मैनचेस्टर यूनाइटेड फ़ुटबॉल क्लब में बड़ी हिस्सेदारी रखने वाली लांसर कैपिटल दो नई आईपीएल फ़्रेंचाइज़ी के लिए बोली दस्तावेज़ लेने वाली 22 व्यावसायिक संस्थाओं में से एक हैं। लांसर का स्वामित्व अवराम ग्लेज़र के पास है। अगले सप्ताह भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) द्वारा फ़्रेंचाइज़ी के विवरण की घोषणा किए जाने की संभावना है।

अन्य संभावित बोलीदाताओं में अहमदाबाद स्थित इंफ़्रास्ट्रक्चर की दिग्गज कंपनी अदानी समूह, संजीव गोयनका के स्वामित्व वाले व्यापार समूह आरपीएसजी, नवीन जिंदल के स्वामित्व वाली जिंदल स्टील, टोरेंट फार्मा, अरबिंदो फ़ार्मा और हिंदुस्तान टाइम्स मीडिया के साथ-साथ कई और निजी इक्विटी कंपनियां शामिल हैं। दुबई में 25 अक्तूबर को होने वाले वॉक-इन इवेंट में बोलियां खोली जाएंगी।

जो दो नई टीम 2022 से आईपीएल का हिस्सा होंगी, उन्हें छह भारतीय शहरों में से किसी दो को चुनना होगा। इन शहरों में अहमदाबाद, कटक, धर्मशाला, गुवाहाटी, इंदौर और लखनऊ शामिल हैं। जबकि निवेशक एक से अधिक शहरों के लिए बोली लगा सकते हैं, उन्हें अंत में एक के लिए समझौता करना होगा।

बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि बोलियों का सफल तकनीकी मूल्यांकन होने के बाद ही बोर्ड यह तय कर सकेगा कि उसी दिन दो नई फ़्रेंचाइज़ी और शहरों की घोषणा की जाए या बाद में।

मूल समयरेखा के अनुसार, बोलियां 17 अक्तूबर को खोली जानी थीं, लेकिन इसमें देरी हो गई क्योंकि बीसीसीआई ने संभावित बोलीदाताओं की व्यापक रुचि का हवाला देते हुए दो बार पहले 10 अक्तूबर और फिर 20 अक्तूबर तक की सीमा बढ़ा दी।

राइजिंग पुणे सुपरजायंट्स और गुजरात लायंस के दो साल 2016 और 2017 में आईपीएल में हिस्सा लेने के बाद से यह पहली बार है जब बीसीसीआई दो नई फ़्रेंचाइज़ी जोड़ रहा है। यह वह समय था जब चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स को निलंबित कर दिया गया था।

बीसीसीआई की नज़र आईपीएल की दो नई टीमों से बड़ी कमाई पर है। बीसीसीआई ने दो नई फ़्रेंचाइज़ी में से प्रत्येक के लिए 2000 करोड़ रुपये [लगभग 267 मिलियन अमेरिकी डॉलर] का आधार मूल्य निर्धारित किया है। निविदा दस्तावेज़ में सूचीबद्ध आवश्यकताओं में से एक यह ज़रूरी है कि बोलीदाताओं को पिछले तीन वर्षों के लिए कम से कम 3000 करोड़ रुपये [लगभग 400 मिलियन अमेरिकी डॉलर ] का कारोबार दिखाना होगा। अगर यह एक संघ है, तो प्रत्येक निवेशक को पिछले तीन वर्षों के लिए कम से कम 2500 करोड़ रुपये [लगभग 334 मिलियन अमेरिकी डॉलर] का कारोबार दिखाना होगा।

बड़ी संख्या में वे हो सकते हैं, लेकिन कुछ संभावित बोलीदाताओं के वैश्विक स्तर पर विशाल और विविध व्यावसायिक हित होना जरूरी हैं। उदाहरण के लिए, कंपनी की वेबसाइट पर अदानी समूह ने "सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली छह कंपनियों को मिलाकर 122.45 बिलियन अमरीकी डालर से अधिक का मार्केट कैप" सूचीबद्ध किया है। एक अन्य भारतीय व्यवसाय कंपनी जिंदल स्टील एंड पावर ने अपनी वेबसाइट पर अपना वार्षिक कारोबार "5.5 बिलियन अमरीकी डालर" रखा है। संयोग से नवीन जिंदल के भाई सज्जन जिंदल, जिंदल स्टील वर्क्स के मालिक हैं, जो दिल्ली कैपिटल्स के सह-मालिक हैं।

यह दूसरी बार है जब आरपीएसजी दो साल के लिए पुणे स्थित सुपरजायंट्स के मालिक होने के बाद आईपीएल फ़्रेंचाइज़ी ख़रीदने का प्रयास कर रहा है। समूह अन्य फ़्रेंचाइज़ी आधारित खेलों में टीमों का मालिक है, जिसमें इंडियन सुपर लीग में एटीके मोहन बागान और टेबल टेनिस लीग में आरपीएसजी मावेरिक्स शामिल हैं।

नागराज गोलापुड़ी ESPNcricinfo ग्‍लोबल न्‍यूज एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।