जुलाई में श्रीलंका दौरे पर सीमित ओवर की सीरीज़ के लिए राहुल द्रविड़ भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच की भूमिका निभा सकते हैं। हालांकि बीसीसीआई की ओर से इस बात का अभी कोई औपचारिक एलान नहीं हुआ है, लेकिन ईएसपीएन क्रिकइंफ़ो को मिली जानकारी के मुताबिक़ द्रविड़ के कंधों पर ये ज़िम्मेदारी आ सकती है।
टीम इंडिया के मुख्‍य कोच रवि शास्त्री, गेंदबाज़ी कोच भरत अरुण और बल्‍लेबाज़ी कोच विक्रम राठोर जून की शुरुआत में ही इंग्लैंड के लिए रवाना हो जाएंगे। वे सभी सितंबर तक इंग्लैंड में ही रहेंगे, जहां भारत को पहले विश्‍व टेस्ट चैंपियनशिप का फ़ाइनल खेलना है और फिर मेज़बान टीम के ख़िलाफ़ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज़ भी खेली जाएगी।
इस बीच जुलाई में भारत को सीमित ओवर की सीरीज़ के लिए श्रीलंका का दौरा करना है, जहां 13 से 27 जुलाई के बीच भारत और श्रीलंका के बीच तीन मैचों की ODI और T20I सीरीज़ प्रस्तावित है। इस दौरे पर भारतीय क्रिकेट टीम के बेंच स्ट्रेंथ के पास ख़ुद को साबित करने का सुनहरा मौक़ा होगा, क्योंकि इंग्लैंड गए भारत के शीर्ष 20 खिलाड़ी और चार स्टैंडबाई खिलाड़ी श्रीलंका दौरे का हिस्सा नहीं होंगे।
द्रविड़ लंबे समय से भारतीय अंडर-19 टीम और भारत ए के कोच रहे हैं, द्रविड़ उन ज़्यादातर खिलाड़ियों के साथ रहे हैं जिन्हें इस दौरे के लिए टीम में चुना जाना है। फ़िलहाल द्रविड़ बेंगलुरु में स्थित राष्‍ट्रीय क्रिकेट एकेडमी (एनसीए) के प्रमुख हैं।
ईएसपीएन क्रिकइंफ़ो को मिली जानकारी के मुताबिक़ पूर्व भारतीय तेज़ गेंदबाज़ पारस महांब्रे श्रीलंका दौरे पर बोलिंग कोच हो सकते हैं। महांब्रे भी भारत ए और अंडर-19 टीम के कोच रह चुके हैं।
द्रविड़ ने टीम इंडिया के युवा खिलाड़ियों को तराशने और उन्हें परखने में बड़ी भूमिका निभाई है, उनकी कोचिंग में भारत ए और अंडर-19 टीम ने कई प्रतियोगिताओं में जीत दर्ज की है। बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली भी NCA में शानदार योगदान के लिए अपने पूर्व साथी की तारीफ़ कर चुके हैं।
श्रीलंका क्रिकेट के अनुसार भारत और श्रीलंका के बीच 13, 16 और 19 जुलाई को ODI सीरीज़ के मैच, जबकि 22, 24 और 27 जुलाई को T20I सीरीज़ के मैच आयोजित होंगे। ऐसा माना जा रहा है कि भारतीय टीम पांच जुलाई को श्रीलंका पहुंचेगी जिसके बाद उन्हें एक सप्ताह तक क्वरंटीन रहना होगा। दौरा ख़त्म होने के बाद 28 जुलाई को भारतीय क्रिकेट टीम घर वापस आ जाएगी।
कोविड सुरक्षा मानकों के मद्देनज़र सभी मुक़ाबले बायो-बबल के अंदर होंगे और मैदान में दर्शकों को आने की इजाज़त नहीं होगी। हंबनटोटा के पास स्थित सूरियावेवा ग्राउंड और दंबुला में स्थित अंतरराष्‍ट्रीय स्टेडियम को मैचों की मेज़बानी मिल सकती है।
इससे पहले भारत ने श्रीलंका का दौरा 2018 में किया था, जहां टीम इंडिया ने निदहास टी20 त्रिकोणीय सीरीज़ जीती थी, जबकि सभी प्रारूप की द्विपक्षीय सीरीज़ के लिए भारत ने आख़िरी बार 2017 में श्रीलंका का दौरा किया था।

अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट सैयद हुसैन ने किया है।