फ़ीचर्स

आंकड़े झूठ नहीं बोलते: विश्व कप में दिखता है कोहली का 'विराट' रूप

पर्थ के मैदान पर साउथ अफ़्रीका के तेज़ गेंदबाज़ों को भारत के ख़िलाफ़ अपने रिकॉर्ड में सुधार लाना होगा

Virat Kohli celebrates an iconic innings and victory, India vs Pakistan, Men's T20 World Cup 2022, Super 12s, MCG, October 23, 2022

विराट कोहली टी20 विश्व कप में सर्वाधिक रन बनाने का रिकॉर्ड अपने नाम करने से सिर्फ़ 28 रन दूर हैं  •  Getty Images

पाकिस्तान और नीदरलैंड्स को हराने के बाद भारत के पास बड़ा मौक़ा है साउथ अफ़्रीका को पछाड़कर लगभग सेमीफ़ाइनल में जगह सुनिश्चित कर लेने का। हालांकि पर्थ के मैदान पर गति और उछाल के चलते साउथ अफ़्रीका के विख्यात तेज़ गेंदबाज़ी क्रम के विरुद्ध यह कोई आसान काम नहीं। चलिए देखें आंकड़े क्या कहते हैं कि किस टीम का पलड़ा भारी रहेगा।

विश्व कप और विराट कोहली - 'मेड फ़ॉर इच अदर'

भारत के लिए विराट कोहली पहले दोनों मैचों में अर्धशतक लगाकर बढ़िया फ़ॉर्म में नज़र आए हैं। रविवार को अगर वह 28 रन बना लेंगे तो टी20 विश्व कप के इतिहास में सर्वाधिक रन बनाने वाले पुरुष खिलाड़ी बनेंगे। कोहली ने अब तक 21 पारियों में 989 रन बनाए हैं और मौजूदा रिकॉर्ड के मालिक महेला जयवर्दना को अपने 1016 रन बनाने के लिए 31 पारियां लगी थी। कोहली का 89.9 का औसत भी न्यूनतम 250 रन बनाने वाले बल्लेबाज़ों में सर्वोपरि है और उन्होंने किसी भी अन्य बल्लेबाज़ से अधिक 12 अर्धशतक लगाए हैं। ऑस्ट्रेलिया में खेलते हुए किसी विदेशी खिलाड़ी द्वारा सर्वाधिक रन (12 पारियों में 85.0 के औसत से 595 रन) और किसी भी देश में न्यूनतम 500 रन बनाने वाले किसी बल्लेबाज़ का सर्वाधिक औसत (ऑस्ट्रेलिया में 85.0) भी उन्हीं के नाम है। हालांकि साउथ अफ़्रीका के विरुद्ध टी20आई में उनका औसत 38.3 का है, जो कि न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ उनके औसत (34.6) के बाद सबसे कम है। यह सिर्फ़ यह ज़ाहिर करता है कि कोहली ने ख़ुद के लिए ही कुछ अविश्वसनीय मानदंड बनाए हैं जिनपर हमेशा खरा उतरना मुश्किल है।

अश्विन होंगे एक अहम किरदार

साउथ अफ़्रीका के लिए हालिया समय में दो अनुभवी और प्रभावशाली बल्लेबाज़ रहे हैं क्विंटन डिकॉक और डेविड मिलर। अपनी पिछली चार पारियों में डिकॉक ने 123.50 के औसत और 168 के स्ट्राइक रेट से 247 रन बनाए हैं और इस फ़ॉर्म का सिलसिला भारत में हुए टी20 सीरीज़ के आख़िरी दो मैचों से शुरू हुआ था। मिलर ने अब तक विश्व कप में चार ही गेंदें खेली हैं लेकिन भारत दौरे पर उन्होंने भी इस प्रारूप में अपने करियर का सर्वाधिक स्कोर (106 नाबाद) खड़ा किया था। भारत के पास रवि अश्विन के रूप में इनका तोड़ है। डिकॉक दाएं हाथ के ऑफ़ स्पिनर के विरुद्ध 23.4 के औसत और 114 के स्ट्राइक रेट से रन बनाते हैं जो उनके लिए किसी गेंदबाज़ी शैली के ख़िलाफ़ सबसे ख़राब रिकॉर्ड है। अश्विन ने टी20 क्रिकेट में अब तक डिकॉक को 12 पारियों में चार बार और मिलर को 17 पारियों में तीन बार आउट किया है। दोनों बल्लेबाज़ों को इस प्रारूप में केवल तीन गेंदबाज़ों ने ही इससे ज़्यादा बार अपना शिकार बनाया है।

भारत के ख़िलाफ़ साउथ अफ़्रीकी तेज़ गेंदबाज़ी होती है फ़ेल

यह मैच भले पर्थ में हो लेकिन साउथ अफ़्रीका के प्रमुख तेज़ गेंदबाज़ों का रिकॉर्ड भारत के विरुद्ध ख़ासा निराशाजनक रहा है। अनरिख़ नॉर्खिये ने भारत के विरुद्ध 43.2 के औसत और 9.8 की इकॉनमी से गेंदबाज़ी की है और यह दोनों ही आंकड़े उनके लिए किसी भी विरोधी टीम से अधिक हैं। उनके करियर के चार सबसे महंगे स्पेल भारत के विरुद्ध हैं और तीनों इसी साल आए हैं, जिनमें हाल ही में गुवाहाटी में तीन ओवर में 41 रनों का उनका सबसे महंगा स्पेल शामिल है। कगिसो रबाडा का भारत के ख़िलाफ़ 37 का औसत इस प्रारूप में उनका सबसे ख़राब प्रदर्शन रहा है और वैसे भी 2022 में उनका फ़ॉर्म इस बात से साफ़ होता है कि उन्होंने इस साल 11 मैचों में 48.7 के औसत से केवल छह विकेट लिए हैं।
वेन पार्नेल वैसे तो अपनी कोण के साथ एक असरदार विकल्प हैं लेकिन भारत के ख़िलाफ़ उन्होंने 10 मैच में 48.3 के औसत से केवल छह विकेट लिए हैं। ऑस्ट्रेलिया में भी उनका रिकॉर्ड काफ़ी साधारण है, जहां सात मैच में उन्होंने 50 के औसत से चार विकेट लिए है। साउथ अफ़्रीका एकादश में लुंगी एनगिडी को शामिल करना चाहेंगे, जिन्होंने पिछले साल के टी20 विश्व कप के बाद साउथ अफ़्रीका के लिए सर्वाधिक 17 टी20आई विकेट लिए हैं। हाल ही में हुए भारतीय दौरे पर वह थोड़े महंगे साबित हुए थे लेकिन जून में उन्होंने भारत के विरुद्ध किफ़ायती गेंदबाज़ी करते हुए विकेट भी झटके थे।

बड़ा कीर्तिमान है भुवी की नज़र में

भारतीय तेज़ गेंदबाज़ भुवनेश्वर कुमार अगर दो विकेट लेते हैं तो एक साल में सर्वाधिक टी20 अंतर्राष्ट्रीय विकेट लेने वाले पुरुष खिलाड़ी बन जाएंगे। भुवनेश्वर ने अब तक इस साल 35 विकेट लिए हैं और 2021 में साउथ अफ़्रीका के तबरेज़ शम्सी और श्रीलंका के वनिंदू हसरंगा ने 36 विकेट लिए थे। भुवनेश्वर 88 टी20 अंतर्राष्ट्रीय विकेटों के साथ भारत के लिए सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज़ भी बन चुके हैं (युज़वेंद्र चहल 85 विकेट के साथ दूसरे स्थान पर हैं)। साउथ अफ़्रीका वैसे भुवनेश्वर की पसंदीदा टीम है। उनके विरुद्ध उन्होंने 17.0 के औसत और 6.8 की इकॉनमी से 14 विकेट लिए हैं। भुवनेश्वर के सर्वश्रेष्ठ तीन गेंदबाज़ी विश्लेषण में साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ 2018 में जोहैनसबर्ग में लिए 5/24 और इसी साल कटक में लिए 4/13 शामिल हैं।

देबायन सेन ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सहायक एडिटर और स्थानीय भाषा लीड हैं।