मैच (7)
लेजेंड्स लीग (1)
काउंटी डिवीज़न एक (1)
काउंटी डिवीज़न 2 (1)
सीपीएल (2)
इंडिया ए बनाम न्यूज़ीलैंड ए (1)
यूएई बनाम बांग्लादेश (1)
ख़बरें

सीरीज़ जीत में नए खिलाड़ियों की महत्वपूर्ण भूमिका : रज़ा

ऑलराउंडर के अनुसार ज़िम्बाब्वे की टीम चेंजिंग रूम में जीतने की संस्कृति को फिर से वापस लाने का प्रयास कर रही है

Sikandar Raza celebrates his century, Zimbabwe vs Bangladesh, 2nd ODI, Harare, August 7, 2022

वनडे सीरीज़ के पहले दो मैचों में रज़ा ने दो शानदार शतक लगाए थे  •  Jekesai Njikizana /AFP/Getty Images

ज़िम्बाब्वे के हरफ़नमौला खिलाड़ी सिकंदर रज़ा के अनुसार बांग्लादेश के ख़िलाफ़ टी20 और वनडे सीरीज़ मे मिली जीत में नए खिलाड़ियों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। ज़िम्बाब्वे ने तीसरे मैच में कप्तान रेजिस चकाब्वा को आराम दिया था।
चोटिल होने के कारण क्रेग एर्विन, टेंडई चतारा और ब्लेसिंग मुज़राबानी टीम का हिस्सा नहीं थे। वहीं शॉन विलियम्स एक व्यक्तिगत कारण से टीम का हिस्सा नहीं थे। घरेलू टीम ने चार नवोदित खिलाड़ियों सहित 17 खिलाड़ियों का इस्तेमाल किया और सभी नए खिलाड़ियों ने बढ़िया प्रदर्शन किया।
रज़ा ने कहा, "टीम के नज़रिए से इस सीरीज़ में खेलने वाले युवाओं की संख्या सबसे बड़ा सकारात्मक पक्ष है। इस श्रृंखला में हमारे कुछ बड़े नाम टीम का हिस्सा नहीं थे। हमें बहुत सारे मैच खेलने को नहीं मिले, लेकिन नए लोगों ने अच्छा प्रदर्शन किया। टोनी (मुनयोंगा) ने एक गुणवत्तापूर्ण छोटी पारी खेली। विक्टर (न्याउची) ने तीनों मैचों में बहुत अच्छी गेंदबाज़ी की। ब्रैड (एवंस) ने भी तारीफ़ योग्य प्रदर्शन किया। क्लाइव (मडांडे) ने भी अपनी क्लास की एक झलक दिखाई।"
रज़ा ने आगे कहा, "सभी सीनियर खिलाड़ी चोटिल होने के कारण टीम का हिस्सा नहीं हैं। किसी को आराम नहीं दिया गया है। हम चेंजिंग रूम में जीतने की संस्कृति लाने की कोशिश कर रहे हैं। हमने इस बारे में शिक़ायत की है कि ज़िम्बाब्वे को बहुत सारे मैच खेलने को नहीं मिल रहे हैं। इसलिए अब जब हमें मैच मिल रहे हैं तो हमने आराम करने के बारे में नहीं सोचा है।"
रज़ा अपने दो शतकों के कारण काफ़ी चर्चा में थे लेकिन उन्होंने महसूस किया कि उनके अलावा भी कई खिलाड़ियों ने बढ़िया खेल दिखाया। इनोसेंट काइया और चकाब्वा ने भी शतक बनाए, साथ ही ल्यूक जॉन्गवे ने छोटी लेकिन महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाते हुए नियमित रूप से टीम की बहुत मदद की।"
"अकेला आदमी क्रिकेट मैच में जीत नहीं दिला सकता। जिस हीरो के बारे में कोई बात नहीं कर रहा है वो हैं ल्यूक जॉन्गवे। उन्होंने मुश्किल परिस्थितियों में हर मैच में अच्छी गेंदबाज़ी की। साथ ही उन्होंने अच्छी बल्लेबाज़ी भी की है। उन्होंने पहले वनडे में एक असाधारण छोटा कैमियो खेला था।"
रज़ा ने कहा, "आप कहते हैं कि सबका ध्यान मुझ पर है, लेकिन मेरा ध्यान उन लोगों पर है जिन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया है, लेकिन उनका उल्लेख नहीं किया जा रहा है। ल्यूक, टोनी, क्लाइव, विक्टर, ब्रैडली जैसे खिलाड़ियों ने इस सीरीज़ में विपक्षी दल की कमर को तोड़ने का काम किया है।"
उनका यह भी मानना ​​​​था कि नए कोच डेव ह्यूटन ने टीम में एक शांत और निडरता का माहौल बनाया है, जिससे टीम में एक नयापन है।
"आपको उनके मूल्य को समझने के लिए चेंजिंग रूम में रहना होगा। यह कोई रहस्य नहीं है कि उन्होंने बहुत ही कम समय में असाधारण रूप से अच्छा प्रदर्शन किया है। डेव ने उस निडर क्रिकेट को कुछ जवाबदेही के साथ टीम में लाने का प्रयास किया है। उन्होंने ठीक ही कहा कि हमारी टीम आज थोड़ी सी लापरवाह होकर खेल रही थी।" उन्होंने कहा कि ज़िम्बाब्वे की टीम में सुधार का एक बड़ा संकेत यह देख कर भी पता चलता है कि तीसरे वनडे में रिचर्ड नगरावा और न्याउची ने 10वें विकेट के लिए 68 रन कैसे जोड़े। "दर्शक भी लगातार गीत गाए जा रहे थे। हम जिस क्रिकेट ब्रांड को खेलने के लिए प्रोत्साहित करने की कोशिश कर रहे हैं वह निडरता के साथ आगे बढ़ती है। 130 पर आठ विकेट गंवाने के बाद हम हार मान सकते थे लेकिन हमने ऐसा बिल्कुल नहीं किया।"
"हम वास्तव में विश्वास करना चाहते हैं कि हम किसी भी स्थिति से खेल सकते हैं। नंबर 10 और 11 के बल्लेबाज़ों के बीच 68 रन की साझेदारी देखना उत्साहजनक था। मैं कोच से कह रहा था कि आपको अपना नया नंबर 5 मिल गया है। मैं नीचेल क्रम में बल्लेबाज़ी कर लूंगा। " रज़ा ने मुस्कुराते हुए कहा।

मोहम्मद इसाम (@isam84) ESPNcricinfo के बांग्लादेशी संवाददाता हैं। अनुवाद ESPNcricinfo के सब एडिटर राजन राज ने किया है।