में 50 डॉट बॉल खेलीं और आनेवाले मुक़ाबलों में उन्हें इस बात में सुधार लाना होगा।

प्लेयर रेटिंग्स (1 से 10, 10 सर्वाधिक)

शेफ़ाली वर्मा, 5.5: सलामी बल्लेबाज़ के तौर पर शेफ़ाली की नीयत एक दम सही थी और उन्होंने शुरुआत से ही ऑस्ट्रेलिया के अनुभवी तेज़ गेंदबाज़ों पर दबाव डाला। मेगन शूट के ख़िलाफ़ लॉन्ग ऑन के ऊपर और एलिस पेरी के विरुद्ध स्क्वायर कट के ज़रिए उन्होंने अपने इरादे स्पष्ट कर दिए थे। दूसरे छक्के के तुरंत बाद वह पुल करने के प्रयास में दुर्भाग्यपूर्ण तरीक़े से कैच आउट हो गईं।
स्मृति मांधना, 6: स्मृति आज अपने चिर परिचित अंदाज़ में प्रवाह से नहीं खेल पाईं। बावजूद इसके उन्होंने कुछ आकर्षक शॉट लगाए और लेग साइड में गैप का फ़ायदा उठाया। ऑफ़ साइड में उनके कई शॉट फ़ील्डर के क़रीब से गुज़रते दिखे और आख़िर में ऐसे ही शॉट से उनका विकेट भी गिरा।
जेमिमाह रॉड्रिग्स, 3: जेमिमाह एशिया कप में भारत की फ़ॉर्म बल्लेबाज़ थीं लेकिन आज उन्होंने निराश किया। पेरी की गति और गेंद में हरक़त के चलते वह असहज दिखीं। फ्रंटफ़ुट पर खेलना पसंद करने वाली जेमिमाह को पेरी ने शॉर्ट गेंदों से परेशान किया और चार डॉट गेंदों के बाद उनका विकेट लिया। उस दौरान पावरप्ले जारी था लेकिन भारत ने पिछले ही ओवर में 17 रन निकाल लिए थे।
हरमनप्रीत कौर, 5.5: हरमनप्रीत आज अपने पसंदीदा विरोधी टीम के ख़िलाफ़ चरम फ़ॉर्म में नज़र आ रहीं थीं। उन्होंने लगातार लेंथ को बढ़िया भांपा और विकेट के चारों तरफ़ कुछ मनमोहक शॉट लगाए। जिस गेंद पर वह एक्स्ट्रा कवर पर कैच भी थमा बैठीं, वैसे गेंद पर वह आम तौर पर आसानी से चौके जड़ देती हैं।
देविका वैद्य, 6.5: देविका आठ सालों के बाद भारत के लिए कोई टी20 अंतर्राष्ट्रीय खेल रहीं थीं और ऐसे में उनकी बल्लेबाज़ी तब आई जब सेट होने के बाद स्मृति का विकेट गिरा था। हालांकि वह अपनी पारी में स्ट्राइक रेट को ज़्यादा बढ़ा नहीं पाईं, उन्होंने मध्यक्रम में बाक़ी बल्लेबाज़ों का अच्छा साथ दिया। गेंद के साथ उनकी लेग स्पिन की सराहनीय बात थी कि वह अलिसा हीली और बेथ मूनी जैसे आक्रामक बल्लेबाज़ों के विरुद्ध भी फ़्लाइट देने को तैयार थीं और उन्हें विकेट भी ऐसे ही मिला।
ऋचा घोष, 7.5: ऋचा जब बल्लेबाज़ी करने आईं थीं तो भारत के लिए 170 तो क्या 150 भी कठिन दिखाई दे रहा था। उन्होंने आख़िर के ओवर में पारी को गतिशीलता प्रदान की और लेग स्पिनर अलाना किंग के लगातार गेंदों पर सीधे लॉन्ग ऑन के ऊपर स्लॉग स्वीप, डीप मिडविकेट के पास से पुल और फिर नज़ाक़त भरे लेट कट से 14 रन बटोरे।
दीप्ति शर्मा, 8: दीप्ति ने आख़िर के ओवरों में भारत की पारी को कुछ क़ीमती रन दिलवाए। केवल 15 गेंदों पर नाबाद 36 रनों की पारी में उन्होंने लेंथ को और गति परिवर्तन को बेहतरीन तरीक़े से पिक किया और लेग साइड में लगातार असरदार शॉट लगाए। जब तक वह गेंदबाज़ी करने आईं तब तक ऑस्ट्रेलियाई पारी को रफ़्तार मिल चुकी थी और ऐसे में उन्होंने रन रोकने पर ज़्यादा ध्यान देने की कोशिश की।
राधा यादव, 2.5: राधा बैकवर्ड प्वाइंट पर भारत की ख़ास फ़ील्डर हैं लेकिन आज उन्होंने मूनी को 4 पर और मैक्ग्रा को 1 पर ड्रॉप किया। दोनों ही कैच बहुत कठिन नहीं थे लेकिन ऐसा लगा राधा ने दोनों मौक़ों पर संयम की कमी दिखाते हुए गेंद को पकड़ने में जल्दबाज़ी कर दी। दोनों अवसरों पर भारत के अनुभवी सीमर रेणुका सिंह और मेघना सिंह दुर्भाग्यशाली गेंदबाज़ रहे। हालांकि आप कभी किसी एक खिलाड़ी पर हार की ज़िम्मेदारी नहीं डाल सकते, लेकिन मूनी ने जीवनदान के बाद 85 रन जोड़े तो वहीं मैक्ग्रा ने 39 रन। गणित आप ख़ुद कर लीजिए।
अंजलि सरवानी, 5: डेब्यू पर अंजलि ने नई गेंद को अच्छे से स्विंग करवाया और लेंथ पर अच्छे नियंत्रण से गेंदबाज़ी की। हालांकि मूनी और हीली के लेफ़्ट-राइट साझेदारी के ख़िलाफ़ वह दिशा में जूझती नज़र आईं और इस असमंजस का ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ों ने पूरा फ़ायदा उठाया।
मेघना सिंह, 5: मेघना को आज हरमनप्रीत ने तीसरे सीमर के रूप में इख़्तियार किया। उनका पहला ओवर अच्छा था और उन्हें मैक्ग्रा का विकेट भी मिलना चाहिए था। हालांकि जब वह दूसरे ओवर के लिए आई तो मूनी और मैक्ग्रा की साझेदारी रफ़्तार पकड़ चुकी थी और दोनों के ख़िलाफ़ वह अत्यधिक प्रयोग करतीं नज़र आईं।
रेणुका सिंह, 7: यदि आज कोई भारतीय गेंदबाज़ लगातार ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ों को परेशान कर पाई तो वह रेणुका ही थीं। पहले ओवर की आख़िरी गेंद में उन्होंने हीली का बाहरी किनारा निकाला था और दूसरे ओवर में मूनी को आउट करना चाहिए था। मुंबई के पिचों पर वह आगे के मैचों में ऑस्ट्रेलिया के लिए चुनौती पेश करती रहेंगी।

देबायन सेन ESPNcricinfo के सीनियर सहायक एडिटर और स्थानीय भाषा लीड हैं।