मैच (9)
IPL (2)
SA v SL (W) (1)
ACC Premier Cup (4)
Women's QUAD (2)
ख़बरें

श्रीलंका के कार्यकाल की समाप्ति के बाद डर्बीशायर से जुड़ेंगे आर्थर

वेस्टइंडीज़ के ख़िलाफ़ आगामी घरेलू टेस्ट सीरीज़ के अंत तक श्रीलंका टीम के साथ रहेंगे मिकी

श्रीलंका क्रिकेट ने अब तक दस वर्षों के अंतराल में सात मुख्य कोच नियुक्त किए हैं  •  PA Images via Getty Images

श्रीलंका क्रिकेट ने अब तक दस वर्षों के अंतराल में सात मुख्य कोच नियुक्त किए हैं  •  PA Images via Getty Images

21 नवंबर से तीन दिसंबर तक चलने वाली वेस्टइंडीज़ के ख़िलाफ़ घर में श्रीलंका की आगामी दो टेस्ट मैचों की सीरीज़ के बाद श्रीलंका के कोच मिकी आर्थर क्रिकेट के प्रमुख के रूप में डर्बीशायर सीसीसी में शामिल होंगे।
श्रीलंका क्रिकेट के साथ उनका अनुबंध वैसे भी वेस्टइंडीज़ सीरीज़ के अंत में समाप्त होने वाला था। जबकि आर्थर ने बार-बार इस प्रवास को बढ़ाने की तीव्र इच्छा व्यक्त की थी, माना जा रहा है कि श्रीलंका क्रिकेट ने उन्हें जवाब नहीं दिया। वेतन को लेकर कोई असहमति नहीं है और अगर श्रीलंका क्रिकेट ने उन्हें पहले की तरह ही पैकेज की पेशकश की होती तो आर्थर रुक सकते थे।
आर्थर का जाना श्रीलंका के लिए एक बड़े झटके की तरह हो सकता है, पुरुषों की राष्ट्रीय टीम से जुड़े अन्य कोचों को अपनी भूमिकाओं के लिए फ़िर से आवेदन करने की ज़रूरत है। माना जा रहा है कि बल्लेबाज़ी कोच ग्रांट फ्लावर, गेंदबाज़ी कोच चामिंडा वास और क्षेत्ररक्षण कोच शेन मैकडरमोट सभी अनिश्चित भविष्य का सामना कर रहे हैं।
इसका मतलब यह भी है कि श्रीलंका क्रिकेट ने अब तक दस वर्षों के अंतराल में सात मुख्य कोच नियुक्त किए हैं, जिसमें ज्यॉफ़ मार्श, ग्राहम फ़ोर्ड (दो अलग-अलग कार्यकालों में), पॉल फ़ारब्रेस, मार्वन अटापट्टू, चंडिका हथुरुसिंघा और अब आर्थर ने 2012 से भूमिका निभाई है। आर्थर ने कम से कम अपना अनुबंध तो पूरा किया; मार्श, फ़ारब्रेस, फ़ोर्ड (अपने दूसरे कार्यकाल में), अटापट्टू और हाथुरुसिंघा तो पूरा ही नहीं कर पाए।
आर्थर एक जानेमाने कोच रहे हैं, जिन्होंने श्रीलंका के अलावा ऑस्ट्रेलिया, साउथ अफ़्रीका और पाकिस्तान की राष्ट्रीय पुरुष टीमों के साथ काम किया है, डर्बीशायर में वह डेव ह्यूटन की जगह लेंगे, ज़िम्बाब्वे के पूर्व कप्तान ह्यूटन ने इस साल की शुरुआत में क्लब छोड़ दिया था। वह अब ज़िम्बाब्वे क्रिकेट के साथ कोचिंग मैनेजर का पद संभालेंगे।
आर्थर ने काउंटी द्वारा जारी एक बयान में कहा, "यह कई युवा खिलाड़ियों के साथ डर्बीशायर में एक रोमांचक परियोजना की शुरुआत है और मैं इसका हिस्सा बनने और क्लब में अपनी दृष्टि लाने के लिए वास्तव में उत्साहित हूं। यह एक नई चुनौती है और मैं इसके लिए उत्सुक हूं। डर्बीशायर में एक अच्छी टीम है और मैं चाहता हूं कि हम क्रिकेट की सकारात्मक शैली खेलें, हम किसी भी टीम से नहीं डरेंगे और मैं यह देखने के लिए उत्सुक हूं कि हम अपने समर्थकों के लिए क्या हासिल कर सकते हैं।" डर्बीशायर के अध्यक्ष ओएन मॉर्गन ने नई नियुक्ति के बारे में कहा, "मिकी विश्व क्रिकेट में सबसे अधिक सम्मानित कोचों में से एक है और यह एक महत्वपूर्ण शीतकालीन अवधि से पहले क्लब के लिए एक महत्वपूर्ण नियुक्ति है।"
"इस भर्ती प्रक्रिया के दौरान, मिकी ने एक काउंटी के रूप में हमारी विरासत को समझा है, लेकिन डर्बीशायर में सकारात्मक प्रभाव डालने की इच्छा के साथ हमारी महत्वाकांक्षा को भी समझा है।"
"हम पिछले सीज़न से आगे बढ़ना चाहते हैं। हमारे पास खिलाड़ियों का एक प्रतिभाशाली समूह है और क्रिकेट के नए प्रमुख के साथ एक नया दृष्टिकोण होगा, यह हमारे सदस्यों और समर्थकों के लिए एक रोमांचक समय है।"
श्रीलंका के साथ आर्थर का कार्यकाल महामारी से जूझता दिखा। इस दौरान वह टीम के साथ काम करने के लिए श्रीलंका में रहे। उनके कोच रहते मिश्रित परिणाम मिले, लेकिन अब एक रणनीति दिखने लगी थी जो पिछले कुछ महीनों में फल दे रही थी।

एंड्रयू फिदेल फर्नांडो ESPNcricinfo के श्रीलंकाई संवाददाता हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।