मैच (16)
आईपीएल (1)
T20I Tri-Series (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
CE Cup (2)
ENG v PAK (1)
USA vs BAN (1)
WI vs SA (1)
ख़बरें

बाबर आज़म : घरेलू टेस्ट सीज़न उम्मीद के अनुसार नहीं गया

"आप पिचों का बहाना नहीं दे सकते, लेकिन एक टीम को रचने में समय लगता है"

Saud Shakeel and Sarfaraz Ahmed put on 123 runs together, Pakistan vs New Zealand, 2nd Test, Karachi, 5th day, January 6, 2022

शतकीय साझेदारी के दौरान शकील और सरफ़राज़  •  AFP/Getty Images

ढलते दिन में टेस्ट को ड्रॉ करवाने का मज़ा भले ही कुछ और हो, पाकिस्तान कप्तान बाबर आज़म ने घरेलू टेस्ट सीज़न के प्रदर्शन पर निराशा जताते हुए परिणामों को उम्मीद से अलग बताया। पाकिस्तान ने 2022-23 सीज़न में आठ टेस्ट घर पर खेले और एक में भी उन्हें विजय हाथ नहीं लगी। हालांकि न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ दो टेस्ट की सीरीज़ शुक्रवार को 0-0 की बराबरी पर ख़त्म हुई।

मैच के बाद प्रेस कॉन्फ़्रेंस में बाबर बोले, "टेस्ट सीज़न अपेक्षाकृत नहीं रहा। यह कोई बहाना नहीं है लेकिन चोटिल खिलाड़ियों के चलते हमें टीम संयोजन में दिक़्क़त आई। पिचों पर बात हो रही है लेकिन परिस्थितियां हर शहर में अलग होती हैं। आप पिच बनवाने में सुझाव दे सकते हैं लेकिन आपको वहीं खेलना पड़ता है, जो आपको मिले। आप पिचों का बहाना नहीं दे सकते। हमें वैसी पिचें मिली हैं जैसी हम चाहते हैं, लेकिन फिर भी हम मैचों को अपने पक्ष में नहीं ले जा सके।"



पिछले महीने इंग्लैंड से टेस्ट सीरीज़ 3-0 के क्लीन स्वीप से हारने के बाद पाकिस्तान ने न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ दोनों टेस्ट मैचों में ख़ुद को बैकफ़ुट पर पाया। अंतत: टेस्ट के ड्रॉ होने पर दोनों ही बार मेज़बान टीम ज़्यादा उत्साहित नज़र आई। पहले टेस्ट में ख़राब रौशनी की वजह से मैच ख़त्म होने के समय न्यूज़ीलैंड के पास नौ विकेट हाथ में थे और उन्हें केवल 77 रन चाहिए थे। शुक्रवार को मेहमान को एक ही विकेट की ज़रूरत थी। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया सीरीज़ को जोड़ दें तो पाकिस्तान ने दो साल से घर पर कोई टेस्ट नहीं जीता।

पाकिस्तान के लिए यह आसानी से तीसरा लगातार हारा सीरीज़ बन सकता था, ख़ासकर तब जब 87वें ओवर में सरफ़राज़ अहमद लेग साइड में कैच थमा बैठे थे। इसके बाद नंबर 11 अबरार अहमद और नसीम शाह ने 21 गेंदों का सामना करके ड्रॉ सुनिश्चित कराया।

बाबर ने उनकी प्रशंसा करते हुए कहा, "जब आप चारों तरफ़ फ़ील्डर से घिरे हों, तब नई गेंद का सामना करना बहुत कठिन है। जिस तरह सैफ़ी [सरफ़राज़] ने हमें विपरीत परिस्थिति से बचाया वह सराहनीय था। उनके और सउद [शकील] के बीच की साझेदारी ने हमें मैच में वापस लौटाया था। वह टेस्ट क्रिकेट में चार साल बाद लौट रहे थे और यह एक शानदार वापसी रही।"

आख़िरी सेशन की शुरुआत में मैच पूरी तरह संतुलित लग रहा था। सरफ़राज़ और शकील की बीच छठे विकेट की साझेदारी 99 रनों की बन चुकी थी। न्यूज़ीलैंड के तेज़ गेंदबाज़ केवल अनुशासन का सहारा लेते दिख रहे थे लेकिन पाकिस्तान के लिए इस साझेदारी का रन रेट सिर्फ़ 2.25 का था। लगभग दो घंटे के खेल में 140 रन चाहिए थे और चारों परिणाम संभव थे।

बाबर ने बताया, "हम टी के बाद जीत के लिए जाना चाहते थे। आवश्यक रन रेट लगभग 4.5 का था और हमें कुछ जोखिम उठाने पड़ते। अगर ऐसे में हम आउट हो जाते तो आप कुछ अलग सवाल ही पूछ रहे होते। जब न्यूज़ीलैंड ने देखा कि हम जीत के लिए जा रहे हैं तो उन्होंने फ़ील्ड को और खोल दिया। इससे मैच फिर से बदल गया।"

जब सरफ़राज़ शतक पार कर चुके थे तो उनके साथ आग़ा सलमान किसी भी पाकिस्तानी खिलाड़ी से बेहतर स्ट्राइक रेट के साथ बल्लेबाज़ी कर रहे थे। सलमान के बल्ले से चार चौके आए थे और न्यूज़ीलैंड की फ़ील्डिंग भी थोड़ी लचर लग रही थी। ऐसे में मैट हेनरी ने रिवर्स स्विंग के साथ सलमान को परास्त किया और मैच का रुख़ एक बार फिर पलट दिया।

बाबर ने कहा, "आग़ा आउट हो गए और इससे हमारे पुछल्ले बल्लेबाज़ों को उतरना पड़ा। तब हमारा लक्ष्य था केवल गेम को डीप ले जाना। जब तक सैफ़ी अंदर थे, हमें भरोसा था कि वह मैच की दिशा भांप लेंगे। जब सेट बल्लेबाज़ आउट हुए तब हमें पता था कि आख़िर के विकेट हम हालिया मैचों में जल्दी में गंवाते आ रहे हैं।"

आख़िर में घरेलू सीज़न जीत के बिना ख़त्म ना करने की चाह के बावजूद पाकिस्तान को वास्तविक विकल्प को चुनकर आख़िरी विकेट को बचाने के लिए परिश्रम करनी पड़ी। बाबर ने इस सीज़न उनकी टीम पर फ़िटनेस के बुरा असर पर निराशा जताते हुए कहा, "हम अपनी ग़लतियों से सीख रहे हैं। सब अपने विचार रख सकते हैं लेकिन हमें ख़ुद पर ध्यान केंद्रित रखना है। एक टीम को रचने में समय लगता है। हमारी टेस्ट टीम बहुत अच्छी रही है लेकिन कुछ खिलाड़ियों के इंजरी से संतुलन और फ़ॉर्म पर असर पड़ा। हमने भरसक कोशिश की लेकिन यह पर्याप्त नहीं था। हमें आगे चलते हुए टेस्ट विशेषज्ञ खिलाड़ियों को पहचानना पड़ सकता है। एक बात तो तय है, कि अगर आपको आधुनिक क्रिकेट में तीनों प्रारूप खेलना है तो आपको ज़बरदस्त फ़िट होना पड़ेगा।"

दन्याल रसूल ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं, अनुवाद ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो हिंदी के प्रमुख देबायन सेन ने किया है